Diabetes Diet (Neem Tea): डायबिटीज, ब्लड शुगर लेवल को कंट्रोल, इम्यूनिटी बढ़ाने और वजन कम करने में मददगार है यह ड्रिंक, कैसे बनाएं

Neem Tea for Diabetes: इस बारे में हमने विशेषज्ञों से जानकारी एकत्रित की. बीएचएमएस डॉक्टर स्वाति भारद्वाज का कहना है कि ''डायबिटीज रोगियों को अपने आहार का खास ख्याल रखना चाहिए. उन्हें रूप में संतुलित फाइबर, कार्ब और प्रोटीन का सेवन करना चाहिए. डाइट में चीनी, ट्रांस-वसा और हाई कैलोरी लेने से बचा जाना चाहिए.'' 

Diabetes Diet (Neem Tea): डायबिटीज, ब्लड शुगर लेवल को कंट्रोल, इम्यूनिटी बढ़ाने और वजन कम करने में मददगार है यह ड्रिंक, कैसे बनाएं

खास बातें

  • दुनिया भर में 463 मिलियन लोग मधुमेह से प्रभावित हैं.
  • डायबि‍टीज शरीर में रक्त शर्करा के स्तर (Blood Glucose Level) को बढ़ाती है
  • आप नीम के पत्तों की चाय तैयार कर सकते हैं.

डायबिटीज या मधुमेह (Diabetes) दुनियाभर में लोगों को प्रभावित करने वाली सबसे आम बीमारियों में से एक है. अंतर्राष्ट्रीय मधुमेह महासंघ (International Diabetes Federation) के अनुसार, दुनिया भर में 463 मिलियन लोग मधुमेह से प्रभावित हैं. इस संख्या के साल 2045 तक 153 मिलियन तक बढ़ने का अनुमान है. मधुमेह यानी डायबि‍टीज एक पुरानी बीमारी है, जो शरीर में रक्त शर्करा (ग्लूकोज) के स्तर (Blood Glucose Level) को बढ़ाती है.

अगर उसे छोड़ दिया जाए, तो यह आगे चलकर कई अन्य गंभीर बीमारियों जैसे कि हृदय-रोग (Heart Disease), किडनी से संबंधित समस्याओं और अन्य को जन्म दे सकता है. जबकि डॉक्टर की सलाह के अनुसार उचित दवा हमेशा सलाह दी जाती है, कुछ जीवनशैली में बदलाव रक्त शर्करा के स्तर यानी ब्लड ग्लुकोज लेवल को प्रबंधित करने में भी मदद कर सकते हैं. बदलते लाइफस्टाइल और खानपान की वजह से मधुमेह (Diabetes) की बीमारी तेजी से फैल रही है. इसमें आपकी मदद कर सकता है नीम. एथनो-मेडिसिन पर एक अध्ययन के अनुसार, नीम के पत्तों का पाउडर गैर-इंसुलिन पर निर्भर मधुमेह रोगियों में मधुमेह के लक्षणों को नियंत्रित करने के लिए पाया गया था.

इस बारे में हमने विशेषज्ञों से जानकारी एकत्रित की. बीएचएमएस डॉक्टर स्वाति भारद्वाज का कहना है कि ''डायबिटीज रोगियों को अपने आहार का खास ख्याल रखना चाहिए. उन्हें रूप में संतुलित फाइबर, कार्ब और प्रोटीन का सेवन करना चाहिए. डाइट में चीनी, ट्रांस-वसा और हाई कैलोरी लेने से बचा जाना चाहिए.'' 

डॉक्टर स्वात‍ि कहती हैं कई पारंपरिक जड़ी बूटियों और मसालों की मदद से मधुमेह यानी डायब‍िटीज या ब्लड शुगर लेवल को काफी हद तक कंट्रोल किया जा सकता है. इन्हीं में से एक चीज है नीम के पत्ते.

डायबिटीज या मधुमेह में किस तरह फायदेमंद है नीम (How Consuming Neem Leaves Can Help You Manage Diabetes)

नीम में फ्लेवोनॉयड्स, एंटीऑक्सिडेंट्स, एंटी-वायरल और एंटी-इंफ्लेमेटरी गुण होते हैं. जो ग्लूकोज में उछाल आने से बचाते हैं. नीम का रोजाना सेवन करने से ब्लड शुगर लेवल को कंट्रोल किया जा सकता है. नीम के पत्तों को पीसकर इसकी गोलियां भी बनाई जाती हैं. नीम की पत्तियों का सेवन करने से शरीर के अंदर हाइपोग्लाइसेमिक या ब्लड शुगर लेवल कम हो सकता है. 

डॉक्टर स्वात‍ि कहती हैं कि ''कुछ लोग नीम की पत्तियों को सीधा चबा लेते हैं. यह भी किया जा सकता है. लेकिन हर किसी को नीम का स्वाद पसंद नहीं हो सकता. ऐसे में लोग अलग-अलग तरह से इसका सेवन करते हैं. जैसे कुछ लोग गोलियों में या नींम की चाय इसका बहुत ही अच्छा विकल्प हो सकता है'' 

तो नीम के गुणों का फायदा उठाने के लिए आप नीम के पत्तों की चाय तैयार कर सकते हैं. इसके लिए आप बाजार से नीम की पत्तियों का पाउडर ले सकते हैं या फिर घर पर ही नीम के पत्तों को सुखाकर यह पाउडर बनाकर तैयार कर सकते हैं.

अगर आप इसमें जरा सी  दालचीनी भी शामिल करते हैं, तो इस ड्रिंक से कमाल का फायदा उठाया जा सकता है. नीम पाउडर के साथ-साथ, इस चाय के काढ़े में दालचीनी भी शामिल है, जो मधुमेह रोगियों के लिए बहुत अच्छी तरह से जानी जाती है. दालचीनी टाइप 2 मधुमेह से पीड़ित लोगों में रक्त शर्करा और कोलेस्ट्रॉल के स्तर में सुधार करने में मदद कर सकती है. यह मधुमेह और दिल से संबंधित बीमारियों के जोखिम को कम करने के लिए भी जाना जाता है. 

इतना ही नहीं, नीम और दालचीनी से तैयार यह ड्रिंक वजन कम करने, खूबसूरत और दमकती त्वचा देने, इम्यूनिटी यानी प्रतिरक्षा को बढ़ाने में भी मदद करेगा. 

k6k1cha8नीम में कैल्शियम, विटामिन सी, खनिज आदि भी शामिल हैं

नीम की चाय कैसे बनाएं (How To Make Neem Tea For Diabetes)

इस ड्र‍िंक को बनाना बहुत आसान है. आपको करना बस यह है कि नीम और दालचीनी पाउडर को एक कप पानी में डालकर उबाल लेना है. अब इसमें एक कप में चाय को घूंट-घूंट करके पीएं. 

ध्यान रहे कि जिन्हें मधुमेह नहीं अगर वे इस ड्रिंक का सेवन कर रहे हैं तो वे इसमें थोड़ी सी चीनी या गुड़ पाउडर मिला सकते हैं.

Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com

नोट: अपने आहार में किसी भी तरह का बदलाव करने से पहले अपने डॉक्टर से सलाह जरूर लें. डॉक्टर की सलाह के बाद ही आहार में बदलाव करें. 

(यह लेख डॉक्‍टर स्वाति भारद्वाज से बातचीत पर आधारित है.)