NDTV Khabar

फर्जी मरीज और अस्पताल दिखाकर चला रहे थे मेडिकल कॉलेज, बीएससी पास टीचर थे MBBS के फैकल्टी 

वर्ल्ड कॉलेज ऑफ मेडिकल साइंसेज एंड रिसर्च ने 2016 में 148 एमबीबीएस स्टूडेंट्स के पहले बैच का दाखिला लिया था. उनसे मोटी फीस भी वसूली लेकिन उसके बाद एमसीआई की जांच में ये कॉलेज मानकों पर खरा नहीं उतरा.

 Share
ईमेल करें
टिप्पणियां
फर्जी मरीज और अस्पताल दिखाकर चला रहे थे मेडिकल कॉलेज, बीएससी पास टीचर थे MBBS के फैकल्टी 

वर्ल्ड कॉलेज ऑफ मेडिकल साइंसेज एंड रिसर्च के छात्र धरने पर बैठे हैं.

खास बातें

  1. वर्ल्ड कॉलेज ऑफ मेडिकल साइंसेज एंड रिसर्च का मामला
  2. हरियाणा के झज्झर में है ये मेडिकल कॉलेज
  3. मेडिकल काउंसिल ऑफ इंडिया की जांच में हुआ खुलासा
नई दिल्ली :

मरीजों को देखने के लिए न तो अस्पताल है, रिसर्च के लिए न ही लैब है और स्टूडेंट्स को पढ़ाने के लिए न ही शिक्षक हैं. ये हालात एक मेडिकल कॉलेज के हैं, जहां एक MBBS छात्र से सालाना 9 से 10 लाख रुपए वसूल जा रहे हों. जी हां...ये हरियाणा के झज्झर के वर्ल्ड कॉलेज ऑफ मेडिकल साइंसेज एंड रिसर्च का हाल है. कॉलेज के तमाम टाल-मटोल के बावजूद जब MCI की टीम ने कॉलेज का दौरा किया तो अस्पताल की पोल खुल गई. जांच के दौरान पाया गया कि अस्पताल में एक भी मरीज नहीं थे. तीन-चार फैकल्टी के भरोसे मेडिकल कॉलेज करीब डेढ़ सौ एमबीबीएस छात्रों की पढ़ाई करवा रहा है. MCI ने अपनी रिपोर्ट में कहा है कि टीम को दिखाने के लिए अस्पताल में फर्जी मरीज बैठाए गए, लेकिन ओपीडी से लेकर पर्चा बनाने वाले सारे काउंटर खाली पड़े थे. इसी वर्ल्ड कॉलेज ऑफ मेडिकल साइंसेज एंड रिसर्च में एमबीबीएस के तीसरे साल की स्टूडेंट मेघा सैनी ने बताया कि छात्रों के दबाव डालने के बाद फोन पर फैकल्टी को पढ़ाने के लिए बुलाया जाता है. कई डिपार्टमेंट में एमबीबीएस स्टूडेंट्स को BSC और MSC के टीचर पढ़ाते हैं.  

सैफई मेडिकल कॉलेज में रैगिंग का तांडव : मुंडवा दिए 150 जूनियर डॉक्टरों के सिर


टिप्पणियां

वर्ल्ड कॉलेज ऑफ मेडिकल साइंसेज एंड रिसर्च ने 2016 में 148 एमबीबीएस स्टूडेंट्स के पहले बैच का दाखिला लिया था. उनसे मोटी फीस भी वसूली लेकिन उसके बाद एमसीआई की जांच में ये कॉलेज मानकों पर खरा नहीं उतरा, लिहाजा यहां 2016 के बाद कोई दाखिला नहीं हुआ. लेकिन पहले बैच के 148 स्टूडेंट्स अब यहां फंस गए हैं. NEET की परीक्षा पास कर लाखों रुपए खर्च करने के बावजूद तीसरे साल के एमबीबीएस के स्टूडेंट्स बीते दो महीने से अनशन पर बैठे हैं, लेकिन इनकी सुनने वाला कोई नहीं है. गुरुवार को इन डॉक्टरों ने गृहमंत्री अमित शाह के घर का घेराव किया. कुछ न होता देख अब ये छात्र इच्छा मृत्यु की अपील कर रहे हैं. दूसरी तरफ, जानकारी के मुताबिक वर्ल्ड कॉलेज ऑफ मेडिकल साइंसेज एंड रिसर्च के मालिक नरेंद्र सिंह हैं. इस कॉलेज में अनियमितताओं को देखते हुए 2017 में एमबीबीएस  का दाखिला रोक दिया गया था. इसके बाद 2017 में सीबीआई ने मेडिकल कॉलेज के संचालक नरेंद्र सिंह को कॉलेज चलाने के लिए एक अधिकारी को 50 लाख रुपए घूस देते रंगे हाथों पकड़ा था. घूस के दम पर ये मेडिकल कॉलेज में स्टूडेंट्स का दाखिला करवाना चाहते थे.  

VIDEO: रवीश कुमार का प्राइम टाइम: MBBS के छात्रों के सिर मुंडवाए गए



NDTV.in पर हरियाणा (Haryana) एवं महाराष्ट्र (Maharashtra) विधानसभा के चुनाव परिणाम (Assembly Elections Results). इलेक्‍शन रिजल्‍ट्स (Elections Results) से जुड़ी ताज़ातरीन ख़बरेंं (Election News in Hindi), LIVE TV कवरेज, वीडियो, फोटो गैलरी तथा अन्य हिन्दी अपडेट (Hindi News) हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर लाइक और ट्विटर पर फॉलो करें.


Advertisement