World Mental Health Day 2020: योग मानसिक स्वास्थ्य के लिए कैसे है लाभदायक? मेंटल हेल्थ को बेहतर बनाने के लिए 5 योगासन

World Mental Health Day: मेंटल हेल्थ को लेकर जागरुकता बेहद जरूरी है. मानसिक स्वास्थ्य (Menatl Health) का हेल्दी रहना सबसे ज्यादा जरूरी है. लोगों को मानसिक स्वास्थ्य के प्रति संवेदनशील और जागरूक करने के उद्देश्य से 10 अक्टूबर को विश्व मानसिक स्वास्थ्य दिवस मनाया जाता है. मानसिक स्वास्थ्य के लिए योग (Yoga For Mental Health) काफी फायदेमंद माना जाता है.

World Mental Health Day 2020: योग मानसिक स्वास्थ्य के लिए कैसे है लाभदायक? मेंटल हेल्थ को बेहतर बनाने के लिए 5 योगासन

World Mental Health Day 2020: योग मन को शांत रखने और धैर्य में वृद्धि करने में फायदेमंद है

खास बातें

  • मानसिक स्वास्थ्य को बेहतर बनाने के लिए योग है फायदेमंद.
  • योग मन की शांति और धैर्य को बनाए रखने में है लाभदायक.
  • यहां जानें योग करने से मानसिक स्वास्थ्य को क्या होता है फायदा.

World Mental Health Day 2020: मेंटल हेल्थ को लेकर जागरुकता बेहद जरूरी है. मानसिक स्वास्थ्य (Menatl Health) का हेल्दी रहना सबसे ज्यादा जरूरी है. लोगों को मानसिक स्वास्थ्यके प्रति संवेदनशील और जागरूक करने के उद्देश्य से 10 अक्टूबर को विश्व मानसिक स्वास्थ्य दिवस (World Mental Health Day) मनाया जाता है. हमारी लाइफस्टाइल कई ऐसे रुटीन से भरी है जिसमें चिंता और अवसाद (Anxiety And Depression) जैसे मानसिक स्वास्थ्य यानि मेंटल हेल्थ (Menatl Health) समस्याओं का होना आम बात है. योग का पूरा ध्यान आपके शरीर कि गति और मन की शांति पर होता है. यह मूड को बेहतर बनाने में, अध्यात्मिकता बढ़ाने में, फ्लैक्सिबिलिटी, जॉइंट्स को लंबे समय के लिए एक्टिव रखने पर ध्यान देता है.

मानसिक स्वास्थ्य में सुधार के तरीके (Ways To Improve Mental Health) कई हैं, लेकिन योग से बेबहतर कुछ नहीं! मासिक स्वास्थ्य को लेकर योग (Yoga) के बारे में जागरूकता में वृद्धि हुई है. चिकित्सक, मनोवैज्ञानिक और मनोचिकित्सक, सभी सलाह देते हैं कि दवा लेने से पहले निवारक उपाय और गैर-चिकित्सा उपचार की कोशिश की जानी चाहिए. समय, लाइफस्टाइल और परिस्थितियों के चलते कई मानसिक रोग पैदा हो गए हैं.

इसी के चलते मेंटल हेल्थ डे (Mental Health Day) मनाने की जरूर महसूस हो रही है. लोगों को मानसिक स्वास्थ्य को लेकर जागरुक करने के लिए वर्ल्ड मेंटल हेल्थ डे पर जानें योग कैसे है मानसिक स्वास्थ्य के लिए फायदेमंद और कौन से योगासन करने से दूर रहेंगे मानसिक विकार...

मानसिक स्वास्थ्य को कैसे हेल्दी रखता है योग | How Yoga Keeps Mental Health Healthy

1. फोकस में है मददगार

जिन लोगों को एडीएचडी जैसे विकार हैं, उन्हें अक्सर योग करने की कोशिश करने के लिए कहा जाता है क्योंकि यह दिमाग को केंद्रित करने में मदद करते हुए शरीर को आराम दिलाने में मदद करता है. एडीएचडी एक विकार है जो सीधे फोकस और ध्यान बनाए रखने को प्रभावित करता है. फोकस के लिए ऐसे योग को रुटीन में शामिल करना चाहिए जो सांस लेने की तकनीकों को शामिल करता है और फोकस को बढ़ावा देता है.

