पीरियड्स से होने वाली 'इस' समस्‍या से दुखी हुईं Bhumi Pednekar

बॉलीवुड अभिनेत्री भूमि पेडनेकर (Bhumi Pednekar) व्हिस्पर (Whisper) के नए अभियान हैशटैगकिपगर्ल्सइनस्कूल (#keepgirlsinschool) में शामिल हुई हैं. भारत के विभिन्न क्षेत्रों में आज भी माहवारी (Periods) के चलते बच्चियां स्कूल जाना बंद कर देती हैं और इसी विषय पर जागरूकता फैलाना इस अभियान का मकसद है.

पीरियड्स से होने वाली 'इस' समस्‍या से दुखी हुईं Bhumi Pednekar

बॉलीवुड अभिनेत्री भूमि पेडनेकर (Bhumi Pednekar) व्हिस्पर के नए अभियान हैशटैगकिपगर्ल्सइनस्कूल (#keepgirlsinschool) में शामिल हुई हैं.

बॉलीवुड अभिनेत्री भूमि पेडनेकर (Bhumi Pednekar) व्हिस्पर (Whisper) के नए अभियान हैशटैगकिपगर्ल्सइनस्कूल (#keepgirlsinschool) में शामिल हुई हैं. भारत के विभिन्न क्षेत्रों में आज भी माहवारी (Periods) के चलते बच्चियां स्कूल जाना बंद कर देती हैं और इसी विषय पर जागरूकता फैलाना इस अभियान का मकसद है. इस कैम्पेन या अभियान (campaign to #KeepGirlsInSchool) के तहत व्हिस्पर ने एक नया फिल्म लॉन्च किया है जिसमें इस तथ्य को उजागर किया जाएगा कि पांच में से एक लड़की हर साल महज इस वजह से स्कूल छोड़ रही है क्योंकि माहवारी का सही ज्ञान (All About Periods) न होने के कारण वह इस दौरान खुद को संभालने में असक्षम रहती है.

पीरियड्स के दौरान भी हो सकती हैं प्रेग्नेंट, जानिए कैसे बचें

व्हिस्पर ने साल 2020 के अंत तक पांच करोड़ लड़कियों तक पहुंचकर अपने मौजूदा मासिक धर्म स्वच्छता (Menstruation Hygiene) शिक्षा कार्यक्रम के प्रभाव को दोगुना करने का संकल्प लिया है.

Attention Girls! ये हैं वो 6 काम जो पीरियड्स में नहीं करने चाहिए...

अभियान के बारे में भूमि  (Bhumi Pednekar) ने कहा, "आज के जमाने में भी पीरियड्स (Periods) एक ऐसा मुद्दा है, जिस पर लोग बात करने से बचते हैं. इस दौरान बच्चियों को स्कूल भेजने से उनके घरवाले प्रभावित और चिंतित होते हैं और यह व्यक्तिगत तौर पर मुझे सोचने पर मजबूर करता है. मैं यह जानकर काफी हैरान हुई कि माहवारी पर पर्याप्त शिक्षा के अभाव में हर साल पांच में से एक बच्ची स्कूल छोड़ रही है. व्हिस्पर की इस पहल की शुरुआत एक ऐसे वक्त पर हुई है, जब भारत की युवा महिलाओं को सही ज्ञान और शिक्षा के साथ सशक्त बनाना हमारे देश के विकास के लिए महत्वपूर्ण है."

उन्होंने कहा, "यह एक दुर्लभ अवसर है, जहां हम सभी सामूहिक रूप से बच्चियों की जिंदगी में बदलाव ला सकते हैं."

क्या पीरियड के दौरान सेक्स सही है या ग़लत? डॉक्टर से जानें क्या करें और क्या नहीं

संबंध बनाने के बाद महिलाओं को भूलकर भी नहीं करने चाहिए ये 5 काम

padsMenstrual Hygiene: पीरियड्स में साफ-सफाई का ध्यान रखना जरूरी है

पीरियड्स में कैसे रखें हाइजीन और सफाई का ध्यान

1.  पीरियड्स या मासिक धर्म में कपड़े की जगह सेनेटरी पैड्स या टैम्पून्स का इस्तेमाल करें.
2. इस बात का ध्‍यान रखें क‍ि आप सही समय पर सेनेटरी पैड्स टैम्पून्स  को बदल लें. इसे हर चार से छह घंटे में बदलें. भले ही ब्‍लीड‍िंग कम ही क्‍यों न हो.
3. जो पैड आपने इस्‍तेमाल किया उसे सही तरह से नष्‍ट करना भी जरूरी है. इस्तेमाल किए गए पैड को सही तरीके से फेंकें. प्रयोग किए गए पैड्स कागज में लपेटकर कूड़ेदान में डालें. 
4. अगर पीरियड्स, महावारी या मासिक धर्म  के दौरान कुछ भी असहज या परेशानी महसूस कर रही हैं, तो अपनी मां या डॉक्‍टर से बात करें.  (इनपुट-आईएएनएस)

और खबरों के लिए क्लिक करें

Attention Girls! ये हैं वो 6 काम जो पीरियड्स में नहीं करने चाहिए...

इस एक चीज का तेल हर छोटी-बड़ी बीमारी में है फायदेमंद, इंफेक्शन, बालों और स्किन के साथ कई रोगों में रामबाण!

सेक्स लाइफ: औरतों के मुकाबले मर्दों में तीन गुना ज्यादा होती है यह चीज

डायब‍िटीज, ब्‍लड शुगर लेवल को कंट्रोल कर वजन घटाने में मदद करेंगे ये 4 जूस...

अपच होने का कारण हो सकता तनाव, बेहतर पाचन के लिए करें ये काम स्ट्रेस भी रहेगा दूर

टाइप 2 डायबिटीज में ये एक सुपरफूड करेगा ब्लड शुगर लेवल को कंट्रोल, जानें डाइबिटीज में क्या खाएं और क्या नहीं!

क्यों महिलाओं का बढ़ती उम्र में संबंध बनाने का मन नहीं करता? जानें पूरा सच

 
Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com