Immunity Booster Kadha Side Effects: इम्यूनिटी बढ़ाने वाले काढ़े के हैं नुकसान भी, ये 10 लक्षण दिखने पर बरतें सावधानी

इम्यूनिटी बढ़ाने के लिए आयुर्वेदिक काढ़ा (Immunity Booster Kadha) इन दिनों खूब चलन में है. कोरोना वायरस (Coronairus) से बचाव के लिए आयुर्वेदिक काढ़े (Ayurvedic Kadha) को लोग अपने नियमित दिनचर्या में शामिल कर रहे हैं. कोव‍िड 19 (COVID-19) नाम की इस महामारी से बचाव के लिए बेहतर प्रतिरक्षा प्रणाली यानी मजबूत और स्ट्रॉन्ग इम्यूनिटी (Strong Immunity) की बात जी की जा रही है.

Immunity Booster Kadha Side Effects: इम्यूनिटी बढ़ाने वाले काढ़े के हैं नुकसान भी, ये 10 लक्षण दिखने पर बरतें सावधानी

Side Effects Of Ayurvedic Kadha: इम्यूनिटी बूस्टर आयुर्वेदिक काढ़े का ज्यादा सेवन नुकसानदायक है.

इम्यूनिटी बढ़ाने के लिए आयुर्वेदिक काढ़ा (Immunity Booster Kadha) इन दिनों खूब चलन में है. कोरोना वायरस (Coronairus) से बचाव के लिए आयुर्वेदिक काढ़े (Ayurvedic Kadha) को लोग अपने नियमित दिनचर्या में शामिल कर रहे हैं. कोव‍िड 19 (COVID-19) नाम की इस महामारी से बचाव के लिए बेहतर प्रतिरक्षा प्रणाली यानी मजबूत और स्ट्रॉन्ग इम्यूनिटी (Strong Immunity) की बात जी की जा रही है. इम्यूनिटी बढ़ाने के उपाय आयुष मंत्रालय (Ayush Ministry) ने भी साझा किए थे. प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी (PM Modi) ने भी अपने भाषणों में काढ़ा के सेवन जिक्र किया. इम्यूनिटी बढ़ाने के तरीके खोजे जा रहे हैं. 

कभी मजेदार रेस‍िपी तलाशने वाली महिलाएं भी आजकल इम्यूनिटी बढ़ाने के लिए काढ़ा कैसे बनाये (Immunity Booster Kadha Recipe) जैसी चर्चाएं ही कर रही हैं. लेकिन क्या आप जानते हैं कि इम्यूनिटी बढ़ाने के उपाय के तौर पर इस्तेमाल किए जाने वाले इस काढ़े से आपकी सेहत को कुछ नुकसान (Kadha Side Effects) भी हो सकते हैं अगर आप इसका बहुत ज्यादा सेवन कर लेते हैं तो. सबसे पहले तो यह जानना जरूरी है कि जो काढ़ा आप दुरुस्त होने के लिए ले रहे हैं वह आपको नुकसान तो नहीं पहुंचा रहा है. यह जानने के लिए आप नीचे दिए लक्षणों पर नज़र रखें. 

इम्यूनिटी बढ़ाने वाले आयुर्वेदिक काढ़े के फायदे और नुकसान (Ayurvedic Herbs: Benefits, Side Effects) 

इम्यूनिटी को मजबूत करने का सबसे अच्छा तरीका है पौष्ट‍िक आहार लेना. अब ऐसे में सवाल उठता है कि इम्यूनिटी बढ़ाने के लिए क्या खाएं. तो इन दिनों एक चीज जो इम्यूनिटी को बूस्ट करने में सबसे उपयोगी मानी जा रही है वह है आयुर्वेदिक काढ़ा. इसे ऐसे बहुत से प्रकृति‍क पौषक तत्वों से तैयार किया जाता है, जो आपकी सेहत को कई तरह के फायदे पहुंचाते हैं. इसमें जड़ी बूटियों का इस्तेमाल किया जाता है. लेकिन अति हर चीज की बुरी होती है. ठीक इसी तरह अगर आप खूबियों से भरे काढ़े का इस्तेमाल भी जरूरत से ज्यादा करेंगे तो यह नुकसानदायक हो सकता है. काढ़ा कैसे आपकी सेहत को नुकसान पहुंचा सकता है, नीचे जानें- 

10 लक्षण, जो बताएंगे कि इम्यूनिटी बूस्टर आयुर्वेदिक काढ़ा पहुंचा रहा है नुकसान (10 Side Effects Of Ayurvedic Medicine Kadha)

1. चक्कर आना
2. आंखों के आगे अंधेरा होना
3. नाक से खून आना
4. पेट में जलन रहना 
5. मुंह में छाले हो जाना
6. पेशाब में जलन
7. कब्ज या दस्त जैसी समस्या
8. त्वचा पर छोटे-छोटे दाने उभर आना 
9. गैस या अपच की श‍िकायत होना
10. अचानक से वजन में ज्यादा कमी होना


क्यों होते हैं आयुर्वेदिक काढ़े से नुकसान (Excess of Kadha can harm you)

Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com

असल में इम्यूनिटी बूस्टर आयुर्वेदिक काढ़े को आमतौर अलग-अलग जड़ी बूट‍ियों के मेल के बाद तैयार किया जाता है. कोरोना वायरस से बचाव के लिए जो इम्यूनिटी बूस्टर काढ़ा चलन में है उसमें काली मिर्च, अश्वगंधा, पीपली, दालचीनी, हल्दी, सोंठ और गिलोय जैसी औषधियों का डाल कर तैयार किया जा रहा है. यह सभी चीजें तासीर में गर्म हैं और बहुत ज्यादा मात्रा में सेवन करने पर यह नक्सीर जैसी समस्या पैदा कर सकते हैं. कई मामलों में बुखार जैसी समस्या भी देखने को मिली है. इसलिए यह जरूरी हो जाता है कि आप काढ़े का सेवन संतुलित और सुझाई गई मात्रा में ही करें. 

कैसे करें समस्या को कम 
सबसे जरूरी बात यह है कि आप वात और पित्त दोष का ध्यान रखें. इसके लिए आपको करना बस यह है कि गर्म तासीर वाली चीजें काढ़े में कम डालनी हैं और ठंडी तासीर वाली चीजें ज्यादा.