Bird Flu Prevention Tips: बर्ड फ्लू से बचने के लिए इन 5 गलतियों को न दोहराएं, इंसानों में बर्ड फ्लू के ऐसे दिखते हैं लक्षण!

Bird Flu Symptoms: सबसे बड़ा सवाल है कि क्या बर्ड फ्लू के दौरान चिकन और अंडे नहीं खाने चाहिए? जबकि सरकार बीमारी के प्रसार को रोकने के लिए अपना काम कर रही है, यह जरूरी है कि आप बर्ड फ्लू (Bird Flu) के डर और प्रभाव से बचने के लिए कुछ सावधानियां बरतें.

Bird Flu Prevention Tips: बर्ड फ्लू से बचने के लिए इन 5 गलतियों को न दोहराएं, इंसानों में बर्ड फ्लू के ऐसे दिखते हैं लक्षण!

Bird Flu Prevention Tips: पक्षियों की बढ़ती मौत ने देश भर के लोगों को चिंतित कर दिया है.

खास बातें

  • पिछले कुछ दिनों में बर्ड फ्लू से कई पक्षियों की मौत हो चुकी है.
  • यहां बर्ड फ्लू से बचाव के लिए सावधानियों के बारे में बताया गया है.
  • बर्ड फ्लू के डर और प्रभाव से बचने के लिए कुछ सावधानियां बरतें.

How To Prevent Bird Flu In Humans: जबकि एक महामारी कोरोनावायरस से उभरने और सामान्य स्थिति में आने का प्रयास कर रहे हैं. इसी बीच एक और बीमारी ने जन्म ले लिया है. पिछले कुछ दिनों में देश के अलग-अलग राज्यों में हो रही पक्षियों की रहस्यमयी मौतों (Mysterious Death Of Birds) ने सबको डरा दिया है. जांच में पता चला है कि पक्षियों में बर्ड फ्लू (Bird Flu) की बीमारी फैल रही है, जिसे एवियन फ्लू  (Avian Flu)के नाम से भी जाना जाता है. भारत में विभिन्न राज्यों में इसका प्रकोप बढ़ता जा रहा है. पक्षियों की बढ़ती मौत ने देश भर के लोगों को चिंतित कर दिया है. इस बीच जो एक सवाल सभी के जहन में घूम रहा है वह यह कि क्या बर्ड फ्लू इंसानों को संक्रमित कर सकता है? (Can Bird Flu Spread To Humans?) अगर हां तो बर्ड से कैसे बचाव किया जाए? और इंसानों में बर्ड फ्लू के लक्षण क्या होते है? (Symptoms Of Bird Flu In Humans) बर्ड फ्लू के चपेट में आने वाले पक्षियों में बत्तख, कौवे, जंगली हंस और चिकन भी हैं.

ऐसे में सबसे बड़ा सवाल है कि क्या बर्ड फ्लू के दौरान चिनक और अंडे नहीं खाने चाहिए? जबकि सरकार बीमारी के प्रसार को रोकने के लिए अपना काम कर रही है, यह जरूरी है कि आप बर्ड फ्लू के डर और प्रभाव से बचने के लिए कुछ सावधानियां बरतें.

बर्ड फ्लू से बचने के लिए क्या न करें? | What Not To Do To Avoid Bird Flu?

1. आधे उबले अंडे: इस नई बीमारी से बचने और इंसानों इसके प्रसार को रोकने के लिए आधे उबले अंडों का सेवन करने से बचें. डब्ल्यूएचओ का कहना है कि चिकन और अंडे खाना सुरक्षित है, लेकिन आपको इन्हें अच्छी तरह से पकाना होगा. चाह अंडे का व्हाइट भाग हो या पीले दोनों पूरी तरह से पके होने चाहिए.

8bej2jio

Bird Flu Prevention Tips: बर्ड फ्लू से बचने के लिए अंडों को हमेशा अच्छे से पकाकर खाएं

2. अंडरकुक्ड चिकन: कच्चा या अंडरकुक्ड चिकन खाने से परहेज करना चाहिए. क्योंकि अंडरकुक्ड चिकन में वायरस को पूरा तरह से खत्म करना संभव नहीं है. डब्ल्यूएचओ ने भी सिफारिस की है कि अगर आप चिकन खा रहे हैं तो सुनिश्चित करें कि वह कम से कम 70 डिग्री तापमान पर पकाया गया हो.

3. पक्षियों से सीधा संपर्क: पक्षियों के संपर्क से भी बर्ड फ्लू के इंसानों में फैलने की आशंका है. क्योंकि पक्षी उड़ान भरते समय भी इन्फ्लूएंजा वायरस का एक अच्छा एरोसोल प्रदान कर सकते हैं. जंगली, जलीय यानि जो पानी में रहने वाले पक्षी जैसे बत्तख और गीज इन्फ्लुएंजा ए वायरस को आसानी से फैला सकते हैं.

4. कच्चे मांस को खुले में रखना: अगर आप कच्चे मांस को खुले में रखकर फिर इसे खा रहे हैं तो यह गलत है. इससे आपको बचना चाहिए. यह गलती आपको संक्रमित कर सकती है. कभी भी कच्चे मांस को खुले में न रखें.

5. कच्चे मांस के साथ सीधे संपर्क: कच्चे मांस को छूने के बाद हाथों की सफाई न करना भी भारी पड़ सकता है. ऐसे में आप जब भी कच्चे मांस के सीधे संपर्क में आए तो यह सुनिश्चित करें कि आप अपने हाथों को अच्छी तरह से धोएं.

6. मृत पक्षियों को छूने से बचें: आपको मृत पक्षियों को नंगे हाथों से छूने से भी बचना चाहिए. आपको अपने हाथों को अधिक बार धोना चाहिए, यह महत्वपूर्ण है कि आप व्यक्तिगत स्वच्छता का ध्यान रखें. अपने परिवेश की स्वच्छता बनाए रखें.

1gjh8a1

बर्ड फ्लू के लक्षण | Symptoms Of Bird Flu

- खांसी
- बुखार
- गले में खरास
- मांसपेशी में दर्द
- सरदर्द
- सांस लेने में कठिनाई
- मतली
- उल्टी या दस्त


बर्ड फ्लू H5N1 वायरस के कारण होता है और यह एक प्रकार के इन्फ्लूएंजा वायरस के कारण होता है. जब बर्ड फ्लू मनुष्यों पर हमला करता है, तो यह घातक हो सकता है. बीमार पक्षियों के निकट संपर्क में आने पर मनुष्य बर्ड फ्लू का अनुबंध कर सकता है. इंफ्लूएंजा के 11 वायरस हैं जो इंसानों को संक्रमित कर सकते हैं, लेकिन इनमें से भी सिर्फ 5 ऐसे वायरस हैं जो इंसानों के लिए जानलेवा साबित हो सकते हैं. ये वायरस H5N1, H7N3, H7N7, H7N9 और H9N2 हैं.

Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com


अस्वीकरण: सलाह सहित यह सामग्री केवल सामान्य जानकारी प्रदान करती है. यह किसी भी तरह से योग्य चिकित्सा राय का विकल्प नहीं है. अधिक जानकारी के लिए हमेशा किसी विशेषज्ञ या अपने चिकित्सक से परामर्श करें. एनडीटीवी इस जानकारी के लिए ज़िम्मेदारी का दावा नहीं करता है.