NDTV Khabar

ये हैं गुजरात चुनाव के ऐसे 5 विवादित बयान, जिसने लोकतंत्र के पर्व को धूमिल कर दिया

बीते कुछ समय से गुजरात में जारी विधानसभा चुनाव का घमासान अब थम गया है.

 Share
ईमेल करें
टिप्पणियां
ये हैं गुजरात चुनाव के ऐसे 5 विवादित बयान, जिसने लोकतंत्र के पर्व को धूमिल कर दिया

फाइल फोटो

खास बातें

  1. गुजरात चुनाव भी पाकिस्तान की एंट्री से अछूता नहीं रहा.
  2. नेताओं ने विवादित बयान दे-देकर लोकतंत्र का मजाक बना दिया.
  3. कांग्रेस और बीजेपी दोनों ने शब्दों की मर्यादा को खत्म कर दिया.
नई दिल्ली: बीते कुछ समय से गुजरात में जारी विधानसभा चुनाव का घमासान अब थम गया है. बस इंतजार है तो सिर्फ परिणाम के दिन का कि आखिर गुजरात की गद्दी कांग्रेस को नसीब होती है या फिर 22 साल से सत्ता में काबिज भाजपा को ही. तब तक के लिए गुजरात की जनता के साथ-साथ पार्टी के नेता भी चैन की सांस ले सकते हैं. इस बार का गुजरात चुनाव काफी समय तक याद किया जाएगा, क्योंकि इस चुनाव में कांग्रेस और बीजेपी की ओर से जिस तरह से जुबानी जंग देखने को मिली वो न सिर्फ शर्मनाक है, बल्कि लोकतांत्रिक परंपरा में ये कहीं से भी स्वीकार्य नहीं है. चुनावी अभियान के दौरान बीजेपी और कांग्रेस पार्टी के नेताओं ने विकास के मुद्दे से भटक कर न सिर्फ विवादित बयानों की झरी लगा दी, बल्कि एक-दूसरे पर जमकर आरोप-प्रत्यारोपों के तीर चलाए. अगर गुजरात चुनाव को बारीकी से देखें तो गुजरात की आबो-हवा में विकास नहीं, बल्कि नेताओं के विवादित बयान ही घुले नजर आएंगे. 

विवादित बयानों के अंबार खड़ा करने में कांग्रेस नेता मणिशंकर अय्यर ही नहीं, बल्कि खुद भाजपा के स्टार प्रचारक और देश के प्रधानमंत्री पीएम मोदी भी पीछे नहीं रहे. तो चलिए एक नजर डालते हैं उन बयानों पर जिसने इस गुजरात चुनाव को इतिहास का दागदार चुनाव बना दिया.
 
1. 'नीच आदमी' वाला बयान
गुजरात चुनाव में विवादित बयानों का सिलसिला उस वक्त चरम पर पहुंच गया, जब कांग्रेस नेता मणिशंकर अय्यर ने पीएम नरेंद्र मोदी के लिए अपशब्दों का प्रयोग किया. अय्यर ने पीएम मोदी पर निशाना साधते वक्त उन्हें 'नीच आदमी' कह डाला. उन्होंने कहा, 'ये आदमी बहुत नीच किस्म का है, इसमें कोई सभ्यता नहीं है और ऐसे मौके पर इस किस्म की गंदी राजनीति करने की क्या आवश्यकता है?' इस बयान के बाद इतना बवाल मचा कि खुद पीएम मोदी ने भी चुनावी सभा में इसे भुनाने की कोशिश की और कांग्रेस पर जमकर हमला बोला था. हालांकि, इस बयान की कांग्रेस और भाजपा दोनों ने निंदा की और कांग्रेस ने अय्यर को पार्टी की प्राथमिक सदस्यता से निलंबित कर दिया.

इन 15 बातों के लिए हमेशा याद किया जाएगा गुजरात विधानसभा चुनाव प्रचार

2. ‘मेरी सुपारी देने पाकिस्तान गये थे’
गुजरात चुनाव के प्रचार अभियान के दौरान बनासकांठा में पीएम मोदी ने मणिशंकर अय्यर पर बड़ा आरोप लगाया था. पीएम मोदी ने कहा था कि मणिशंकर अय्यर पाकिस्तान में जाकर उनकी सुपारी देने गये थे. पीएम मोदी ने अय्यर पर आरोप लगाया कि पाकिस्तान दौरे पर उन्होंने कहा था कि जब तक हम मोदी को रास्ते से नहीं हटाएंगे तब तक दोनों देशों में संबंध अच्छे नहीं होंगे. इतना ही नहीं, पीएम मोदी ने खुले मंच से इस बात को कहा था कि गुजरात चुनाव में पाकिस्तान हस्तक्षेप कर रहा है. हालांकि, पीएम मोदी के इस बयान का कांग्रेस ने खंडन किया था. इतना ही नहीं, चारों तरफ से ये भी आवाज उठने लगी थी कि अगर पीएम मोदी को उनकी सुपारी की खबर है तो वो कार्रवाई करने के बदले चुनावी भाषण क्यों दे रहे हैं.  

