हींग का पानी Diabetes कंट्रोल करने, मोटापा घटाने और Period Pain से राहत दिलाने में है कमाल!

Hing Water For Diabetes: हींग का पानी डायबिटीज के लिए भी फायदेमंद माना जाता है क्योंकि हींग का पानी ब्लड शुगर लेवल को कंट्रोल करने (Hing Water To Control Blood Sugar Level) में काफी कारगर माना जाता है. यह ड्रिंक डायबिटीज के लिए (Drink For Diabetes) काफी फायदेमंद हो सकती है.

हींग का पानी Diabetes कंट्रोल करने, मोटापा घटाने और Period Pain से राहत दिलाने में है कमाल!

Asafoetida Water For Weight Loss: हींग का पानी डायबिटीज कंट्रोल करने और वजन घटाने में भी फायदेमंद

खास बातें

  • हींग का पानी है ब्लड शुगर लेवल को कंट्रोल करने के लिए फायदेमंद.
  • पाचन को बेहतर करने के लिए भी हींग का पानी असरदार माना जाता है.
  • यहां हैं हींग के पानी का सेवन करने के कमाल के फायदे.

Hing Water Benefits: हींग का भारतीय मसालों में प्रमुख स्थान है. हींग और जीरे का सेवन पेट दर्द (Stomach Pain) से राहत पाने और पाचन को बेहतर (Improve Digestion) करने के लिए किया जाता रहा है. गुनगुने पानी में एक चुटकी हींग मिला कर रोज पीने से पाचन तंत्र (Digestion System) बेहतर हो सकता है. साथ ही एसिडिटी (Acidity) से भी राहत मिल सकती है. हींग का पानी डायबिटीज के लिए (Hing Water For Diabetes) भी फायदेमंद माना जाता है क्योंकि हींग का पानी ब्लड शुगर लेवल को कंट्रोल करने (Hing Water To Control Blood Sugar Level) में काफी कारगर माना जाता है. हींग का सेवन पेट के लिए भी फायदेमंद हो सकता है. हींग में एंटी-वायरल, एंटी-इंफ्लेमेटरी और एंटी-बैक्टीरियल गुण पाए जाते हैं, इसलिए स्वाद के साथ यह हमारी सेहत के लिए भी काफी फायदेमंद साबित हो सकती है. हींग न सिर्फ हमारी पाचन शक्ति बढ़ाती है बल्कि हींग का पानी पीने से और भी कई फायदे हैं. पीरियड्स के दर्द (Period Pain) से भी राहत दिलाने में हींग का पानी फायदेमंद हो सकता है. यहां जानें हींग का पानी पीने के फायदों के बारें..

हींग का पानी करेगा ब्लड शुगर को कंट्रोल | Hing (Asafoetida) Water Control Blood Sugar

1. डायबिटीज कंट्रोल करने में फायदेमंद 

हींग का पानी ब्लड शुगर को कंट्रोल करने में भी मदद कर सकता है. रोजाना एक चुटकी हींग को हल्के गुनगुने पानी में मिलाकर पीने से शुगर लेवल को मैनेज किया जा सकता है. डायबिटीज रोगियों को अपने शुगर लेवल के हिसाब से इस अपनी डाइट में शामिल करना चाहिए.

uqnmnj3gHing Water For Diabetes: गुनगुने पानी में हींग मिलाकर पीने से डायबिटीज में मिल सकता है फायदा

2. सर्दी और सिरदर्द में आराम 

हींग में एंटी इंफ्लेमेटरी गुण होते हैं जिससे यह सर्दी और सिरदर्द में राहत दे सकता है. सिरदर्द में एक गिलास हींग के पानी का सेवन करना फायदेमंद हो सकता है. इसे पीने से सांस संबंधी समस्याएं का खतरा भी कम हो सकता है. 

3. वजन घटाने में फायदेमंद

हींग का पानी मेटाबोलिज्म बढ़ाता है, इससे शरीर में अतिरिक्त फैट जमा नहीं होता. इस कारण शरीर का वजन घटाने में मदद करता है. हींग शरीर में बैड कोलेस्ट्रॉल को भी कंट्रोल करने में फायदेमंद हो सकता है. हींग का पानी पेट के पीएच स्तर को भी नियंत्रित कर सकता है.

4. पीरियड्स के दर्द से मिलेगी राहत 

पहले के समय में पीरियड्स के दौरान होने वाले दर्द को कम करने के लिए महिलाएं हींग के पानी का सेवन करती थी. माना जाता है पीरियड्स के दौरान होने वाले दर्द से राहत पाने के लिए गुनगुने पानी में हींग मिलाकर पीना फायदेमंद हो सकता है. साथ ही हींग का पानी पेट में होने वाले सामान्य दर्द से भी राहत दिलाने के लिए इस्तेमाल किया जाता है.

periodsHing Water For Periods Pain: हींग के पानी को पीरियड्स के दर्द को कम करने के लिए फायदेमंद माना जाता है

  

4. खांसी, अस्थमा में कारगर

एंटी-वायरल और एंटीबायोटिक गुणों के कारण यह खांसी, अस्थमा जैसी बीमारियों में आराम दिला सकता है. अगर रोजाना हींग के पानी का सेवन करते हैं तो छाती में जकड़न और कफ जैसी समस्याओं से राहत मिल सकती है. सांस संबंधी समस्याओं में राहत पाने के लिए हींग, सोंठ और शहद को गुनगुने पानी में मिला कर सेवन कर सकते हैं.

ऐसे बनाएं हींग का पानी | How To Make Hing Water

Newsbeep

एक चुटकी हींग को हल्के गुनगुने पानी में मिलाकर पीने से कई समस्याओं में राहत मिलती है. हींग का पानी तैयार करना बहुत ही आसान है. एक गिलास गुनगुने पानी में आधा चम्मच हींग पाउडर डालकर इसे अच्छी तरह मिला लें. रोजाना सुबह खाली पेट पीना बहुत ही फायदेमंद होता है। हींग का पानी भोजन को पचाने में सहायक होता है. यह गैस और बदहजमी को भी दूर करता है.

Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com


अस्वीकरण: सलाह सहित यह सामग्री केवल सामान्य जानकारी प्रदान करती है. यह किसी भी तरह से योग्य चिकित्सा राय का विकल्प नहीं है. अधिक जानकारी के लिए हमेशा किसी विशेषज्ञ या अपने चिकित्सक से परामर्श करें. एनडीटीवी इस जानकारी के लिए ज़िम्मेदारी का दावा नहीं करता है.