'हैरी पॉटर' की राइटर के पास है कोरोना वायरस के लक्षणों से छुटकारा पाने का तरीका, Video शेयर कर दी जानकारी

जेके रॉलिंग (JK Rowling) में पिछले दो हफ्तों से कोरोना वायरस (Coronavirus) के लक्षण नजर आ रहे थे. हालांकि, अब वह पूरी तरह ठीक हैं.

'हैरी पॉटर' की राइटर के पास है कोरोना वायरस के लक्षणों से छुटकारा पाने का तरीका, Video शेयर कर दी जानकारी

जेके रॉलिंग (JK Rowling) ने बताई कोरोना वायरस के लक्षणों से उबरने की तकनीक

खास बातें

  • 'हैरी पॉटर' की राइटर ने शेयर की कोरोना के लक्षणों से उबरने की तकनीक
  • पिछले दो हफ्तों से कोरोना वायरस के लक्षणों से जूझ रही थीं जेके रॉलिंग
  • जेके रॉलिंग का वीडियो हुआ वायरल
नई दिल्ली:

हैरी पॉटर पुस्तकों की लेखक जेके रॉलिंग (JK Rowling) में पिछले दो हफ्तों से कोरोना वायरस के लक्षण नजर आ रहे थे. हालांकि, अब वह पूरी तरह ठीक हैं, इस बात की जानकारी उन्होंने ट्वीट कर दी है. इसके साथ ही जेके रॉलिंग ने ट्वीट में बताया कि वे डॉक्टर नील मरे से कोरोना के लक्षणों से छुटकारा पाने के लिए लगातार सलाह ले रही हैं. इन सबसे इतर हैरी पॉटर की लेखिका ने अपने ट्वीट के जरिए एक वीडियो भी साझा किया, जिससे वह कोरोना वायरस के लक्षणों से उबरने के लिए लोगों की मदद कर सकें. 

Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com

जेके रॉलिंग (JK Rowling) ने अपनी सेहत के बारे में बताते हुए ट्वीट किया और लिखा, "आपके प्यार भरे संदेश के लिए धन्यवाद. मैं पूरी तरह से ठीक हो चुकी हूं और आप लोगों के साथ डॉक्टर द्वारा बताई गई कुछ तकनीक साझा करना चाहती हूं, जिसके लिए कुछ खर्च करने की जरूरत नहीं है और इसका कोई साइड इफैक्ट भी नहीं है. लेकिन यह आपको और आपके प्रियजनों की मदद कर सकता है. आप सभी लोग सुरक्षित रहें." इसके आगे उन्होंने वीडियो को शेयर करते हुए लिखा, "क्वीन हॉस्पिटल के डॉक्टर द्वारा बताए गए उपायों को जरूर देखें. पिछले दो हफ्तों से मैं भी कोरोना वायरस के लक्षणों से जूझ रही थी, लेकिन मैंने डॉक्टर की सलाह ली और मैं पूरी तरह ठीक हूं."

बता दें कि जेके रॉलिंग (JK Rowling) का यह ट्वीट सोशल मीडिया पर खूब सुर्खियां बटोर रहा है, साथ ही लोग इसपर जमकर कमेंट भी कर रहे हैं. वहीं, कोरोना वायरस की बात करें तो भारत में अब तक इससे संक्रमित लोगों की संख्या 5194 हो चुकी है. वहीं, वायरस से अब तक देश में कुल 149 लोगों की जान जा चुकी है. हालांकि, इस बीच राहत की बात यह है कि 402 लोगों का उपचार भी हो चुका है.