2. मन को शांत करने में फायदेमंद

अशांत मन किसी को भी डिप्रेशन में डाल सकता है. मानसिक समस्याओं के मुख्य कारणों में से अशांत मन है. डॉक्टर योग की सलाह देते हैं क्योंकि योग में जटिल आसन और सांस लेने के व्यायाम शामिल होते हैं जो आपके शरीर और दिमाग को शांत करने के लिए जाने जाते हैं. इन पोज को करने से चिंता को रोकने में मदद मिल सकती है.

mind 650

World Mental Health Day 2020: योग मन की शांति के लिए काफी लाभकारी माना जाता है 

3. धैर्य को देता है बढ़ाता

चिंता, अवसाद और द्विध्रुवी जैसे विकारों का एक आम दुष्प्रभाव धैर्य की कमी है. इससे अनियंत्रित क्रोध प्रकोप होता है. योग में प्राणायाम के रूप में जानी जाने वाली कई श्वसन गतिविधियां शामिल हैं जो आपके शरीर और दिमाग को शांत कर धैर्य बनाने में मदद करती हैं. इन अभ्यासों को करने से आपके धैर्य और आंतरिक संतुलन की भावना में सुधार हो सकता है और गुस्से के प्रकोप को रोकने में मदद मिल सकती है.

4. मूड में होता है सुधार

शारीरिक व्यायाम से एंडोर्फिन और डोपामाइन जैसे स्वस्थ मस्तिष्क रसायन निकलते हैं. यह आपके मूड को संतुलित करने और अवसाद जैसे सामान्य मानसिक स्वास्थ्य मुद्दों से निपटने में मदद करता है. चिकित्सक मानसिक शांति और एकाग्रता के लिए और आपके मूड को बेहतर बनाने के लिए योग की सलाह देते हैं. यह द्विध्रुवी विकार का प्रबंधन करने में मदद करने का एक प्रभावी तरीका है.

4. आत्मविश्वास बनाने में है मददगार

योग आत्म-सम्मान के मुद्दों से पीड़ित लोगों की मदद कर सकता है. आत्मविश्वास या आत्म-सम्मान में कमी को अक्सर अवसाद और चिंता का कारण माना जाता है. नियमित रूप से योग करने से आपके शरीर को केंद्र में रखने और इसे धीरे-धीरे विकसित करने में मदद मिलती है. यह आपके आत्मविश्वास में सुधार करता है. योग में सांस लेने से आपके आत्म-संदेह से छुटकारा पाने में मदद मिल सकती है.

मानसिक स्वास्थ्य को बूस्ट करने के लिए 5 योगासन | 5 Yogasanas To Boost Mental Health

1. वीरभद्रासन

आमतौर पर इस योग आसन को "योद्धा मुद्रा" के रूप में जाना जाता है. इस अभ्यास के लिए कई विविधताएं हैं, जिनमें से सभी को ध्यान केंद्रित करने और स्थिर सांस लेने की जरूरत होती है. वीरभद्रासन न केवल आपके शरीर को लचीला और मजबूत बनाता है, बल्कि यह आपके मन-मस्तिष्‍क को भी शांत कर आपका फोकस बढ़ाने में मददगार हो सकता है.

warrior pose

World Mental Health Day 2020: इस योग आसन को "योद्धा मुद्रा" के रूप में जाना जाता है

वीरभद्रासन करने का तरीका

- अपने पैरों को फैलाएं, अपने कूल्हों को एक तरफ घुमाएं.
- अपनी टखनों को उस तरफ घुमाएं जिस तरफ आपका शरीर है.
- सामने के पैर को 90 डिग्री के कोण पर मोड़ें.
- अपनी भुजाओं को फैलाएं और 10 सेकंड के लिए गहरी और समान रूप से सांस लें.

