NDTV Khabar

क्या होता है Cardiac Arrest, जिससे सुषमा स्वराज की मौत हुई, जानें लक्षण, बचाव के उपाय, इलाज, फर्स्ट एड और आहार से जुड़े टिप्स

पूर्व विदेश मंत्री सुषमा स्वराज (Sushma Swaraj) का मंगलवार रात निधन हो गया. वह 67 वर्ष की थीं. सुषमा स्वराज की मृत्यु कार्डियक अरेस्ट के कारण हुई. कार्डियक अरेस्ट (cardiac arrest) और हार्ट अटैक के मामले आजकल बहुत बढ़ गए हैं.

 Share
ईमेल करें
टिप्पणियां
क्या होता है Cardiac Arrest, जिससे सुषमा स्वराज की मौत हुई, जानें लक्षण, बचाव के उपाय, इलाज, फर्स्ट एड और आहार से जुड़े टिप्स

Cardiac Arrest: कार्डियक अरेस्ट से मौके पर ही मौत हो सकती है.

खास बातें

  1. अक्सर लोग कार्डियक अरेस्ट को हार्ट अटैक का ही दूसरा नाम समझते हैं.
  2. अब सवाल उठता है कि कार्डियक अरेस्ट क्या है.
  3. कार्डियक अरेस्ट तब होता है जब किन्हीं कारणों से दिल काम करना बंद कर दे.

What Is Cardiac Arrest: पूर्व विदेश मंत्री सुषमा स्वराज (Sushma Swaraj) का मंगलवार रात निधन हो गया. वह 67 वर्ष की थीं. सुषमा स्वराज की मृत्यु कार्डियक अरेस्ट के कारण हुई. कार्डियक अरेस्ट (cardiac arrest) और हार्ट अटैक के मामले आजकल बहुत बढ़ गए हैं. अक्सर लोग कार्डियक अरेस्ट को हार्ट अटैक का ही दूसरा नाम समझते हैं. लेकिन ऐसा नहीं है. अब सवाल उठता है कि कार्डियक अरेस्ट क्या है. तो हम आपको बता दे कि कार्डियक अरेस्ट तब होता है जब किन्हीं कारणों से दिल काम करना बंद (heart stops working) कर देता है. असल में कार्डियक अरेस्ट वह स्थिति है जब दिल के अंदर वेंट्रीकुलर फाइब्रिलेशन पैदा हो जाए. आम शब्दों में कहें तो दिल की धड़कन रुक जाने की स्थिति को कार्डियक अरेस्ट कहा जाता है. इस स्थिति में व्यक्ति की तुरंत मृत्यु हो सकती है. कार्डियक अरेस्ट को हार्ट अटैक से ज्यादा खतरनाक माना जाता है. कार्डियक अरेस्ट का इलाज करने के लिए मरीज को कार्डियोपल्मोनरी रेसस्टिसेशन (सीपीआर) दिया जाता है, जिससे उसकी उसकी हृदयगति (Heart Beat) यानी दिल की धड़कनों को नियमित किया जा सके. अंतिम स्थिति में मरीज को 'डिफाइब्रिलेटर' से बिजली का झटका दिया जाता है, जिससे दिल की धड़कन को नियमित होने में मदद मिलती सकती है. वे लोग जो पहले से दिल की बीमारी से जूझ रहे हों या हार्ट से जुड़ी किसी समस्या (Heart Problem) का सामना कर रहे हों या हार्ट अटैक के मरीज रहे हों, में कार्डियक अरेस्ट का खतरा अधिक होता है. अगर किसी के परिवार में दिल की बीमारी का इतिहास रहा है, तो भी उन्हें सावधान रहना चाहिए.

कार्डियक अरेस्ट के लक्षण | Symptoms of cardiac arrest


जैसा कि हमने आपको बताया कि कार्डियक अरेस्ट अचानक होता है ऐेसे में आपको बहुत पहले इसके लक्षण पहचानने का मौका तो नहीं मिलता. लेकिन फिर भी उसी समय अगर आप समझदारी दिखाएं तो इसे पहचान सकते हैं- 

- छाती में तेज दर्द 
- गर्दन, पीठ और सीधे हाथ में खिंचाव और दर्द
- शरीर में कमजोरी और थकान महसूस होना
- चक्कर या उल्टी की शिकायत होना

इमरजेंसी और अचानक आए कार्डियक अरेस्ट की स्थिति में क्या लक्षण दिखते हैं

  1. छाती में दर्द
  2. होश खोना
  3. नब्ज का रुक जाना
  4. सांस लेने में दिक्कत होना
  5. सांस ही न आना

ऐसी स्थिति में चिकित्सा सहायता लेना बहुत जरूरी है. इन लक्षणों के साथ किसी को भी मौत से बचने के लिए तुरंत इलाज किया जाना चाहिए.

कार्डियक अरेस्ट : क्या करें आपात स्थिति में | Cardiac Arrest: What to do during an emergency?

कार्डिएक अरेस्ट दिल के दौरे से अलग है. यह एक गंभीर स्थिति है, जिसे तुरंत डॉक्टरी मदद की जरूरत होती है. जब हृदय काम नहीं करता है तो मरीज को रक्त पंप करने में सहायता के लिए कार्डियोपल्मोनरी रिससिटेशन यानी सीपीआर (cardiopulmonary resuscitation (CPR) दिया जा सकता है. लेकिन चिकित्सा सहायता लेने में देरी नहीं करनी चाहिए. कुछ मिनटों के भीतर किसी भी प्रकार की चिकित्सा सहायता रोगी के जीवन को बचा सकती है. ऐसी स्थिति में रोगी को तुरंत अस्पताल ले जाएं.

