Hypertension Diet: क्या चुकंदर हाई ब्लड प्रेशर को कम करने में कारगर है? एक्सपर्ट क्यों करते हैं सेवन करने की सिफारिश

Beetroot For High Blood Pressure: एक हेल्दी डाइट हाई ब्लड प्रेशर से जुड़े खतरों को हरा सकती है. हाई ब्लड प्रेशर (High Blood Pressure) के मैनेजमेंट में डाइट और लाइफस्टाइल में बदलाव करना जरूरी है, लेकिन क्या हाइपरटेंशन डाइट (Hypertension Diet) में चुकंदर का सेवन किया जा सकता है. जानें क्या है इस पर एक्सपर्ट की राय...

Hypertension Diet: क्या चुकंदर हाई ब्लड प्रेशर को कम करने में कारगर है? एक्सपर्ट क्यों करते हैं सेवन करने की सिफारिश

Hypertension Diet: चुकंदर में काफी मात्रा में पोटेशियम पाया जाता है, जो हाइपरटेंशन में फायदेमंद है!

खास बातें

  • ब्लड प्रेशर को नॉर्मल करने के लिए क्यों किया जाना चाहिए चुकंदर का सेवन.
  • हेल्दी डाइट लेकर हाई ब्लड प्रेशर को कंट्रोल किया जा सकता है.
  • पोटेशियम से भरपूर फूड्स का सेवन कर कंट्रोल करें हाई बीपी,

Healthy Hypertension DIet: उच्च रक्तचाप सबसे गंभीर जटिलताओं में से एक है और कई बीमारियों का प्रवेश द्वार है, जिसे कभी-कभी मूक आक्रमणक के रूप में भी जाना जाता है जो स्ट्रोक, डायबिटीज (Diabetes), हृदय रोगों और यहां तक कि हार्ट फेल (Heart Failure) जैसी घातक बीमारियों का कारण बनता है. एक हेल्दी डाइट (Healthy Diet) हाई ब्लड प्रेशर से जुड़े खतरों को हरा सकती है. हाई ब्लड प्रेशर (High Blood Pressure) के मैनेजमेंट में डाइट और लाइफस्टाइल में बदलाव करना जरूरी है, लेकिन क्या हाइपरटेंशन डाइट (Hypertension Diet) में चुकंदर का सेवन किया जा सकता है. उच्च रक्तचाप को धीरे-धीरे गुर्दे की प्रभावी कार्यप्रणाली को समाप्त करने के लिए जाना जाता है, जिससे किडनी की पुरानी बीमारी और किडनी फेल (Kidney Failure) हो सकती है.

जबकि हाई ब्लड प्रेशर (High Blood Pressure) के जोखिम या शुरुआत की संभावना को कम करने के लिए एक हेल्दी लाइफस्टाइल की जरूरत होती है. एक हेल्दी डाइट भी हाई ब्लड प्रेशर को कंट्रोल (Control High Bp) करने में मदद कर सकती है. हाई बीपी को कम करने वाले फूड्स (High BP Reducing Foods) कई हैं लेकिन क्या बीटरूट (Beetroot) प्रभावी रूप से हाइपरटेंशन को कंट्रोल कर सकता है?

हाई ब्लड प्रेशर को कंट्रोल करने में चुकंदर कैसे है फायदेमंद | How Beet Is Beneficial In Controlling High Blood Pressure

आमतौर पर हेल्दी ब्लड प्रेशर संख्या के लिए नमक का सेवन सीमित करने की सलाह दी जाती है. दूसरी ओर, फाइबर और पोटेशियम को आपके आहार में शामिल करने की सलाह दी जाती है. कई खाद्य पदार्थ स्वाभाविक रूप से पोटेशियम से भरे होते हैं. ये स्वाभाविक रूप से ब्लड प्रेशर को विनियमित करने में भी मदद कर सकते हैं. 

मैक्स अस्पताल में एक प्रमुख पोषण विशेषज्ञ डॉ. चारु दुआ बताती हैं, "चूंकि पोटेशियम सोडियम के प्रभाव को कम करने में मदद करता है, पोटेशियम से भरपूर खाद्य पदार्थ हाई ब्लड प्रेशर को मैनेज करने में काफी प्रभावी होते हैं. पोटेशियम से भरपूर चीजों के सेवन से शरीर मूत्र के रूप में अधिक सोडियम को बाहर निकाल देता है, जिससे रक्त वाहिका की दीवारों में तनाव को कम करने में मदद मिलती है, जिससे रक्तचाप कम होता है."

jvjc8k1gHigh Blood Pressure: पोटेशियम से भरपूर फूड्स हाई ब्लड प्रेशर को कंट्रोल करने में मदद कर सकते हैं
 

केला पोटेशियम का एक लोकप्रिय स्रोत है, लेकिन आप कई अन्य फलों और सब्जियों के बारे में नहीं जानते हैं जो पोटेशियम से भरी हुई हैं. पोटेशियम से भरी ऐसी ही एक पौष्टिक सब्जी है चुकंदर. चुकंदर के स्वास्थ्य लाभ सर्वविदित हैं. उनमें से एक यह है कि यह रक्तचाप को नियंत्रित करने में मदद कर सकता है.

"डॉ. दुआ कहती हैं, "चुकंदर पोटेशियम के प्रमुख और प्राकृतिक स्रोतों में से एक है, जो दैनिक पोषक तत्व की आवश्यकता का लगभग 11% होता है. प्रत्येक 100 ग्राम चुकंदर में लगभग 325 मिलीग्राम पोटेशियम होता है, जो रक्त वाहिका के कार्यों को बेहतर बनाने में मदद करता है. 

t6m440hoHypertension Diet: चुकंदर हाई ब्लड प्रेशर को कंट्रोल करने में मदद कर सकता है
 

सावधान रहें!

डॉ. दुआ बताती हैं, जो 120/80 से ऊपर के बीपी वाले होते हैं उन्हें डाइट के जरिए पोटेशियम के स्तर में वृद्धि की सिफारिश की जाती है, लेकिन पहले से मौजूद किडनी की समस्याओं वाले रोगियों के लिए जोखिम भरा हो सकता है. पोटेशियम की सही मात्रा को अपने आहार में शामिल करने के लिए विशेषज्ञ से सलाह जरूर लें.

Newsbeep

(डॉ. चारु दुआ, एचओडी-आहार और पोषण विशेषज्ञ मैक्स सुपर स्पेशियलिटी अस्पताल, पटपड़गंज)

Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com


अस्वीकरण: सलाह सहित यह सामग्री केवल सामान्य जानकारी प्रदान करती है. यह किसी भी तरह से योग्य चिकित्सा राय का विकल्प नहीं है. अधिक जानकारी के लिए हमेशा किसी विशेषज्ञ या अपने चिकित्सक से परामर्श करें. एनडीटीवी इस जानकारी के लिए ज़िम्मेदारी का दावा नहीं करता है.