Yogasan For Stomach Problems: खराब पाचन की समस्या से हैं परेशान, तो इन योगासन से होंगी पेट की सभी समस्याएं दूर

How To Get Rid Of Stomach Problems: योगासन पेट के स्वास्थ्य के लिए कितने फायदेमंद हैं इसका शायद आप अंदाजा भी न लगा सकें, लेकिन खराब पाचन (Poor Digestion) से जुड़ी पेट की सभी समस्याओं (Stomach Problems) को दूर करने के लिए योग एक नेचुरल उपाय हो सकता है. अनियमित जीवनशैली और खराब खानपान के कारण अक्सर पेट से जुड़ी किसी न किसी समस्या से जूझना पड़ता है.

Yogasan For Stomach Problems: खराब पाचन की समस्या से हैं परेशान, तो इन योगासन से होंगी पेट की सभी समस्याएं दूर

Yoga To Keep Your Stomach Healthy: पेट की समस्याओं को दूर करने के लिए योगासन काफी फायदेमंद हैं

खास बातें

  • पेट की समस्याओं को दूर करने के लिए करें ये योगासन.
  • योग आपके संपूर्ण स्वास्थ्य को हेल्दी बनाए रख सकता है.
  • ये 3 आसान योगासन करेंगे पाचन की सभी समस्याओं को दूर.

Yogasan For Stomach Problems: योगासन पेट के स्वास्थ्य के लिए कितने फायदेमंद हैं इसका शायद आप अंदाजा भी न लगा सकें, लेकिन खराब पाचन (Poor Digestion) से जुड़ी पेट की सभी समस्याओं (Stomach Problems) को दूर करने के लिए योग एक नेचुरल उपाय हो सकता है. अनियमित जीवनशैली और खराब खानपान के कारण अक्सर पेट से जुड़ी किसी न किसी समस्या से जूझना पड़ता है. इसमें अपच (Indigestion), कब्ज और एसिडिटी जैसी समस्याएं शामिल हैं. पेट की समस्याओं के लिए योगासन (Yogasana For Stomach Problems) काफी लाभकारी हो सकते हैं. हर रोज सुबह कुछ योग आसनों को कर हेल्दी पाचन (Healthy Digestion) को बनाए रख सकते हैं. पेट की समस्याएं न सिर्फ बड़े बुजुर्गों को परेशान करती हैं बल्कि हर उम्र के लोग भी इन समस्याओं से जूझते हैं.

ज्यादातर बीमारियां पेट से ही शुरू होती है. ऐसे में पेट को हेल्दी रखने के लिए योग (Yoga To Keep Your Stomach Healthy) से बेहतर क्या हो सकता है. हेल्दी पाचन के नेचुरल तरीके (Natural Ways Of Healthy Digestion) में एक रामबाम उपाय हो सकता है. यहां पाचन से जुड़ी कई समस्याओं को दूर करने के लिए कुछ योगासन दिए गए हैं जिनका आप रोजाना अभ्यास कर सकते हैं.

हेल्दी पाचन के लिए बेस्ट योगासन | Best Yogasan For Healthy Digestion

1. मत्स्यासन

इस योगासन से कई स्वास्थ्य समस्याओं को दूर रखने में मदद मिल सकती है, लेकिन ये पेट की समस्याओं को दूर करने के लिए रामबाण माना जाता है. मत्स्यासन पेट की सूजन को कम करने में कारगर माना जाता है. मत्स्यासन को करने के लिए दण्डासन में बैठ जाएं. दाएं पैर को बाएं पैर पर रखकर अपनी रीढ़ की हड्डी को सीधा रखें. अपने हाथों का सहारा लेते हुए पीछे की ओर अपनी कोहनियां टिकाकर लेट जाएं. पीठ और छाती ऊपर की ओर उठी और घुटने भूमि पर टिकाकर रखें. अब अपने हाथों से पैर के अंगूठे पकड़ें और गहरी सांस लेते रहें. इस बात का ध्यान रखें कि आपकी कोहनी जमीन से लगी होनी चाहिए.

matsyasana

Yogasan For Stomach Problems: यह योगासन पेट की सूजन को कम करने में मदद कर सकता है

2. धनुरासन

यह एक योगासन पेट की समस्याओं को दूर करने काफी फायदेमंद माना जाता है. चाहे कब्ज हो या पेट की गैस धनुराशन पेट की इन सभी समस्याओं को दूर किया जा सकता है. अगर आप बी अपच की समस्याओं को दूर करना चाहते हैं तो धनुराशन आपके लिए रामबाण माना जाता है. धनुरासन के अभ्यास से कब्ज, पीठदर्द, पेट की सूजन, थकान और मासिकधर्म में फायदेमंद माना जाता है. सबसे पहले पेट के बल लेट जाएं. अब अपने घुटनों को मोड़कर कमर के पास ले जाएं और अपने तलवों को दोनों हाथों से पकड़ें. अब सांस लेते हुए अपनी छाती को जमीन से ऊपर उठाएं. अब अपने पैरों को आगे की ओर खीचें. अब अपना संतुलन बनाते हुए सामने देखें. इस आसन को करने के लिए थोड़े अभ्यास की जरूरत है इसलिए धीरे-धीरे इसका अभ्यास करें.

dhanurasana 620x350

Yogasan For Stomach Problems: धनुराशन में धनुष की तरह शरीर का आकार बनाया जाता है 

3. कपालभाति प्राणायाम

Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com

कपालभाति करने से भी पेट की कई समस्याओं को दूर किया जा सकता है. अगर आप रोजाना इस योगासन को करते हैं तो आपको पेट की सभी समस्याओं को दूर किया जा सकता है. कपालभाति प्राणायाम करने के लिए पद्मासन या वज्रासन में बैठ जाएं और अपनी हथेलियों को घुटनों पर रखें. अपनी हथेलियों की सहायता से घुटनों को पकड़कर शरीर को एकदम सीधा रखें. अब अपनी पूरी क्षमता का प्रयोग करते हुए सामान्य से कुछ अधिक गहरी सांस लेते हुए अपनी छाती को फुलाएं. इसके बाद झटके से सांस को छोड़ते हुए पेट को अंदर की ओर खीचें. इस प्राणायाम के अभ्यास से पेट को काफी फायदा हो सकता है.

अस्वीकरण: सलाह सहित यह सामग्री केवल सामान्य जानकारी प्रदान करती है. यह किसी भी तरह से योग्य चिकित्सा राय का विकल्प नहीं है. अधिक जानकारी के लिए हमेशा किसी विशेषज्ञ या अपने चिकित्सक से परामर्श करें. एनडीटीवी इस जानकारी के लिए ज़िम्मेदारी का दावा नहीं करता है.