Diabetes Home Remedies: डायबिटीज में इन कारणों पर रखें नजर, यहां हैं ब्लड शुगर लेवल को कंट्रोल करने के अद्भुत घरेलू उपचार!

Home Remedies For Diabetes: अगर आप नहीं जानते हैं कि आपकी कौन सी गलतियां डायबिटीज का कारण (Causes Of Diabetes) बनती तो आपका ब्लड शुगर लेवल तेजी से बढ़ सकता है. यहां डायबिटीजे कारणों के साथ इससे निजात पाने के कारगर घरेलू उपाचारों के बारे में भी बताया गया है...

Diabetes Home Remedies: डायबिटीज में इन कारणों पर रखें नजर, यहां हैं ब्लड शुगर लेवल को कंट्रोल करने के अद्भुत घरेलू उपचार!

Diabetes Home Remedies: तुलसी, एलोवेरा और दालचीनी ब्लड शुगर लेवल को कंट्रोल करने में कमाल हैं

खास बातें

  • ब्लड शुगर लेवल को नेचुरल तरीके से भी कंट्रोल कर सकते हैं.
  • यहां कुछ घरेलू उपाय हैं जो डायबिटीज रोगियों के लिए कमाल कर सकते हैं.
  • डायबिटीज से बचने के लिए इन कारणों को नोटिस कर लें.

How Can I Control My Diabetes: अगर आपने समय पर डायबिटीज को कंट्रोल नहीं किया तो यह बीमारी कई स्वास्थ्य समस्याओं का कारण बन सकती है. डायबिटीज में ब्लड शुगर लेवल (Blood Sugar Level) को लगातार करने की सलाह दी जाती है. डायबिटीज के लिए उपाय कर आप आसानी से ब्लड शुगर लेवल को कंट्रोल कर सकते हैं. कई लोगों का सवाल होता है कि डायबिटीज को कारगर तरीके से कैसे कंट्रोल करें? जबकि हमारे घर के किचन में ही ऐसे नुस्खे मौजूद हैं जो ब्लड शुगर लेवल को कारगर तरीके से कंट्रोल कर सकते हैं. हालांकि ब्लड शुगर लेवल को मैनेज करने के और भी कई तरीके हो सकते हैं लेकिन अगर नेचुरल तरीके से डायबिटीज रोगियों को फायदा मिलता है तो इससे बेहतर और क्या हो सकता है. डायबिटीज के लिए घरेलू नुस्खे (Home Remedies For Diabetes) काफी कारगर हो सकते हैं, जो आसानी से हाई शुगर लेवल को मैनेज कर सकते हैं.

हाई शुगर लेवल का इलाज करने से पहले डायबिटीज के कारणों के बारे में जानना जरूरी है. अगर आप नहीं जानते हैं कि आपकी कौन सी गलतियां डायबिटीज का कारण बनती तो आपका ब्लड शुगर लेवल तेजी से बढ़ सकता है. यहां डायबिटीजे कारणों के साथ इससे निजात पाने के कारगर घरेलू उपाचारों के बारे में भी बताया गया है...

इन कारणों से होती है डायबिटीज | Diabetes Occurs Due To These Reasons

1. टाइप 1 डायबिटीज के कारण

टाइप 1 मधुमेह तब होता है जब आपका इम्यून सिस्टम, संक्रमण से लड़ने के लिए शरीर की प्रणाली, अग्न्याशय के इंसुलिन-उत्पादक बीटा कोशिकाओं पर हमला करती है और नष्ट कर देती है. टाइप 1 डायबिटीज जीन और पर्यावरणीय कारकों जैसे वायरस के कारण होता है, जो रोग को ट्रिगर कर सकता है. कुछ लोगों में जीन की भूमिका हो सकती है. यह भी संभव है कि एक वायरस प्रतिरक्षा प्रणाली के हमले को बंद कर दे.

type 1 diabetes immunotherapyDiabetes Home Remedies: टाइप 1 डायबिटीज में इंसुलिन बनना कम हो जाता है

2. टाइप 2 डायबिटीज के कारण

टाइप 2 मधुमेह- डायबिटीज का सबसे आम रूप है. यह कई कारकों के कारण होता है, जिसमें जीवनशैली कारक और जीन शामिल हैं.

अधिक वजन, मोटापा और शारीरिक निष्क्रियता

अगर आप शारीरिक रूप से सक्रिय नहीं हैं और अधिक वजन या मोटापे से ग्रस्त हैं, तो आपको टाइप 2 मधुमेह विकसित होने की अधिक संभावना है. अतिरिक्त वजन कभी-कभी इंसुलिन प्रतिरोध का कारण बनता है और टाइप 2 डायबिटीज वाले लोगों में आम है. शरीर में वसा के स्थान पर भी फर्क पड़ता है. अतिरिक्त पेट की चर्बी इंसुलिन प्रतिरोध, टाइप 2 डायबिटीज, और हृदय और रक्त वाहिका रोग से जुड़ा हुआ है. 