2. वज्रासन

यह एक ध्यान मुद्रा है जिसे ध्यान, शांति और पाचन में सुधार के लिए जाना जाता है. वज्रासन घुटनों को मोड़ने के बाद पैरों पर बैठकर किया जाने वाला आसन है. यह संस्कृत के शब्द ‘वज्र' से बना है, जिसका अर्थ है आकाश में गरजने वाली बिजली. इसे डायमंड पोज भी कहते हैं.

vajrasana 650x400

करने का तरीका

- अपने घुटनों पर बैठकर शुरू करें.
- अपनी टखनों को बाहर की ओर फैलाएं, अपनी जांघों और पिंडलियों को एक साथ लाएं.
- फिर अपनी हथेलियों को अपने घुटनों पर रखें.
- 30 सेकंड या एक मिनट के लिए अंदर और बाहर गहरी सांस लें.

3. अंजनायासन

इस पोज़ को "हाई लंज" के रूप में भी जाना जाता है. इस अभ्यास के वर्धमान बदलाव को करने से आपके रक्त प्रवाह को बेहतर बनाने में मदद मिल सकती है, जिससे आपका दिमाग शांत होता है. अगर आप मन की शांति के लिए योग कर रहे हैं तो यह आसन आपके लिए काफी लाभकारी हो सकता है.

ppkdef9g

अंजनायासन करने का तरीका

- खड़े होते समय अपने एक पैर को आगे की ओर झुकाएं.
- सामने के घुटने को मोड़ें, सुनिश्चित करें कि आपका घुटने आपके टखने के अनुरूप है, अपने पिछले पैर को फैलाएं.
- दोनों टखनों पर जमीन के खिलाफ अपने टखने के फ्लैट को दबाएं.
- अपनी बाहों को आसमान की तरफ उठाएं और अपनी हथेलियों को जोड़ लें.
- गहरी सांस लें और एक समान प्रवाह में सांस छोड़ें.
- दोनों पैर के साथ 5 बार दोहराएं.

4. गरुड़ासन

इस मुद्रा को आमतौर पर ईगल मुद्रा के रूप में जाना जाता है. इस मुद्रा में आपको अपने शरीर को संतुलन में रखते हुए सांस लेने की जरूरत होती है. यह आपका ध्यान केंद्रित करते हुए चिंता हमलों को रोकने में मदद कर सकता है. इस योग आसान को अपने रोजाना के रुटीन में शामिल किया जाना चाहिए.

fish pose

गरुड़ासन करने का तरीका

- गहरी सांस लें, अपने शरीर का भार एक पैर पर रखें.
- धीरे-धीरे एक पैर को दूसरे के चारों ओर लपेटें.
- अपने कूल्हों को सिंक करें और धीरे से अपने घुटनों को मोड़ें.
- अपने टखने को जमीन पर सपाट रखें.
- अपनी सांस को भी धीमी और धीमी रखें.
- कोहनी और कलाई पर एक हाथ को दूसरे के चारों ओर लपेटें.

5. नटराजासन

योग की यह मुद्रा रीढ़ की हड्डी के लिए बहुत ही लाभप्रद मानी जाती है. आमतौर पर "नर्तक की मुद्रा" के रूप में जाना जाता है. यह आसन मूड संतुलन के लिए बहुत अच्छा माना जाता है. यह उन लोगों के लिए फायदेमंद हो सकता है जो अवसाद और चिंता से लड़ रहे हैं.

natrajasana

नटराजासन करने का तरीका

- जमीन पर लगाए गए दोनों पैरों के साथ, एक घुटने को पीछे झुकाएं; अपने हाथ से टखने को पकड़ें.
- धीरे-धीरे एक स्थिर मुद्रा रखते हुए, आगे झुकें और अपने टखने को आकाश की ओर उठाएं.
- अपने फ्री हैंड को अपने सामने बढ़ाएं.
- 5 गहरी सांस लें.

Newsbeep

Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com


अस्वीकरण: सलाह सहित यह सामग्री केवल सामान्य जानकारी प्रदान करती है. यह किसी भी तरह से योग्य चिकित्सा राय का विकल्प नहीं है. अधिक जानकारी के लिए हमेशा किसी विशेषज्ञ या अपने चिकित्सक से परामर्श करें. एनडीटीवी इस जानकारी के लिए ज़िम्मेदारी का दावा नहीं करता है.