NDTV Khabar

गुजरात विधानसभा चुनाव 2017: पाटीदारों का नारा, 'सरदार ने भगाया गोरों को, हम भगाएंगे चोरों को'

गुजरात में चुनावी सरगर्मी चरम पर है और पाटीदार आंदोलन ने इसे और ज्‍यादा दिलचस्‍प बना रखा है.

360 Shares
ईमेल करें
टिप्पणियां
गुजरात विधानसभा चुनाव 2017: पाटीदारों का नारा, 'सरदार ने भगाया गोरों को, हम भगाएंगे चोरों को'

पाटीदार आंदोलन की तस्वीर

खास बातें

  1. पाटीदार आंदोलन ने गुजरात चुनाव को और भी दिलचस्प बना दिया है.
  2. पाटीदारों का नारा, 'सरदार ने भगाया गोरों को, हम भगाएंगे चोरों को'.
  3. गुजरात में पाटीदार समाज बीजेपी का प्रमुख वोट बैंक रहा है.
अहमदाबाद: गुजरात में चुनावी सरगर्मी चरम पर है और पाटीदार आंदोलन ने इसे और ज्‍यादा दिलचस्‍प बना रखा है. पाटीदारों के नेता हार्दिक पटेल द्वारा कांग्रेस को शर्तों के साथ समर्थन देने की घोषणा के बाद से बीजेपी के सामने अपना गढ़ बचाने की चुनौती है. सरदार पटेल को लेकर भी दोनों ही दावा कर रहे हैं. आपको बता दें कि सरदार पटेल भी पाटीदार थे और पाटीदार समाज गुजरात में बीजेपी का प्रमुख वोट बैंक रहा है. लेकिन आरक्षण की मांग को लेकर हुए पटेल आंदोलन के बाद यह समाज पार्टी से दूर होता दिख रहा है. 

एक ओर पाटीदार तो दूसरी ओर बीजेपी वोटरों को अपनी तरफ करने में लगे हैं. इस सिलसिले में बीजेपी ने बूथ स्‍तर पर वोटरों से संपर्क करने के लिए जनसंपर्क अभियान की शुरुआत की है. शुक्रवार को सूरत में भारतीय जनता पार्टी के कार्यकर्ता जब अपने जनसंपर्क अभियान पर निकले तो पाटीदार के लोग उनसे भीड़ गए. पाटीदारों ने बीजेपी के विरोध में जमकर नारेबाजी की. इन नारों में 'जय सरदार जय पाटीदार', और 'सरदार लड़े थे गोरों से हम लड़ेंगे चोरों से' जैसे नारे शामिल हैं. यानी जो समाज कभी बीजेपी का ही मुख्‍य वोट बैंक था वो आज उसे ही चोर बता रहा है.

यह भी पढ़ें - गुजरात चुनाव से पहले VVPAT का मामला पहुंचा सुप्रीम कोर्ट

दरअसल, गुजरात में पाटीदार किसकी तरफ हैं इसे लेकर अलग-अलग गुट सामने आए हैं. कुछ दिन पहले जो देर रात कांग्रेस और पाटीदार नेताओं के बीच गुप-चुप मीटिंग हुई, उससे भी मुहिम से जुड़े लोग खुश नहीं हैं. पाटीदार समाज के एक नेता सीके पटेल का कहना है कि 'युवा कंफ्यूज हैं कि हो क्‍या रहा है.'

यह भी पढ़ें - गुजरात चुनाव : हार्दिक पटेल की आज कांग्रेस नेताओं से हो सकती है मुलाकात
 
gujrat

सूरत में जगह-जगह ऐसे ही पोस्टर लगे हैं, जिनमें बीजेपी और पाटीदार एक-दूसरे पर आरोप लगा रहे हैं. पर सवाल ये है कि क्या इस राजनीति में पाटीदार की असली बात कहीं खो रही है. क्या पर्दे के पीछे की मीटिंग से आंदोलन अब दिशाहीन हो रहा है ?

यह भी पढ़ें - गुजरात में पटेलों को आरक्षण देने के मुद्दे पर आज अपना रुख साफ कर सकती है कांग्रेस

इसपर बीजेपी के प्रवक्‍ता भरत पंड्या कहते हैं कि 'अब लोग जान रहे हैं और सब एक्‍सपोज हो रहे हैं.' वहीं, आरक्षण के मुद्दे पर कांग्रेस सबसे बड़ा फायदा लेने की सोच रही है. उसने कुछ फार्मूला पाटीदारों को दिया है, पर वो क्या है और वो आरक्षण कैसे देगी, इस पर वो कोई सफाई नहीं दे रही. कांग्रेस का कहना है कि उसने जो वादा किया है उसे संविधान के दायरे में रहकर पूरा करेगी. इस पूरी खींचतान में फायदा किसे होगा ये तो चुनाव के नतीजे ही बताएंगे, लेकिन फिलहाल तो नुकसान हार्दिक पटेल को ही हो रहा है.

VIDEO - पाटीदार नेता का बड़ा बयान



Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और गूगल प्लस पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करे...

Advertisement