NDTV Khabar

रुजुता दिवेकर ने मानसिक स्वास्थ्य को लेकर क्या कहा ऐसा जिसे आपको नजरअंदाज नहीं करना चाहिए

Exercise For Brain Health: किसी व्यक्ति के मानसिक स्वास्थ्य में खराब होने को उसकी व्यक्ति की चाल चलन से देखा और परखा जा सकता है. आप भी जानिए कि किसी मामूली लक्षण को कहीं आप भी इग्नोर तो नहीं कर रहे हैं. यह मामूसा लगने वाला लक्षण आगे चलक अल्जाइमर, डिमेशिया रोग का कारण बन सकता है. 

 Share
ईमेल करें
टिप्पणियां
रुजुता दिवेकर ने मानसिक स्वास्थ्य को लेकर क्या कहा ऐसा जिसे आपको नजरअंदाज नहीं करना चाहिए

Exercise for brain health: व्यायाम करने से उम्र से पहले होने वाले दिमागी बदवालों को रोका जा सकता है

खास बातें

  1. मासिक स्वास्थ्य को बढ़ावा देता है व्यायाम.
  2. मानसिक रोगों के लिए एक्सरसाइज है फायदेमंद.
  3. रुजुता देवेकर ने बताएं मानसिक रोगों के संकेत.

Exercise For Brain Health: मस्तिष्क स्वास्थ्य बिगड़ना अल्जाइमर, पार्किंसंस और मनोभ्रंश जैसे रोगों मुख्य कारण है. उम्र बढ़ने पर दिमाग के होने वाले बदलावों को रोका नहीं जा सकता है लेकिन घर पर पका हुआ भोजन और नियमित व्यायाम करने के साथ स्वस्थ जीवनशैली इन रोगों की गंभीरता को कम कर सकती है, और उन्हें लंबे समय तक दूर रख सकती है. सेलिब्रिटी और न्यूट्रिशनिस्ट रुजुता दिवेकर ने अपने इंस्टाग्राम अकाउंट पर दिमागी स्वास्थ्य में गिरावट के संकेतों के बारे में बताया. इंटाग्राम पर शेयर किए गए वीडियों में उन्होंने कहा कि अभी भी अल्जाइमर और मनोभ्रंश जैसे रोगों का निदान करना मुश्किल है, लेकिन मानसिक स्वास्थ्य में गिरावट के कुछ संकेत हैं, जिन्हें जानकर आप इन रोगों से सतर्क रह सकते हैं. 

World Mental Health Day: 4 टिप्स से मानसिक स्वास्थ्य को बनाएं हेल्दी


What Is Bipolar Disorder: क्या होता है बाइपोलर डिसऑर्डर, कैसे होता है बॉर्डरलाइन बाइपोलर डिसऑर्डर से अलग

रुजुता ने कहा कि मस्तिष्क के स्वास्थ्य में गिरावट के पहले संकेत आप यह सोच कर इग्नोर कर सकते हैं कि यह दिमागी परिवर्तन है, अगर आपके आसपास किसी व्यक्ति की चाल-ढाल अगर अलग है तो यह मानसिक स्वास्थ्य के खराब होने के संकेत हो सकते हैं. रुजुता का कहना है कि मानसिक गिरावट का एक संकेत यह भी है कि व्यक्ति को भूलने की बीमारी और अपने घर के सदस्यों को न पहचान पाने जैसी मानसिक रोग हो सकते हैं. अगर आपके परिवार में कोई व्यक्ति मानसिक रूप से अस्वस्थ है तो आपका पहला टारगेट यह होना चाहिए कि ऐसे व्यक्ति को सबसे पहले जिम ज्वॉइन कराएं क्या मानसिक रोगों के लिए एक्सरसाइज से बेहतर कुछ भी नहीं है. व्यायाम करने से हमारी चाल में बदलाव हो जाता है. नियमित व्यायाम करने से मानसिक स्वास्थ्य में उम्र से पहले होने वाले बदलावों को रोका जा सकता है. 

इनता भी बुरा नहीं है फोन पर वक्त बिताना...

3fj42vnoBrain Bealth: एक्सरसाइज कर मानसिक रूप से स्वस्थ रहा जा सकता है

मानसिक स्वास्थ्य को बेहकर बनाने के लिए एक्सरसाइज: 

अगर चूहों पर किए गए एक अध्ययन पर विश्वास किया जाए, तो वैट ट्रेनिंग, स्ट्रेंथ ट्रेनिंग जैसी शारीरिक व्यायामों न करने से उम्र से पहले मैमोरी लोस को रोका जा सकता है. जब चूहे वजन उठाते हैं, तो उन्हें वजन उठाने की प्रेक्टिस हो जाती है और उनकी ताकत भी बढ़ जाती है. यही कारण है कि एक्सरसाइज करने से सोचने की क्षमता में सुधार होता है. अध्ययन इस साल जुलाई में जर्नल ऑफ एप्लाइड फिजियोलॉजी में प्रकाशित किया गया था.

Personality Disorders: बार-बार अंगुलियां चटकाने के पीछे हो सकती है यह बीमारी

278j2688Brain Health:  मानसिक स्वास्थ्य के लिए रुजुता दिवेकर ने बताया कैसे पहचाने लक्षण 

कुल मिलाकर यह कह सकते हैं कि व्यायाम करना सभी के लिए महत्वपूर्ण है. स्वस्थ हृदय, दिमाग और समग्र स्वास्थ्य के लिए कार्डियो और वेट ट्रेनिंग व्यायाम दोनों को ही अपने वर्कआउट रूटीन में शामिल करना चाहिए.

क्‍या है एडीएचडी (अटेंशन डेफिसिट हाइपरएक्टिविटी डिसऑर्डर), जानिए इसके लक्षण

और खबरों के लिए क्लिक करें

Health Tips: इन 6 ट्रिक से दूर होगा स्ट्रेस, रहेंगे हमेशा पॉजिटिव

महिला या पुरुष... कौन महसूस करता है अधिक अकेलापन?

क्या होता है इमोशनल इंटेलीजेंस, बच्चों में इसे कैसे बढ़ाएं?

कैसे दूर करें एंग्जाइटी? इससे छुटकारा पाने के लिए अपनाएं ये 7 टिप्स

क्‍या आप सोचते हैं जरूरत से ज्‍यादा?

सिज़ोफ्रेनिया: कारण और लक्षण, जिन्‍हें जानना है जरूरी

टिप्पणियां

मेंटल डिसऑर्डर से जुड़ें हैं कई मिथक, जानें इनके बारे में



Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर लाइक और ट्विटर पर फॉलो करें.


Advertisement