NDTV Khabar

World AIDS DAY: HIV पॉजीटिव दंपति दे सकते हैं स्वस्थ बच्चे को जन्म, एक्सपर्ट से जानें कैसे

World AIDS DAY: एड्स एक ऐसी बीमारी है जो धीरे-धीरे इंसान को अंदर से खोखला कर देती है. एड्स (AIDS) के कारणों और उसकी रोकथाम (Prevention) के प्रति लोगों को जागरूक करने के लिए हर साल 1 दिसंबर को वर्ल्ड एड्स डे (World AIDS DAY) मनाया जाता है.

 Share
ईमेल करें
टिप्पणियां
World AIDS DAY: HIV पॉजीटिव दंपति दे सकते हैं स्वस्थ बच्चे को जन्म, एक्सपर्ट से जानें कैसे

World AIDS DAY: डिलीवरी से पहले मां का और बाद बच्चे का इलाज कराने से बच्चे में संक्रमण की रोकथाम कर सकते हैं.

खास बातें

  1. HIV पॉजीटिव दंपति भी स्वस्थ बच्चे को जन्म दे सकते हैं.
  2. डिलीवरी से पहले के 24 हफ्ते तक संक्रमित मां को इलाज कराना है जरूरी.
  3. जानें बच्चे में कैसे HIV संक्रमण की रोकथाम कर सकते हैं.

World AIDS DAY: एड्स एक ऐसी बीमारी है जो धीरे-धीरे इंसान को अंदर से खोखला कर देती है. एड्स (AIDS) के कारणों और उसकी रोकथाम (Prevention) के प्रति लोगों को जागरूक करने के लिए हर साल 1 दिसंबर को वर्ल्ड एड्स डे (World AIDS DAY) मनाया जाता है. एचआइवी (HIV) यानि ह्यूमन इम्यूनो डिफिसिएंसी वायरस से संक्रमण के बाद की स्थिति एड्स है. वर्ल्ड हेल्थ ऑर्गेनाइजेशन के अनुसार पूरी दुनिया में करीब साढ़े तीन करोड़ लोग एचआईवी पीड़ित हैं. लेकिन सवाल ये भी है कि क्या एचआईवी संक्रमित दंपति (HIV Positive Couple) से जन्मे बच्चे को संक्रमण (Infection) से बचाया जा सकता है? इस बारे में डॉ. सिद्धार्थ, मेडिकल ऑफिसर (ड्रग) दाद देव मदर एण्ड चाइल्ड हॉस्पिटल, दिल्ली ने बताया कि एचआई संक्रमित मां-बाप से जन्मे बच्चे में एचआईवी की रोकथाम (HIV Prevention In Child) की जा सकती है अगर बच्चे को जन्म देने से पहले मां के इलाज की अवधि 24 हफ्ते से ज्यादा हो. 

World AIDS Day: क्या वाकई एड्स से बचाता है खतना, यहां जाने पूरा सच, क्या होता है खतना 


डॉक्टर ने कहा कि दंपति को जब भी प्रेग्नेंसी (Pregnancy) का पता लगे तो जल्द से जल्द एचआईवी के टेस्ट (HIV Test) करा के जरूरत के हिसाब से इलाज (Treatment) शुरू कराना चाहिए. इससे बच्चे को संक्रमण (Child Infection) से बचाया जा सकता है. यहां हम बता रहे हैं बच्चे में किन-किन तरीकों से संक्रमण की रोकथाम की जा सकती है...

World AIDS Day: इन 5 बातों का रखेंगे ध्यान तो कभी नहीं होगा एड्स! जानें एड्स के लक्षण, कारण और बचाव के तरीके

डिलीवरी से पहले के 24 हफ्ते हैं जरूरी

HIV संक्रमित मां-बाप से जन्मे बच्चे में एचआईवी संक्रमण की रोकथाम करने के लिए मां को डिलीवरी से 24 हफ्ते पहले इलाज शुरू करा देना चाहिए. ताकि बच्चे को एचआईवी के संक्रमण से बचाया जा सके. डॉक्टर सिद्धार्थ का कहना है कि जब भी दंपति डिलीवरी का पता लगे तो तुरंत चेकअप के लिए जाना चाहिए और टेस्ट कराने चाहिए और जरूरत के मुताबित इलाज शुरू करा देना चाहिए. ताकि एक स्वस्थ बच्चे को जन्म दिया जा सके.