एस्टर सीएमआई अस्पताल के वरिष्ठ सलाहकार इंटरवेंशनल कार्डियोलॉजी डॉ. प्रदीप कुमार का कहना है कि "कार्डिएक अरेस्ट हार्ट अटैक से अलग होता है. जब भी कोई मरीज बिना पल्स के गिरता है, तो कार्डियक मसाज शुरू करना पड़ता है और एम्बुलेंस को तुरंत बुलाना पड़ता है. इस बात का ध्यान रखें कि डिफिब्रिलेटर और वेंटिलेटर वाली एम्बुलेंस ही बुलाएं."

a03f4hu

Cardiac Arrest Symptoms: कार्डियक अरेस्ट में तुरंत डॉक्टर के पास जाएं.Photo Credit: iStock

"कार्डियक अरेस्ट का मतलब है किसी के दिल की धड़कन का बंद होना है. पुनर्जीवन प्रदान करने में 3 मिनट की देरी से भी मस्तिष्क की स्थायी क्षति हो सकती है और यहां तक कि मृत्यु भी हो सकती है. जब भी कोई व्यक्ति गिरता है और नाड़ी महसूस नहीं होती है, तो तुरंत हृदय की मालिश यानी कार्डियक मसाज (cardiac massage) शुरू की जानी चाहिए. यह एंबुलेंस को कॉल करने के बाद प्रति मिनट 100 से 120 के संकुचन के साथ की जानी चाहिए. कार्डिएक कंप्रेशन (Cardiac compressions) एकमात्र ऐसी चीज है जो आप एंबुलेंस के आने तक कर सकते हैं. और यह इतनी आसान है कि कोई भी इसे कर सकता है. " डॉ प्रदीप कुमार ने आगे कहा.

कार्डियक अरेस्ट से बचाव के उपाय | Cardiac arrest prevention

कार्डियक अरेस्ट अचानक से होता है, जिसे उस क्षण रोका नहीं जा सकता है. लेकिन अगर आप स्वस्थ जीवनशैली अपनाते हैं, तो आप इसके खतरे को कम कर सकते हैं. इसके लिए आप आहार में कुछ बातों का ध्यान रख सकते हैं. तो चलिए हम आपको बताते हैं कि आप कार्डियक अरेस्ट के खतरे को कम करने के लिए किस तरह का आहार ले सकते हैं और क्या क्या सावधानियां बरत सकते हैं- 


1. स्वस्थ खाएं: एक स्वस्थ और संतुलित आहार आपके दिल के स्वास्थ्य में सुधार कर सकता है. ऐसी चीजों को डाइट में शामिल करें जो एंटीऑक्सिडेंट से भरपूर हों. ताजे फल और सब्जियां सबसे अच्छे विकल्प हैं, जिन्हें आप अपने आहार में शामिल कर सकते हैं.

2. दिल की सेहत को बनाए रखने के लिए धूम्रपान छोड़ें: धूम्रपान आपके फेफड़ों के साथ-साथ आपके दिल के स्वास्थ्य को भी नकारात्मक रूप से प्रभावित कर सकता है. धूम्रपान अन्य गंभीर जटिलताओं को भी जन्म दे सकता है, इसलिए, समग्र स्वास्थ्य के लिए धूम्रपान छोड़ने की सलाह दी जाती है.

3. अपने कोलेस्ट्रॉल के स्तर को नियंत्रण में रखें: हृदय रोगों के लिए खराब कोलेस्ट्रॉल स्तर भी एक प्रमुख कारक है. तो अपने आहार से तेल, तले-भुने और बैड फैट से भरपूर आहार को अलविदा कहें. कोलेस्ट्रॉल को संतुलित रखने के लिए प्रोसेस्ड फूड और खराब वसा वाले खाद्य पदार्थों से बचें.

4. व्यायाम: नियमित रूप से व्यायाम करना स्वाभाविक रूप से स्वस्थ रहने का सबसे अच्छा तरीका है. व्यायाम से दिल की सेहत अच्छी रहेगी. 

Heart Attack Causes, Prevention: क्या होते हैं हार्ट अटैक के कारण और दिल के दौरे से बचने के उपाय

अचानक आए कार्डियक अरेस्ट से किसी भी तरह बचाव या टाला नहीं किया जा सकता. इसके लिए जितना जल्दी हो सकते डॉक्टरी सहायता के लिए जाएं. इस लेख में दी गई जानकारी किसी भी तरह से डॉक्टरी सलाह का विकल्प नहीं है. यह केवल सामान्य जानकारी के लिए उपलब्ध कराई गई सामग्री है.

और खबरों के ल‍िए क्ल‍िक करें.

Home Remedies For Cold: सर्दी-जुकाम से बचाव के उपाय, रसोई में ही मि‍लेंगे ये घरेलू नुस्खे

Vitamin D Foods: विटामिन डी से भरपूर 7 आहार, जो करेंगे विटामिन डी की कमी को दूर

टिप्पणियां

लहसुन से कैसे कंट्रोल करें ब्लड शुगर या डायबिटीज? लहसुन के फायदे और नुकसान



Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर लाइक और ट्विटर पर फॉलो करें.


Advertisement