World Osteoporosis Day 2020: ऑस्टियोपोरोसिस या कमजोर हड्डियों से निजात पाने के लिए रोजाना करें 5 योगाभ्यास!

World Osteoporosis Day: विश्व ऑस्टियोपोरोसिस दिवस (WOD), प्रत्येक साल 20 अक्टूबर को ऑस्टियोपोरोसिस की रोकथाम, निदान और उपचार के बारे में वैश्विक जागरूकता बढ़ाने का प्रतीक है. वर्ल्ड ऑस्टियोपोरोसिस डे (World Osteoporosis Day) का उद्देश्य स्वास्थ्य देखभाल पेशेवरों, रोगियों और बड़े पैमाने पर लोगों तक पहुंचकर ऑस्टियोपोरोसिस और फ्रैक्चर की रोकथाम (Fracture Prevention) को वैश्विक स्वास्थ्य प्राथमिकता बनाना है.

World Osteoporosis Day 2020: ऑस्टियोपोरोसिस या कमजोर हड्डियों से निजात पाने के लिए रोजाना करें 5 योगाभ्यास!

World Osteoporosis Day 2020: यह दिन ऑस्टियोपोरोसिस की रोकथाम के बारे में वैश्विक जागरूकता बढ़ाने का प्रतीक है

खास बातें

  • 20 अक्टूबर को ऑस्टियोपोरोसिस डे इसके प्रति जागरूकता के लिए मनाया जाता है.
  • महिलाओं को ऑस्टियोपोरोसिस से पीड़ित होने का जोखिम ज्यादा होता है.
  • ऑस्टियोपोरोसिस से आराम पाने के लिए यहां 4 योगासन दिए गए हैं.

World Osteoporosis Day 2020: विश्व ऑस्टियोपोरोसिस दिवस (WOD), प्रत्येक साल 20 अक्टूबर को ऑस्टियोपोरोसिस की रोकथाम, निदान और उपचार के बारे में वैश्विक जागरूकता बढ़ाने का प्रतीक है. वर्ल्ड ऑस्टियोपोरोसिस डे (World Osteoporosis Day) का उद्देश्य स्वास्थ्य देखभाल पेशेवरों, नीति निर्माताओं, रोगियों और बड़े पैमाने पर लोगों तक पहुंचकर ऑस्टियोपोरोसिस और फ्रैक्चर की रोकथाम (Fracture Prevention) को वैश्विक स्वास्थ्य प्राथमिकता बनाना है. ऑस्टियोपोरोसिस बीमारी (Osteoporosis Disease) में होने वाली जटिलताएं पीठ दर्द, कूल्हे और रीढ़ की हड्डी के फ्रैक्चर के रूप में सामने आती हैं.

पुरुषों की तुलना में महिलाओं को ऑस्टियोपोरोसिस से पीड़ित होने का जोखिम ज्यादा होता है, क्योंकि पुरुषों की तुलना में महिलाओं में रजोनिवृत्ति के बाद हार्मोन परिवर्तन होते हैं. हड्डियां कमजोर होने पर फ्रैक्चर होने का खतरा भी बढ जाता है. हड्डियों की मजबूती के लिए शारीरिक रूप से एक्टिव रहने की जरूरत होती है. यहां 4 योगासन दिए गए हैं जिन्हें रोजाना अपने डेली रुटीन में शामिल कर काफी लाभ पा सकते हैं.

ऑस्टियोपोरोसिस से लड़ने के लिए कारगर हैं ये 5 योगासन | These 5 Yogasanas Are Effective In Fighting Osteoporosis

1. सेतुबंधासन

सेतुबंधासन को करने के लिए पीठ के बल लेट जाएं. अपने घुटनों को मोड़ें और अपने पैरों को जमीन पर एक दूसरे से कुछ दूरी पर रखें. घुटनों और टखनों के साथ यह एक सीधी रेखा में होने चाहिए. अपनी बाजुओं को अपने शरीर के अगल-बगल रखें और आपकी हथेलियां नीचे की तरफ होनी चाहिए. अब सांस को अंदर की और खींचे और अपनी कमर के निचले, बीच वाले और ऊपरी हिस्से को धीरे-धीरे ऊपर उठाएं. अपने कंधों को इस दौरान आराम से मोड़ें. ठोड़ी को नीचे लाए बिना छाती को ठोड़ी से स्पर्श करें. अपने कूल्हों और शरीर को इस पोज में लाने की कोशिश करें. आराम से सांस लेते रहें.

lkebkluWorld Osteoporosis Day: सेतुबंधासन कर हड्डियों को मजबूत किया जा सकता है.

