NDTV Khabar

कैग ने नौसेना के मुख्‍य लड़ाकू विमान मिग-29 की क्षमता पर उठाए सवालिया निशान

 Share
ईमेल करें
टिप्पणियां
कैग ने नौसेना के मुख्‍य लड़ाकू विमान मिग-29 की क्षमता पर उठाए सवालिया निशान

मिग-29के का फाइल फोटो

खास बातें

  1. इस लड़ाकू विमान की कई खामियों की तरफ किया इशारा
  2. सेवा के लिए पूरी तरह से फिट नहीं
  3. 10,500 करोड़ रुपये में रूस से खरीदा गया
नई दिल्‍ली:

भारतीय नौसेना समुद्री तटरेखा से सुदूर इलाकों तक अपनी दमदार उपस्थिति के लिए रूस से खरीदे हुए अपने एकमात्र लड़ाकू जेट मिग-29के पर काफी हद तक निर्भर है। लेकिन नियंत्रण एवं महालेखापरीक्षक (कैग) के मुताबिक इसकी स्थिति इतनी खराब है कि यह वास्‍तव में उपयोग के लिए ही उपलब्‍ध नहीं है।  

इस संबंध में दो दिन पहले कैग ने अपनी रिपोर्ट संसद में पेश की है। नेवी के मिग-29 कार्यक्रम का ऑडिट करने के बाद यह रिपोर्ट पेश की गई है। उसमें कैग ने कहा है, ''मल्‍टी रोल और नौसेना बेड़े के एयर डिफेंस का अहम हिस्‍सा मिग-29के समस्‍याओं से ग्रसित है।'' इसके इंजन में खराबियों समेत कई समस्‍याएं हैं। इसका मतलब है कि ''जब भी इसे तैनात किए जाने की जरूरत होगी तो बेहतर से बेहतर स्थिति में भी ऑपरेशनों के लिए 50 प्रतिशत से भी कम मामलों के लिए ही यह पूरी तरह फिट रहेगा।''

उल्‍लेखनीय है कि भारत ने 2004-10 के दौरान इस तरह के 45 लड़ाकू विमानों को खरीदा था। इसे देश के प्रमुख युद्धपोत आईएनएस विक्रांत पर तैनात किया गया है। कोच्चि में निर्मित हो रहे विमानवाहक पोत विक्रांत का भी यह मुख्‍य लड़ाकू विमान होगा। इस बात की भी पूरी संभावना है कि यह अभी डिजाइन स्‍तर पर चल रहे तीसरे विमानवाहक पोत विशाल का भी मुख्‍य लड़ाकू विमान होगा।
 
कैग की रिपोर्ट कहती है कि 2010 में जब से मिग-29के विमान सेवा में शामिल किए गए हैं, तब से इनमें से आधे के इंजनों में डिजाइन संबंधी खामियां पाई गई हैं। इसके चलते इसकी सुरक्षित उड़ान एक गंभीर मसला है।  


इसके अलावा विमानवाहक पोत के संकरे डेक पर उतरने की प्रक्रिया के दौरान भी यह पूरी तरह से सहज नहीं है। इस दौरान भी इसको कई दिक्‍कतों का सामना करते देखा गया है। इसके साथ ही कैग रिपोर्ट में यह जोड़ा गया है कि "डिजाइन में अनेक संशोधनों और सुधारों के बावजूद कई खामियां पाई गई हैं।"  इन खामियों के बारंबार उत्‍पन्‍न होने के चलते 'नौसेना पायलटों के ट्रेनिंग कार्यक्रम पर बुरा असर पड़ा है।'

NDTV से बात करते हुए वरिष्‍ठ नौसेना अधिकारियों ने स्‍वीकार किया है कि इसका तात्‍कालिक कोई समाधान नजर नहीं आता। उनका यह भी कहना है कि मिग-29के विकल्‍प की खरीद पर भी बहुत कहने की स्थिति में नहीं हैं क्‍योंकि इसकी खरीद एक 'पैकेज डील' का हिस्‍सा थी जिसमें विमानवाहक पोत गोर्शकोव के हस्‍तांतरण और नवीकरण की योजना भी शामिल थी। गोर्शकोव को नौसेना ने आईएनएस विक्रमादित्‍य के रूप में अपने बेड़े में शामिल किया है।

टिप्पणियां

उनका यह भी कहना है जब इसको विमानवाहक पोत पर तैनात नहीं किया गया था तो गोवा में स्थित इसके बेस पर रूसी निर्माता के इंजीनियरों की एक टीम को तकनीकी दिक्‍कतों का समाधान करने के लिए भेजा गया था। वरिष्‍ठ अधिकारी इस तरफ भी इशारा करते हैं कि मिग-29के को शामिल करने वाला भारत पहला ऑपरेटर था। यहां तक कि रूसी नेवी से भी पहले इसे यहां शामिल किया गया।

यद्यपि उनका यह भी कहना है कि नए प्‍लेटफॉर्म की दिक्‍कतों से निपटने में समय लगता है लेकिन इसके लिए बहुत चिंतित होने की जरूरत नहीं है क्‍योंकि रूस ने भी अपने सुखोई की जगह इसी मिग-29के को बेड़े में शामिल करने का फैसला किया है। हालांकि भारतीय नौसेना के सूत्र हिचकिचाते हुए यह भी कहते हैं कि बारंबार होने वाली दिक्‍कतों को सुधारने और इसे बेहतर करने के भारतीय अनुभवों से बेशक रूसी भी लाभान्वित होंगे।



NDTV.in पर विधानसभा चुनाव 2019 (Assembly Elections 2019) के तहत हरियाणा (Haryana) एवं महाराष्ट्र (Maharashtra) में होने जा रहे चुनाव से जुड़ी ताज़ातरीन ख़बरें (Election News in Hindi), LIVE TV कवरेज, वीडियो, फोटो गैलरी तथा अन्य हिन्दी अपडेट (Hindi News) हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर लाइक और ट्विटर पर फॉलो करें.


Advertisement