NDTV Khabar

चंडीगढ़ छेड़छाड़ मामला: पीड़ि‍त लड़की के पिता की अपील, दोषियों को सजा नहीं मिली तो और बेटियां होंगी शिकार

हरियाणा बीजेपी के अध्‍यक्ष सुभाष बराला के बेटे द्वारा चंडीगढ़ में कथित रूप से एक लड़की का पीछा करने का मामला तूल पकड़ता जा रहा है. दोनों आरोपियों को थाने से ही जमानत दे दिए जाने पर सवाल उठ रहे हैं.

 Share
ईमेल करें
टिप्पणियां
चंडीगढ़ छेड़छाड़ मामला: पीड़ि‍त लड़की के पिता की अपील, दोषियों को सजा नहीं मिली तो और बेटियां होंगी शिकार

हरियाणा बीजेपी अध्‍यक्ष के बेटे विकास बराला पर लड़की का पीछा करने का आरोप है

खास बातें

  1. 'हमारी मंशा साफ है कि हम दोषियों को न्याय के कठघरे में देखना चाहते हैं'
  2. लड़की के पिता ने चंडीगढ़ पुलिस का भी शुक्रिया अदा किया
  3. दोनों आरोपियों को थाने से ही जमानत पर छोड़ दिया गया
चंडीगढ़: हरियाणा बीजेपी के अध्‍यक्ष सुभाष बराला के बेटे द्वारा चंडीगढ़ में कथित रूप से एक लड़की का पीछा करने का मामला तूल पकड़ता जा रहा है. दोनों आरोपियों को थाने से ही जमानत दे दिए जाने पर सवाल उठ रहे हैं. पीड़िता ने आरोप लगाया है कि विकास बराला और उसका दोस्त आशीष कुमार एक पेट्रोल पंप से ही उसकी कार का पीछा कर रहे थे और फिर उन्होंने कार को रोकने की कोशिश भी की. यही नहीं, दो बार इनमें से एक आदमी अपनी गाड़ी से निकला और उसने कार का दरवाज़ा खोलने की कोशिश की. इसी दौरान लड़की के कई बार फोन करने पर पुलिस वहां पहुंची और दोनों लड़कों को गिरफ़्तार कर लिया.

रविवार को पीड़ि‍त लड़की के आईएएस अधिकारी पिता ने सोशल मीडिया पर लोगों से आह्वान किया कि महिलाओं के खिलाफ अपराधों से लड़ाई लड़ें. उन्होंने अपने परिवार की व्यथा भी साझा की है. पीड़ित लड़की ने भी अपनी वेदना जाहिर करते हुए एक पोस्ट डाली है जिसमें उसने लिखा है कि वह सौभाग्यशाली है कि किसी आम आदमी की बेटी नहीं है, अन्यथा वह जानती है कि उसकी क्या हालत होती.

यह भी पढ़ें: 'मैं खुशकिस्मत हूं कि मेरा रेप नहीं हुआ, न ही मैं मरी पाई गई...'

पीड़िता के पिता ने फेसबुक पर लिखा, ‘‘अगर हम दोषियों को न्याय के कठघरे में लाने के लिए प्रयासरत नहीं रहते हैं तो और अधिक बेटियां यह आघात सहेंगी.’’ हरियाणा में सत्तारूढ़ भाजपा के प्रदेश अध्यक्ष सुभाष बराला के बेटे को शनिवार को लड़की का कथित तौर पर पीछा करने के मामले में उसके दोस्त के साथ गिरफ्तार किया गया था.

यह भी पढ़ें: हरियाणा बीजेपी अध्यक्ष को उनके बेटे के अपराध के लिए सजा नहीं दे सकते - सीएम खट्टर

दोनों आरोपियों विकास बराला (23) और आशीष कुमार (27) को बाद में जमानत पर छोड़ दिया गया. इस बात को लेकर भी सवाल उठ रहे हैं. दोनों ही आरोपियों पर आईपीसी और मोटर वाहन अधिनियम की जमानती धाराओं के तहत मामला दर्ज किया गया था. घटना उस समय प्रकाश में आई जब 28 साल की लड़की ने शुक्रवार रात को पुलिस को फोन कर शिकायत की कि दो लड़के उसका पीछा कर रहे हैं.

VIDEO: पीड़ित लड़की ने NDTV से की बात

टिप्पणियां
लड़की के पिता ने मामले को संभालने के तरीके को लेकर अपने फेसबुक पोस्ट पर चंडीगढ़ पुलिस का शुक्रिया अदा किया. उन्होंने लिखा कि उनके परिवार को भयावह अनुभव का सामना करना पड़ा और बेटी को सामान्य होने में बहुत समय लगेगा. उन्होंने लिखा कि हमारी मंशा साफ है कि हम दोषियों को न्याय के कठघरे में देखना चाहते हैं.

(इनपुट भाषा से...)


Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और गूगल प्लस पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करे...

Advertisement