इंसुलिन प्रतिरोध

टाइप 2 डायबिटीज आमतौर पर इंसुलिन प्रतिरोध के साथ शुरू होता है, एक ऐसी स्थिति जिसमें मांसपेशी, यकृत और वसा कोशिकाएं इंसुलिन का अच्छी तरह से उपयोग नहीं करती हैं. परिणामस्वरूप, आपके शरीर को ग्लूकोज कोशिकाओं में प्रवेश करने में मदद करने के लिए अधिक इंसुलिन की आवश्यकता होती है. सबसे पहले, अग्न्याशय अतिरिक्त मांग के साथ बनाए रखने के लिए अधिक इंसुलिन बनाता है. समय के साथ, अग्न्याशय पर्याप्त इंसुलिन नहीं बना सकता है, और ब्लड शुगर लेवल बढ़ जाता है.

जीन और परिवार का इतिहास

टाइप 1 डायबिटीज में, कुछ जीन आपको टाइप 2 डायबिटीज विकसित करने की अधिक संभावना रखते हैं. रोग परिवारों में चलता है और नस्लीय / जातीय समूहों में अधिक बार होता है.


ब्लड शुगर लेवल को कंट्रोल करने के कारगर घरेलू नुस्खे | Effective Home Remedies To Control Blood Sugar Level

  • एलोवेरा का इस्तेमाल मधुमेह के रोगियों के लिए काफी फायदेमंद साबित हो सकता है. कई जबरदस्त फायदों से भरपूर एलोवेरा डायबिटीज रोगियों के लिए कारगर उपाय हो सकता है.
  • यह औषधि कई स्वास्थ्यप्रद लाभों से भरी हुई है. तुलसी में कई तरह के एंटी ऑक्सीडेंट पाए जाते हैं जो शरीर के बीटा सेल्स को इंसुलिन के प्रति सक्रिय बनाने में मदद कर सकते हैं
  • सर्दियों के मौसम में शुगर लेवल को मैनेज करने के लिए सीमित मात्रा में गाजर का सेवन करें. इससे ब्लड शुगर कंट्रोल करने  के साथ-साथ हार्ट मजबूत रहेगा. साथ ही पाचन तंत्र को भी बढ़ावा मिलेगा.
  • मूली में फॉलिड एसिड, विटामिन सी, एंथोकाइनिन पाया जाता है. रोजाना खाली पेट मूली खाने से डायबिटीज रोगियों को फायदा मिल सकता है.
  • पालक में पोटेशियम और ल्यूटिन होता है. ल्यूटिन से आर्टरीज मोटी नहीं होती है. इसके साथ ब्लड शुगर कंट्रोल करने में पालक कारगर माना जाता है.
  • मेथी में अधिक मात्रा में फाइबर होता है जो कोलेस्ट्रॉल को कम करने के साथ हाई बीपी और डायबिटीज को भी कंट्रोल में रखता है.
  • गुलमार्ग के पत्तों का सेवन कर ब्लड शुगर लेवल को कंट्रोल किया जा सकता है.
  • औषधीय गुणों से भरपूर यह मसाला ब्लड शुगर लेवल को कंट्रोल करने के लिए रामबाण माना जाता है. दालचीनी में कई ऐसे गुण पाए जाते हैं जो ब्लड शुगर को कंट्रोल करने में मददगार हो सकते हैं.
  • मेथी,सौंफ, करेला, शलजम, अलसी के बीज, जामुन, दालचीनी, आंवले, सहजन का पत्ता, नीम का सेवन कर भी डायबिटीज में लाभ मिल सकता है.
  • खीरा, करेला, चुकंदर, टमाटर, कुटकी, लौकी, पालक, मूली, चिरैता का जूस पीएं.
  • चुंकदर का सेवन करने से हाई ब्लड शुगर लेवल को मैनेज किया जा सकता है.

Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com


अस्वीकरण: सलाह सहित यह सामग्री केवल सामान्य जानकारी प्रदान करती है. यह किसी भी तरह से योग्य चिकित्सा राय का विकल्प नहीं है. अधिक जानकारी के लिए हमेशा किसी विशेषज्ञ या अपने चिकित्सक से परामर्श करें. एनडीटीवी इस जानकारी के लिए ज़िम्मेदारी का दावा नहीं करता है.