NDTV Khabar

गुजरात विधानसभा चुनाव की तारीख घोषित होते ही गरमाई सियासत

गुजरात चुनाव की तारीखों के ऐलान में हुई देरी को लेकर मुख्य चुनाव आयुक्त घिरे रहे और कांग्रेस-बीजेपी आपस में भिड़े रहे.

826 Shares
ईमेल करें
टिप्पणियां
गुजरात विधानसभा चुनाव की तारीख घोषित होते ही गरमाई सियासत

चुनाव आयोग ने गुजरात विधानसभा चुनावों की तारीखों की घोषणा कर दी है

खास बातें

  1. हिमाचल चुनावों के ऐलान के करीब 2 हफ्ते बाद गुजरात चुनाव की तारीखें घोषित
  2. गुजरात में 9 और 14 दिसंबर को होगी वोटिंग
  3. 18 दिसंबर को घोषित किए जाएंगे नतीजे
नई दिल्ली / अहमदाबाद: आखिरकार गुजरात विधानसभा चुनाव की तारीखों का ऐलान हो गया. 9 दिसंबर को पहले दौर की वोटिंग में 89 सीटों पर मतदान होगा और 14 दिसंबर को दूसरे दौर की वोटिंग में 93 सीटों पर वोट डाले जाएंगे. नतीजे हिमाचल प्रदेश के साथ 18 दिसंबर को आएंगे. लेकिन इस ऐलान में हुई देरी को लेकर मुख्य चुनाव आयुक्त घिरे रहे और कांग्रेस-बीजेपी आपस में भिड़े रहे. पत्रकारों की दिलचस्पी सिर्फ गुजरात की तारीखों में नहीं, ये जानने में भी थी कि तारीखों के ऐलान में देरी क्यों हुई. मीडिया ब्रीफिंग के दौरान पत्रकार, मुख्य चुनाव आयुक्त से बार-बार ये पूछते रहे कि चुनाव आयोग ने गुजरात में चुनाव कराने की तारीख के ऐलान में देरी क्यों की.

यह भी पढ़ें : गुजरात चुनाव : आयोग ने कहा- बाढ़ की वजह से तारीखों की घोषणा में देरी, अधिकारियों ने खोल दी पोल

मुख्य चुनाव आयुक्त ने कहा कि गुजरात के मुख्य सचिव ने चुनाव आयोग को पहले 27 सितंबर और फिर 2 अक्टूबर को दो चिट्ठियां लिखीं, जिसमें उन्होंने लिखा कि राज्य के कई हिस्सों में बाढ़ की वजह से हालात खराब हैं. अगर इस दौरान चुनाव की तारीख का ऐलान होता है तो इससे राहत-बचाव के काम की गति पर बुरा असर पड़ेगा. मुख्य चुनाव आयुक्त ने कहा कि ये एक महत्वपूर्ण वजह थी कि आयोग ने गुजरात में चुनाव की तारीख का ऐलान देर से किया.

यह भी पढ़ें : गुजरात चुनाव : 2012 में ऐसे आए थे नतीजे, कांग्रेस के लिए आसान नहीं इस अंतर को पाटना

हालांकि गुजरात के मुख्यमंत्री विजय रूपाणी चुनाव आयोग के फैसले को सही ठहराते रहे. तारीखों के ऐलान के फौरन बाद उन्होंने एनडीटीवी इंडिया से बात करते हुए कहा कि पहले तारीखें घोषित होतीं तो सरकार का कामकाज ठप्प हो जाता. रूपाणी ने कहा, 'मोदी जी काम ना कर सकें, सरकार जनता का काम ना कर सके. जनता परेशान हो लेकिन चुनाव की तारीख की घोषणा पहले कर दो...कांग्रेस की इच्छा थी कि सरकार ठप हो जाए...ये इच्छी पूरी नहीं हुई इसलिए कांग्रेस बौखला गई है.' उन्होंने कहा कि नई योजनाओं को शुरू करना हमारा अधिकार है जब तक चुनाव की तारीख की घोषणा नहीं हो जाती.

यह भी पढ़ें : गुजरात विधानसभा चुनाव को पारदर्शी बनाने की याचिका पर सुप्रीम कोर्ट सुनवाई को तैयार

गुजरात के मुख्यमंत्री लगातार कांग्रेस पर इल्जाम लगा रहे हैं तो कांग्रेस चुनाव आयोग और बीजेपी की मिलीभगत का आरोप लगा रही है.

VIDEO : गुजरात चुनाव की तारीखों का ऐलान
कांग्रेस नेता आनंद शर्मा ने बुधवार को कहा, 'ये निंदनीय बात है कि चुनाव आयोग ने अपने संवैधानिक कर्तव्य का पालन न करके एक ऐसी सफाई दी जिसके बारे में गुजरात के पांच जिलाधिकारियों ने कहा है कि ये बिल्कुल गलत बात है. बाढ़ राहत का काम तो हो चुका है.'


Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और गूगल प्लस पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करे...

Advertisement