HIV and AIDS: जानें एचआईवी के बारे में सबकुछ, क्या होती हैं वजहें, लक्षण और इलाज

early c section deliveryWorld AIDS DAY: HIV संक्रमित मां को डिलीवरी से 24 हफ्ते पहले इलाज शुरू करा देना चाहिए

डिलीवरी के बाद बच्चे का ऐसे कराएं इलाज...

डिलीवरी के बाद बच्चे की 6 हफ्ते से लेकर 12 हफ्ते तक दवाई चलेंगी, और अलग-अलग समस पर बच्चे के टेस्ट होते हैं. जो 6 महीने में और 18 महीने में होते हैं. इन टेस्ट से यह पता लगा सकते हैं कि बच्चे में HIV संक्रमण है या नहीं. 

Immunity: बच्चों की इम्यूनिटी बढ़ाने के लिए असरदार हैं 4 टिप्स, बार-बार नहीं होंगे बीमार!

डिलीवरी के बाद मां का दूध न पिलाएं

डॉक्टर सिद्धार्थ का कहना है कि जिस बच्चे को संक्रमण से बचाना है उसे डिलीवरी के बाद एचआई संक्रमित मां का दूध न पिलाकर अन्य तरह का दूध पिलाया जाए तो एचआईवी होने की संभावना को 20 प्रतिशत तक घटाया जा सकता है. ऐसे में यह भी ध्यान रखना जरूरी की बच्चे की दवाई समय पर चले और टेस्ट को कराते रहने चाहिए. मां को 24 हफ्ते दवाई चले और बच्चे को को 6 से 12 हफ्ते दवाई चले तो बच्चे में संक्रमण होने के चांसेस 40 से 50 प्रतिशत तक घट जाएंगे. इससे एचआईवी संक्रमित दंपति को एक स्वस्थ बच्चा मिलना संभव है. 

fdeopaakWorld AIDS DAY: HIV संक्रमित दंपति को समय-समय पर टेस्ट कराने जरूरी होते हैं

Diabetes: डायबिटीज को करना है कंट्रोल तो अपनाएं ये नुस्खे, असर देख रह जाएंगे हैरान!

टेस्ट कराना जरूरी

डॉक्टर का कहना है कि HIV संक्रमित दंपति को समय-समय पर टेस्ट कराने जरूरी होते हैं. रिपोर्ट अगर 2 बार पॉजिटिव आती है, तो ही दवाई शुरू की जाती है. आपको दवाइयों के साइडइफेट्स की चिंता किए बिना ही दवाइयां शुरू करनी चाहिए. क्योंकि साइडइफेक्ट्स का इलाज संभव है लेकिन अगर आप दवाई नहीं लेंगे तो संक्रमण से बच्चे को बचाना और मुश्किल हो जाएगा.

Weight Loss: तोंद घटानी है तो करें ये 4 आसान काम! जानें पेट की चर्बी बढ़ने के कारण...

बच्चे को संक्रमण से बचाने के लिए 4 चीजों का रखें ध्यान

1. बच्चे का सही समय पर इलाज शुरू कराना.
2. बच्चे को मां का दूध न पिलाएं.
3. समय-समय पर इलाज कराना जरूरी है. 
4. बच्चे के समय पर टेस्ट कराने जरूरी हैं.      

और खबरों के लिए क्लिक करें 

Type 2 Diabetes: ब्लड शुगर लेवल को कंट्रोल करने के ये उपाय हैं असरदार! जानें डाइबिटीज कैसे करें कंट्रोल

विक्की कौशल ने की लेग प्रेस एक्सरसाइज, शेयर किया जिम का वीडियो, जानिए इस एक्सरसाइज के फायदे

Diabetes Tips: ब्लड शुगर कंट्रोल करने के लिए असरदार हैं ये टिप्स! जानें इंसुलिन क्यों है जरूरी

प्रीमेच्योर बेबी के लिए बहुत जरूरी है मां का दूध, बचाता है इस खतरनाक बीमारी से...

Skin Care: सर्दियों में खो न जाए स्किन का ग्लो, आजमाएं ये टिप्स पाएं, दमकती स्किन!

टिप्पणियां

Vitamin B12 Deficiency: क्या और क्यों होती है विटामिन बी 12 की कमी, विटामिन बी12 के स्रोत

Gym Diet: छोड़ दिया है जिम तो ये 6 सुपर फूड्स रखेंगे बॉडी को फिट



Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर लाइक और ट्विटर पर फॉलो करें.


 Share
(यह भी पढ़ें)... सेक्स कम करने से 35 की उम्र के बाद महिलाओं में आती है ये परेशानी

Advertisement