NDTV Khabar

गुजरात में चुनाव की तारीखों के ऐलान में देरी पर चिदंबरम ने मोदी सरकार और आयोग पर कसा तंज

पी. चिदंबरम ने ट्वीट कर तंज कसा कि चुनाव आयोग ने पीएम मोदी को अधिकृत किया है कि वे अपने आखिरी रैली में चुनाव की तारीखों का ऐलान कर दें और चुनाव आयोग को इसकी जानकारी दे दें.

 Share
ईमेल करें
टिप्पणियां
गुजरात में चुनाव की तारीखों के ऐलान में देरी पर चिदंबरम ने मोदी सरकार और आयोग पर कसा तंज

पूर्व वित्त मंत्री पी. चिदंबरम. (फाइल फोटो)

खास बातें

  1. चिदंबरम ने मोदी सरकार और चुनाव आयोग पर जमकर हमला बोला
  2. कहा- पीएम मोदी आखिरी रैली में चुनाव की तारीखों का ऐलान कर दें
  3. जब सरकार हर तरह की छूट का ऐलान कर लेगी, तब तारीखों की होगी घोषणा
नई दिल्ली:

गुजरात में चुनाव की तारीखों की घोषणा में देरी को लेकर कांग्रेस नेता और पूर्व वित्त मंत्री पी. चिदंबरम ने मोदी सरकार और चुनाव आयोग पर जमकर हमला बोला है. पी. चिदंबरम ने ट्वीट कर तंज कसा कि चुनाव आयोग ने पीएम मोदी को अधिकृत किया है कि वे अपने आखिरी रैली में चुनाव की तारीखों का ऐलान कर दें और चुनाव आयोग को इसकी जानकारी दे दें.

यह भी पढ़ें : चिदंबरम ने बुलेट ट्रेन परियोजना पर कसा तंज, कहा-यह नोटबंदी जैसा कदम होगा

पूर्व वित्त मंत्री चिदंबरम यहीं नहीं रुके. उन्होंने एक ट्वीट कर कहा कि चुनाव आयोग छुट्टी पर है और जब गुजरात सरकार हर तरह की छूट का ऐलान कर लेगी तब जाकर वह चुनाव की तारीखों का ऐलान करेगा. आयोग ने 12 अक्टूबर को हिमाचल प्रदेश में 9 नवंबर को विधानसभा चुनाव कराए जाने की घोषणा की है. हालांकि गुजरात विधानसभा चुनाव कार्यक्रम की घोषणा नहीं की थी. आयोग ने अब जाकर कहा है कि गुजरात में चुनाव 18 दिसंबर से पहले होंगे.

यह भी पढ़ें : झूठी सूचना फैला रही है सीबीआई : पी चिदंबरम


टिप्पणियां

इस बीच गुजरात के मुख्यमंत्री विजय रूपाणी ने चुनाव आयोग की आलोचना करने पर कांग्रेस नेता पी. चिदंबरम की निंदा की. उन्होंने कहा कि विपक्षी पार्टी भाजपा शासित राज्य में होने वाले चुनाव से 'भयभीत' है. रूपाणी ने पत्रकारों से कहा, चिदंबरम जी और कांग्रेस आगामी (राज्य विधानसभा) चुनावों से डरे हुए है.

VIDEO: गुजरात में चुनाव की तारीख़ों के ऐलान में देरी पर पूर्व वित्त मंत्री ने आयोग को घेरा

उन्होंने कहा, हमारा मानना है कि चुनाव तय समय पर ही होने चाहिए और ऐसा ही होगा. लेकिन वह अपनी निराशा के कारण भयभीत हैं और चुनाव आयोग की निंदा करना लोकतंत्र में अच्छी बात नहीं है.



Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर लाइक और ट्विटर पर फॉलो करें.


Advertisement