3. ताइवान का मशरूम खाते हैं मोदी
गुजरात चुनाव में शायद मुद्दों की कमी हो गई थी, यही वजह है कि नेताओं को मशरूम, जनेऊ जैसे शब्दों का इस्तेमाल करना पड़ा. गुजरात चुनाव के अंतिम चरण की वोटिंग से पहले चुनाव में मशरूम की एंट्री होती है. गुजरात में ओबीसी नेता अल्पेश ठाकोर ने पीएम मोदी की त्वचा के रंग पर टिप्पणी करते हुए कहा था कि मोदी जब अब गोरे हो गए हैं, पहले वह मेरे जैसे काले थे. उन्होंने कहा कि वह ताइवान का मशरूम खाकर गोरे हो गए हैं. अल्पेश ने कहा कि ताइवान से जो मशरूम आता है उस एक मशरूम की कीमत 80 हजार रुपये है. हालांकि, इस बयान के बाद मशरूम और पीएम मोदी को लेकर सोशल मीडिया काफी सक्रिय हो गया और देखते ही देखते ट्विटर पर मशरूम भी ट्रेंड करने लगा. 

राहुल गांधी बोले- मेरी सबसे ज्‍यादा मदद पीएम मोदी ने की

4. मंदिर में नमाज पढ़ने जैसे बैठते हैं राहुल
चुनाव भले ही गुजरात में हो रहे थे, मगर चुनावी तीर चलाने में बीजेपी की ओर से सीएम योगी भी पीछे नहीं थे. वैसे सीएम योगी पीछे भी कैसे रहते क्योंकि ये तो गुजरात चुनाव के लिए बीजेपी के स्टार प्रचारक जो थे. सीएम योगी ने पीएम मोदी के मंदिर दौरों और मंदिरों में पूजा करने पर तंज कसते हुए का था कि राहुल गांधी मंदिर में ऐसे बैठते हैं, जैसे वो नमाज पढ़ रहे हों. सीएम योगी ने मजाक उड़ाते हुए कहा था कि राहुल गांधी के मंदिर दौरों से वो खुश हैं. उन्होंने कहा था कि राहुल गांधी पर मुझे तरस आता है क्योंकि मंदिर में कैसे बैठा जाता है उन्हें ये भी नहीं मालूम. इतना ही नहीं, पूरे गुजरात चुनाव के दौरान राहुल गांधी के मंदिर दौरों पर बीजेपी का रुख हमलावर दिखा. उनके मंदर जाने को लेकर बीजेपी की ओर से कई तरह के बयान देखने को मिले थे. 
 
पीएम मोदी का वादा, हम 1+1 = 11 करके दिखाएंगे

टिप्पणियां
5. पाकिस्तान और अहमद पटेल
बीजेपी पाकिस्तान को अपना चुनावी हथियार बना चुकी है. यही वजह है कि जहां भी चुनाव होते हैं वहां उनके नेता पाकिस्तान का राग जरूर अलापते हैं. उम्मीद थी कि गुजरात में 22 साल तक विकास का काम करने के बाद बीजेपी यहां पाकिस्तान शब्द की एंट्री नहीं कराएगी, मगर ऐसा नहीं हुआ. खुद पीएम मोदी ने चुनाव प्रचार के दौरान पाकिस्तान का जिक्र किया और कहा कि गुजरात चुनाव में पाकिस्तान दिलचस्पी रखता है. उन्होंने कहा कि पाकिस्तान चाहता है कि गुजरात में अहमद पटेल सीएम बनें. पीएम मोदी ने कहा था कि मणिशंकर अय्यर के घर पर गुजरात चुनाव को लेकर ही पाकिस्तान के पूर्व विदेश मंत्री और अन्य उच्च अधिकारियों के साथ बैठक हुई. हालांकि, बाद में इस बात का खारिज किया गया और कहा गया कि इस बैठक में गुजरात चुनाव को लेकर कोई चर्चा नहीं हुई. हैरान करने वाली बात ये रही कि खुद पाकिस्तान को भी गुजरात चुनाव में उसका नाम घसीटे जाने को लेकर टिप्पणी करनी पड़ी.

VIDEO: कांग्रेस का आरोप, चुनाव आयोग PM की कठपुतली


Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और गूगल प्लस पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करे...

Advertisement