NDTV Khabar

भाजपा के लिए ताबड़तोड़ रैलियों और रोड शो से मिशन गुजरात की नैया पार लगाएंगे पीएम मोदी

गुजरात विधानसभा चुनाव कांग्रेस और भाजपा दोनों के लिए काफी अहम है. भाजपा जहां गुजरात जीत कर अपना खिताब कायम रखना चाहेगी, वहीं कांग्रेस गुजरात जीत कर अपनी पार्टी को फिर से जिंदा कर सकती है.

 Share
ईमेल करें
टिप्पणियां
भाजपा के लिए ताबड़तोड़ रैलियों और रोड शो से मिशन गुजरात की नैया पार लगाएंगे पीएम मोदी

पीएम मोदी (फाइल फोटो)

खास बातें

  1. गुजरात में पीएम मोदी की 25 से 30 रैलियां हो सकती हैं.
  2. मिशन 150 का लक्ष्य हासिल करने के लिए भाजपा ने झोंकी ताकत.
  3. पीएम मोदी संभालेंगे गुजरात चुनाव की कमान.
अहमदाबाद: गुजरात विधानसभा चुनाव कांग्रेस और भाजपा दोनों के लिए काफी अहम है. भाजपा जहां गुजरात जीत कर अपना खिताब कायम रखना चाहेगी, वहीं कांग्रेस गुजरात जीत कर अपनी पार्टी को फिर से जिंदा कर सकती है. मगर अभी हालात जो दिख रहे हैं, उसके मुताबिक गुजरात में चुनाव की तैयारियों और मिशन 150 के लक्ष्य को हासिल करने के लिये भाजपा कोई कसर नहीं छोड़ना चाहती है. गुजरात चुनाव जीतने के लिए भाजपा ने पूरी ताकत झोंक दी है. यही वजह है कि भाजपा ने नवंबर आखिरी से प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी की 25 से 30 रैलियां आयोजित कराने और शहरी क्षेत्र में रोड शो करने की योजना बना ली है. 

पार्टी गुजरात चुनाव भी पीएम मोदी के सहारे ही साधने की तैयारी कर रही है. यही वजह है कि गुजरात प्रदेश भाजपा के नेता ये कह रहे हैं कि पीएम मोदी ही उनके शीर्ष नेता हैं और उन्होंने प्रदेश में भी सीएम के रूप में सेवा दी है. इसलिए गुजरात के लोग उन्हें और उनके कामों को देखकर ही वोट देंगे. गुजरात भाजपा के एक वरिष्ठ नेता ने बताया कि राज्य में पीएम नरेंद्र मोदी की अनेक रैलियों की योजना बनाई गई हैं. पार्टी को उम्मीद है कि पीएम मोदी की रैलियों और रोड शो की वजह से लोगों से भावनात्कम रूप से पार्टी जुड़ सकेगी. 

यह भी पढ़ें - गुजरात चुनाव : राहुल गांधी के ये चार कार्ड या नीतीश कुमार का एक दावा, कौन साबित होगा सही?

उनका कहना है कि भाजपा 182 सदस्यी राज्य विधानसभा के लिए चुनाव प्रचारक के संदर्भ में करीब 6 से 7 सीटों के अंतराल पर पीएम मोदी की एक रैली कराने की योजना बना रही है. हालांकि, इसे एक दो दिन में मूर्त रूप दे दिया  जाएगा. अगर इस तरह से देखा जाए तो राज्य में पीएम मोदी की करीब 25 से 30 रैलियां आयोजित की जा सकती हैं. 

हालांकि, कांग्रेस और भाजपा चुनाव प्रचार में अभी पूरी तरह से नहीं लगी है. बताया जा रहा है कि नामांकन होने के बाद ही दोनों पार्टियां अंधाधुंध प्रचार अभियान शुरू करेगी. गुजरात चुनाव में प्रथम चरण के चुनाव के लिये नामांकन पत्र भरने की अंतिम तिथि 21 नवंबर और दूसरे चरण के चुनाव के संदर्भ में नामांकन पत्र दाखिल करने की अंतिम तिथि 27 नवंबर है । ऐसे में नवंबर के चौथे सप्ताह से मोदी राज्य में चुनाव प्रचार को गति प्रदान कर सकते हैं.

यह भी पढ़ें - चुनाव आयोग ने इलेक्ट्रॉनिक विज्ञापन में 'पप्पू' शब्द का इस्तेमाल करने से बीजेपी को रोका

गुजरात चुनाव भाजपा के लिए कितना अहम है इसका अंदाजा इसी बात से लगाया जा सकता है कि पीएम मोदी पिछले करीब आठ महीने में 10 बार गुजरात का दौरा कर चुके हैं. वहीं, भाजपा अध्यक्ष अमित शाह लगातार गुजरात अभियान पर नजर रखे हुए हैं. चुनाव को लेकर ही शाह ने 4 से 9 नवंबर तक राज्य का दौरा किया था और अपने 6 दिवसीय प्रवास के दौरान प्रदेश के विभिन्न इलाकों का दौरा करने के साथ ही जिला प्रभारियों एवं अन्य नेताओं के साथ चर्चा की.

भाजपा को डर इसलिए भी है क्योंकि इससे पहले के चुनावों में नरेंद्र मोदी के सीएम फेस पर वो चुनाव लड़ती थी, मगर पिछले 15 वर्षो में पहली बार भाजपा गुजरात विधानसभा चुनाव नरेन्द्र मोदी के बिना लड़ रही है. क्योंकि 2014 के लोक सभा चुनाव के बाद नरेंद्र मोदी पीएम बन गये. हालांकि, भाजपा को कांग्रेस व पाटीदार आंदोलन के नेता हार्दिक पटेल के अलावा ओबीसी वर्ग के नेता के रूप में उभरे अल्पेश ठाकुर और उना में दलितों की पिटायी के मुद्दे पर उभरे नेता जिग्नेश मेवाणी की तिकड़ी का सामना करना पड़ रहा है.

यह भी पढ़ें - गुजरात विधानसभा चुनाव: चुनाव के लिए भेजे जाएंगे 60 हजार सुरक्षा कर्मी

बता दें कि गुजरात में 182 विधानसभा सीटों के लिए 9 और 14 दिसंबर को दो चरणों में चुनाव होंगे. वोटों की गिनती 18 दिसंबर को होगी.

VIDEO: गुजरात का गढ़ : कांग्रेस ने भी शुरू किया घर-घर संपर्क का अभियान (इनपुट भाषा से)


Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और गूगल प्लस पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करे...

Advertisement