NDTV Khabar

सिरदर्द हो या सूजन.... हर मर्ज की दवा हैं ये छोटे-छोटे उपाय

36 Shares
ईमेल करें
टिप्पणियां
सिरदर्द हो या सूजन.... हर मर्ज की दवा हैं ये छोटे-छोटे उपाय
नई दिल्‍ली: आजकल की भागदौड़-भरी जिंदगी और खानपान की गलत आदतों के कारण अकसर लोग कब्‍ज, सिरदर्द, पैरों में सूजन जैसी समस्‍याओं से परेशान रहते हैं. साधारण-सी लगने वाली ये बीमारियां कई बार काफी मुसीबत में डाल देती हैं. रोज-रोज इनसे लड़ने के लिए दवाईयां खाना आपकी सेहत को काफी नुकसान पहुंचा सकता है. अगर आप बिना साइड इफेक्ट्स के इन बीमारियों से लड़ना चाहते हैं, तो ये घरेलू टिप्‍स ट्राई करें, आपको लाभ जरूर मिलेगा.

नींबू के टुकड़े को काटकर दाद पर मलने से दाद की खुजली कम हो जाती है और थोड़े ही दिनों में दाद बिल्कुल मिट जाता है. इसको शुरूआत में दाद पर लगाने से कुछ जलन-सी महसूस होती है.

लकवे के प्रभाव को कम करने के लिये सूखी अदरक का पाउडर, गर्म मसूर की दाल को मिलाकर खाने से फायदा होता है.
अजवाइन की पत्तियों में इसके तने या बीज से पांच गुना ज्‍यादा कैल्शियम और मैग्‍नीशियम होता है. इसमें विटामिन सी की मात्रा भी बहुत होती है. यह आपके दिल को स्‍वस्‍थ रखता है और बढ़ती उम्र के लक्षणों को बाहर आने से बचाता है. इससे आपका रक्‍तचाप नियंत्रित रहता है और इसमें कैंसर विरोधी गुण भी होते हैं.

गाजर और शलजम के पत्‍तों में कैल्शियम, मैग्‍नीशियम, नियासिन, लोहा, जस्‍ता, विटामिन बी, विटामिन के और एंटीऑक्‍सीडेंट होते हैं. ये कैंसर जैसी घातक बीमारी से लड़ने की शक्ति प्रदान करते हैं और आपकी हड्डियों को मजबूत बनाते हैं.

दांत में कीड़ा लगने पर हींग का छोटा टुकड़ा सोते वक्त दांत में दबाकर सोएं. इसे पानी में उबालकर कुल्ला करने से दांतों के दर्द में लाभ होता है.

तरबूज का छिलका, सफेद या हरे रंग का होता है जो सिट्रोनेल्‍ला नामक पदार्थ से मिलकर बनता है. इसमें अमीनो एसिड की मात्रा काफी होती है जिससे शरीर में रक्‍त का संचार अच्‍छी तरह होता है और रक्‍त वाहिकाओं की क्रिया सुचारू रूप से चलती है.

20-25 ग्राम तिल चबाकर ऊपर से गुनगुना पानी पीने से पेटदर्द में आराम मिलता है. 50 ग्राम तिल भूनकर उसे कूट लें और थोड़ी चीनी मिलाकर खाएं. इससे कब्ज में राहत मिलेगी.

एक छोटा चम्मच हल्दी पाउडर, एक चम्मच पिसी चीनी, शहद, एक चुटकी चूना व थोड़ा पानी मिलाकर पेस्ट बनाएं. सोने से पहले घुटनों पर लगाकर क्रेप बैंडेज़ या पुराना कपड़ा बांध लें. रातभर लगे रहने दें व सुबह पानी से धो लें. दो हफ्ते रोजाना करने से सूजन, खिंचाव व चोट आदि से होने वाले दर्द में आराम होगा.

अगर बहुत कोशिश के बाद भी आपका सिरदर्द जाने का नाम नहीं ले रहा है तो एक सेब काट लें और उस पर नमक डालकर खाएं. सिरदर्द में राहत पाने के लिए ये एक बहुत कारगर उपाय है.

शहद के साथ आंवला खाने से अस्‍थमा, ब्रोंकाइटिस और सांस संबंधी अन्‍य समस्‍याओं से राहत मिलती है. यह एंटीऑक्‍टसीडेंट से भरपूर होता है जिसके कारण इसे खाने से फेफड़ों से विषाक्‍त पदार्थों और मुक्‍त कणों को हटाने में मदद मिलती है.

गेहूं, चावल, बाजरा और साबुत मूंग को समान मात्रा में लेकर सेंककर इसका दलिया बना लें. इस दलिये में 20 ग्राम अजवाइन और 50 ग्राम सफेद तिल भी मिला दें. 50 ग्राम दलिये को 400 मिली पानी में पकाएं. सब्जियां और हल्का नमक मिला लें. नियमित रूप से एक महीने तक इस दलिये के सेवन से मोटापे और मधुमेह में आश्चर्यजनक लाभ होता है.


Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और गूगल प्लस पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करे...

Advertisement