अहमदाबाद : कोरोना से मरने वालों को दफनाने के लिए पहनी जाने वाली PPE किट बनी सिरदर्द, जानें क्यों...

इन इस्तेमाल किए गए कपड़ों जैसे गाउन, मास्क इत्यादि को खतरा माना जाता है और इन्हें सुरक्षापूर्वक नष्ट होता है. 

अहमदाबाद : कोरोना से मरने वालों को दफनाने के लिए पहनी जाने वाली PPE किट बनी सिरदर्द, जानें क्यों...

अहमदाबाद में 6,000 से ज्यादा कोरोना संक्रमण के मामले

अहमदाबाद:

गुजरात में कोरोना का संकट दिन पर दिन बढ़ता जा रहा है. इस बीच, अहमदाबाद में कुछ लोग एक दूसरी तरह की समस्या से जूझ रहे हैं. दरअसल, अहमदाबाद शहर का सबसे बड़ा कब्रिस्तान है मूसा सुहाग. मूसा सुहाग शहर के उन कब्रिस्तानों में जहां कोरोनावायरस से मरने वालों को दफनाया जा रहा है. इस क्रबिस्तान के अंदर घुसते ही जहां-तहां मास्क, दस्ताने, गाउन और फेस शील्ड पड़े दिखाई देते हैं क्योंकि अपने परिजन को दफनाने आए लोग इस चीजों का इस्तेमाल कर यहीं फेंक जाते हैं. 

शव को दफनाने आने वाले लोगों और यहां काम करने वालों को सुरक्षा उपकरण दिए जाते हैं ताकि शव को दफन करते हुए लोगों को संक्रमण से सुरक्षित रखा जा सके. इन इस्तेमाल किए गए कपड़ों जैसे गाउन, मास्क इत्यादि को खतरा माना जाता है और इन्हें सुरक्षापूर्वक नष्ट होता है. 

हालांकि, स्थानीय लोगों की शिकायत है कि जो लोग इसे इस्तेमाल करते हैं वह इसे यहीं छोड़कर चले जाते हैं. एक स्थानीय युवक अल्केश त्रिवेदी ने कहा, "हम यहां पास में ही एक सोसाइटी में रहते हैं. हर अंतिम क्रिया (दफन) में करीब-करीब 16 सेफ्टी किट्स लगते हैं. वे लोग इस्तेमाल करके सबकुछ- दस्ताने, जूते का कवर- यहां छोड़ जाते हैं. कोरोना की जद में आने की डर से सैनेटेशन करने का काम करने वाले कर्मचारी भी इन्हें नहीं उठाते हैं."

एक अन्य शख्स राजेश शाह ने कहा, "कुत्ते इन फेंकी गई किट्स को हमारी सोसाइटी में ले आते हैं." त्रिवेदी ने बताया कि कुछ लोग अपने स्वास्थ्य और सुरक्षा को ध्यान में रखते हुए इलाके से दूर चले गए हैं.

कब्रिस्तान के केयरटेयर सैयद लियाकत अली ने बताया कि उन्होंने इसकी सूचना अधिकारियों, सुन्न वक्फ़ बोर्ड के सदस्यों और पुलिस को दी थी लेकिन कोई उपलब्ध नहीं है. इसलिए वह खुद ही दफनाने के बाद छोड़े गए पीपीई किट्स को नष्ट कर रहे हैं. उन्होंने बताया, "मेरे पार कुछ पीवीसी पाइप्स, जिससे मैं उन्हें उठाता हूं." अहमदाबाद के एक अन्य कब्रिस्तान में भी इसी तरह की चीजें देखने को मिली. 

Newsbeep

बता दें कि अहमदाबाद देश के सबसे बड़े कोरोना हॉटस्पॉट में से एक है. यहां अब तक 6,000 से ज्यादा संक्रमण के मामले आ चुके हैं, जिसमें 421 लोगों की मौत हो चुकी है.

वीडियो: कोरोना वायरस से मरने वाले को न तो नहलाएं, न कफन पहनाएं: मुस्लिम उलेमा

Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com