NDTV Khabar

राहुल गांधी शहरों में गए होते तो तस्‍वीर कुछ और होती : अल्‍पेश ठाकोर

अल्‍पेश ठाकोर ने कहा कि राहुल गांधी मुझे जो भी जिम्‍मेदारी देंगे, वह मुझे स्‍वीकार होगा. उन्होंने कहा कि गुजरात की एकता को बनाए रखना हमारी प्राथमिकता है.

 Share
ईमेल करें
टिप्पणियां
राहुल गांधी शहरों में गए होते तो तस्‍वीर कुछ और होती : अल्‍पेश ठाकोर

अल्पेश ठाकोर ने कहा, मैं आम लोगों की खातिर राजनीति में आया हूं

खास बातें

  1. गुजरात की एकता बनाए रखना हमारी प्राथमिकता : अल्पेश
  2. 'राहुल गांधी पर बहुत भरोसा करता हूं, वह डाउन टू अर्थ हैं'
  3. 'राहुल मुझे जो जिम्मेदारी देंगे वह मुझे स्वीकार होगा'
अहमदाबाद: गुजरात विधानसभा चुनाव में पहली बार जीत दर्ज करने वाले अल्‍पेश ठाकोर ने एनडीटीवी के साथ एक्‍सक्‍लूसिव बातचीत में कहा कि प्रदेश में हमारी पार्टी सत्‍ता में नहीं आ पाई, इसका मुझे बहुत ज्‍यादा दुख है. अल्‍पेश ने कहा कि राजनीति संघर्ष से चलती है. गुजरात के शहरी इलाकों में कांग्रेस को वैसी सफलता नहीं मिली... इस सवाल के जवाब में अल्‍पेश ने कहा कि राहुल गांधी जहां गए, वहां हमने जीत दर्ज की. राहुल शहरी इलाकों में ज्‍यादा वक्‍त नहीं दे पाए. सिर्फ दो दिन ही जा पाए. इस कारण हमें वहां सफलता नहीं मिली. अगर ग्रामीण इलाकों की तरह राहुल गांधी वहां भी समय दे पाते तो आज स्‍थिति कुछ और होती.

राहुल ने कहा- विकास खोखला, 'गुजरात मॉडल' प्रोपगंडा, BJP बोली- जनता ने 'वंशवाद' की जगह 'विकासवाद' चुना

एक सवाल के जवाब में अल्‍पेश ने कहा कि सदन में विपक्ष का नेता कौन होगा यह तय करना कांग्रेस पार्टी और राहुल गांधी का काम है. वो जो भी जिम्‍मेदारी देंगे वह मुझे स्‍वीकार होगा. अल्‍पेश ने कहा कि गुजरात की एकता को बनाए रखना हमारी प्राथमिकता है. कांग्रेस पार्टी इससे कोई समझौता नहीं करती है. राजनीति में आने के सवाल पर अल्‍पेश ने कहा कि मेरा परिवार राजनीति में काफी समय से काम कर रहा है. 1965 से मेरा परिवार राजनीति में है. मेरी पहली पसंद भी राजनीति ही है. अल्‍पेश ने कहा कि शि‍क्षा के क्षेत्र में मेरा संगठन काम कर रहा है. गुजरात के 18 हजार गांव में से 14 हजार गांव में मेरा संगठन शिक्षा के लिए काम कर रहा है.

गुजरात की जनता से राहुल गांधी ने सीखा कैसे टक्कर देना है पीएम मोदी को, 10 बड़ी बातें

अल्‍पेश ने कहा कि मैं लोगों के लिए राजनीति में शामिल हुआ हूं. मेरी ऐसी कोई बाध्‍यता नहीं थी कि मैं राजनीति में आऊं. गरीब लोग जो जहरीला देशी शराब पीकर मर जाते हैं, वह एक समस्‍या है. उनके परिवार वाले अनाथ हो जाते हैं. मैं उनके लिए राजनीति में आया हूं. मैं उनके बच्‍चों के चेहरे पर मुस्‍कान देखना चाहता हूं. एक सवाल के जवाब में अल्‍पेश ने कहा कि मेरे क्षेत्र की प्राथमिकता साफ पानी का इंतजाम और गटर की समस्‍या को दूर करना होगा.

गुजरात और हिमाचल में कांग्रेस की हार पर राहुल गांधी ने दिया यह बयान

अपने अनुभव को साझा करते हुए अल्‍पेश ने कहा कि 2011 में जब जूनागढ़ पहुंचा तो सिर्फ 8 लोग सभा में थे. पूछा तो पता चला कि सब चले गए. फिर मैंने उन आठ लोगों की सभा को संबोधि‍त किया. लेकिन जब 2015 में जूनागढ़ पहुंचे तो वहां 50 हजार लोगों की भीड़ जमा थी जिसे मैंने संबोधि‍त किया. ये बदलाव दिखा. एक सवाल के जवाब में अल्‍पेश ने कहा कि राहुल गांधी पर बहुत भरोसा करता हूं. राहुल जी सबको मिलते हैं. वो डाउन टू अर्थ है. मुझे कुछ न मिले राहुल जी का प्‍यार मिलता रहे. वही बहुत है. पार्टी हारी उसका बहुत ज्‍यादा दुख है. संघर्ष से राजनीति से चलती है. राहुल गांधी जहां गए वहां जीते. राहुल शहर में ज्‍यादा वक्‍त नहीं दे पाए.  

हार्दिक पटेल ने कहा, जब ATM हैक हो सकता है तो EVM क्‍यों नहीं  

टिप्पणियां
एनडीटीवी से बातचीत के दौरान उनकी पत्‍नी भी साथ थीं. अल्‍पेश ने अपने निजी जीवन से जुड़े सवालों का भी जवाब दिया. उन्‍होंने कहा कि उनकी शादी लव मैरिज थी और अब उनके जीवन में उनकी पत्‍नी का अहम रोल है. उनकी पत्‍नी ने कहा कि एच के कॉलेज में हमलोग साथ-साथ पढ़ाई किए थे और अब संगठन के लिए एक साथ काम भी कर रहे हैं.

VIDEO : राहुल बोले, हम जीत सकते थे, थोड़ी कमी रह गई
गुजरात में ओबीसी चेहरा अल्‍पेश ठाकोर ने चुनाव से ठीक पहले कांग्रेस ज्‍वाइन करने का फैसला किया. वह पहली बार चुनावी मैदान में उतरे और भारी मतों से जीत दर्ज की.


Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और गूगल प्लस पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करे...

Advertisement