NDTV Khabar

वर्ल्ड डायबिटीज डे 2019: मधुमेह के इलाज में मददगार हो सकती हैं आयुर्वेदिक दवा

World Diabetes Day 2019: आज वर्ल्ड डायबिटीज डे है. मधुमेह यानी शुगर या डायबिटीज की बीमारी देश में तेजी से पैर पसार रही है. डायबिटीज एक बड़ी स्वास्थ्य समस्या बनकर उभर रही है. ऐसे में लोग डायबिटीज की दवा (Diabetes Medicine) लेते हैं. कुछ लोग डायबिटीज की एलोपैथिक दवा लेते हैं.

 Share
ईमेल करें
टिप्पणियां
वर्ल्ड डायबिटीज डे 2019: मधुमेह के इलाज में मददगार हो सकती हैं आयुर्वेदिक दवा

World Diabetes Day: मधुमेह पर जागरुकता फैलान के लिए हर साल 14 नवंबर को वर्ल्ड डायबिटीज डे मनाया जाता है.

आज वर्ल्ड डायबिटीज डे (World Diabetes Day 2019) है. मधुमेह यानी शुगर या डायबिटीज की बीमारी देश में तेजी से पैर पसार रही है. डायबिटीज एक बड़ी स्वास्थ्य समस्या बनकर उभर रही है. ऐसे में लोग डायबिटीज की दवा (Diabetes Medicine) लेते हैं. कुछ लोग डायबिटीज की एलोपैथिक दवा लेते हैं. लेकिन कुछ लोग जिन पर एलोपैथिक चिकित्सा पद्धति प्रभावी साबित नहीं हो पा रही है, उनके लिए सरकार आयुर्वेदिक दवाओं को विकसित करने पर विशेष ध्यान दे रही है. विश्व मधुमेह दिवस (14 नवंबर) इस बीमारी से निपटने की तैयारी की समीक्षा का भी समय है. सरकार देश भर में वैकल्पिक चिकित्सा पद्धति को बड़े स्तर पर बढ़ावा दे रही है, वहीं विभिन्न सरकारी अनुसंधान एजेंसियां आयुर्वेद और चिकित्सकीय जड़ी-बूटियों के आधार पर आधुनिक दवाएं विकसित करने पर जोर दे रही हैं.

Remedies For Diabetes: सर्दियों में खाएं ये बस 4 चीजें, ड़ायबीटिज होगी कंट्रोल


इन्हीं में वैज्ञानिक व औद्योगिक अनुसंधान परिषद (सीएसआईआर) की दो प्रयोगशालाएं राष्ट्रीय वानस्पतिक अनुसंधान संस्थान (एनबीआरआई) और केंद्रीय औषधीय और सुगंधित पादप संस्थान (सीआईएएमपी) का ताजा प्रयास भी शामिल है. इन दोनों ने अपने साझा प्रयास से बीजीआर-34 नाम की मधुमेह के उपचार की आयुर्वेदिक दवा विकसित की है. इसे टाइप-2 मधुमेह के प्रबंधन में प्रभावी पाया गया है.

Diabetes Mistakes: ये 5 गलतियां बढ़ा सकती हैं आपका बल्ड शुगर लेवल, ऐसे करें कंट्रोल..

3mafge2g

World Diabetes Day: मधुमेह पर जागरुकता फैलान के लिए हर साल 14 नवंबर को वर्ल्ड डायबिटीज डे मनाया जाता है. 

एक बयान में बताया गया है कि आयुर्वेदिक फार्मूले से बनी इस आधुनिक दवा के प्रभाव को वैज्ञानिक आकलन के आधार पर प्रमाणित किया जा चुका है. इस बीमारी के गंभीर मरीजों के इलाज में इस दवा को पूरक औषधि के तौर पर इस्तेमाल किया जाता है. 'ट्रेडिशनल एंड कंप्लीमेंट्री मेडिसिन' नाम के वैज्ञानिक शोध प्रकाशन में प्रकाशित अध्ययन में भी बीजीआर- 34 को मधुमेह के मरीजों में हृदयाघात के खतरे को 50 फीसदी तक कम करने के लिए प्रभावी पाया गया है.

Blood Sugar Levels: ब्लड शुगर को कंट्रोल करने के 4 आसान तरीके!

एनबीआरआई के पूर्व वैज्ञानिक ए.के.एस. रावत कहते हैं, "यह दवा बहुत से औषधीय पादपों से तैयार की गई है. इनमें गिलोय, मेथी, दारूहरिद्रा, विजयसार, मजीठ, मेठिका और गुड़मार शामिल हैं. ये मधुमेह का प्रभाव कम करने वाले माने गए हैं और रक्त में शर्करा की मात्रा को संतुलित करते हैं. विभिन्न अध्ययनों से साबित हुआ है कि इनसे रक्त शर्करा का प्रबंधन और कोलेस्ट्रॉल को नियंत्रित रखने में मदद मिलती है."

और खबरों के लिए क्लिक करें.

और खबरों के लिए क्लिक करें

Unhealthy Food: चिप्स हो सकते हैं खतरनाक, रहें सतर्क कहीं आपको न हो जाए डायबिटीज और दिल की बीमारी!

Type 2 Diabetes Diet: आज ही जानें टाइप 2 डायबिटीज का क्या है इलाज? बता रहे हैं एक्सपर्ट्स

हरे चने खाने से नहीं आएगा बुढ़ापा, डायबिटीज, ब्लड प्रेशर, पाचन के साथ जानें 10 फायदे

Causes Of Diabetes: इन 6 चीजों का रखें ध्यान नहीं होगी डायबिटीज!

Sleeping Disorder: नींद पूरी न होने की वजह से हो सकती हैं ये 5 बीमारियां

टिप्पणियां

Fluorosis Disease: फ्लोरोसिस हो सकता है दातों पर दाग की वजह, जानें कैसे करें इलाज

Signs Of Kidney Disease: किडनी से जुड़ी समस्याओं से पहले दिखते हैं ये लक्षण, जानें गुर्दा रोगों से बचाव के 6 उपाय



(इस खबर को एनडीटीवी टीम ने संपादित नहीं किया है. यह सिंडीकेट फीड से सीधे प्रकाशित की गई है।)


Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर लाइक और ट्विटर पर फॉलो करें.


Advertisement