2. उत्तानासन

सीधे खड़े हो जाएं और दोनों हाथ हिप्स पर रखें. कमर को मोड़ते हुए आगे की तरफ झुकें. हिप्स और टेलबोन को हल्का सा पीछे की ओर ले जाएं. धीरे-धीरे हिप्स को ऊपर की ओर उठाएं और दबाव ऊपरी जांघों पर आने लगेगा। हाथों से टखने को पीछे की ओर से पकड़ें. आपका सीना पैर के ऊपर छूता रहेगा. इस स्थिति में 15-30 सेकेंड तक बने रहें. उत्तानासन हड्डियों में खिंचाव पैदा करके उन्हें मजबूत बनाने में मदद करता है. ये आसन रीढ़ की निचली हड्डियों, पैरों और हिप्स की हड्डी को मजबूत बनाने में भी फायदेमंद हो सकता है.

3. वीरभद्रासन

सीधे खड़े हो जाएं. इस आसन को करने के लिए आप ताड़ासन की मुद्रा में भी खड़े हो सकते हैं. अब अपने दोनों पैरों को सीधे रखे हुए अपने ऊपर के शरीर को नीचे की ओर झुकाये और अपने दोनों हाथों को फर्श पर रखने का प्रयास करें. दोनों हाथों को फर्श पर रखें हुए अपने बाएं पैर को उठायें और पीछे की ओर सीधा करने का प्रयास करें. इसके बाद अपने अपने दोनों हाथों को भी धीरे-धीरे ऊपर करते जाएं. अपने धड़ यानि ऊपर के शरीर को ऊपर करें और उसे फर्श के समान्तर ले आएं. अब अपने दोनों हाथों को सीधा करें और उनको भी जमीन के समान्तर ले आएं. अपने दायं पैर पर संतुलन बनाए और इस मुद्रा में रहने का प्रयास करें. सांस लें और दोहराएं. वीरभद्रासन बहुत कमाल का आसन है क्योंकि ये एक साथ आपकी बांहों, रीढ़ और पैरों पर काम करता है. ये मांसपेशियों के साथ ही हड्डियों को भी मजबूत बनाता है.

372fs428World Osteoporosis Day: वीरभद्रासन बांहों, रीढ़ और पैरों पर काम करता है.

4. उत्थित पार्श्वकोणासन

पैर को 4 से 5 इंच तक खोल लें. हाथों को कंधों के सीध में ऊपर की ओर खोलें. अब धीरे-धीरे बाएं पैर को घुटने से मोड़ें और बाएं हाथ को नीचे बिल्कुल पंजों के पास लाकर जमीन पर टिकाएं. इस स्थिति में आपका दांया हाथ बिल्कुल ऊपर की ओर रहेगा और नजरें दाएं हाथ पर. दो से तीन सांस तक यहां होल्ड करें फिर वापस उसी स्थिति में आ जाएं. अब यही अभ्यास दाएं ओर से दोहराएं. यह योग पैरों, घुटनों और टखनों में खिचाव लाकर उन्हें मजबूत बनाता है.

 

5. चक्रासन

Newsbeep

सबसे पहले पीठ के बल लेट जाएं और पैरों को घुटने से मोड़ें जिससे एड़ी हिप्स को छुए और पंजे जमीन पर हों। अब गहरी सांस लेते हुए कंधे, कमर और पैर को ऊपर की ओर उठाएं। इस प्रक्रिया के दौरान गहरी सांस लें और छोड़ें। फिर हिप्स से लेकर कंधे तक के भाग को जितना हो सके ऊपर उठाने का प्रयास करें। कुछ क्षण बाद नीचे आ जाएं और सांसे सामान्य कर लें. यह योग हड्डियों को मजबूत कर पेट की चर्बी और मोटापा कम करने में मदद कर सकता है.

Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com


अस्वीकरण: सलाह सहित यह सामग्री केवल सामान्य जानकारी प्रदान करती है. यह किसी भी तरह से योग्य चिकित्सा राय का विकल्प नहीं है. अधिक जानकारी के लिए हमेशा किसी विशेषज्ञ या अपने चिकित्सक से परामर्श करें. एनडीटीवी इस जानकारी के लिए ज़िम्मेदारी का दावा नहीं करता है.