NDTV Khabar

जेएनयू के लापता छात्र नजीब का सुराग देने वाले को मिलेगा 10 लाख रुपये का इनाम : सीबीआई

जवाहरलाल नेहरू विश्वविद्यालय के छात्र नजीब अहमद को लापता हुए लगभग 9 महीने हो चुके हैं, लेकिन नजीब का कहीं कोई सुराग हाथ नहीं लगा है. इस मामले की जांच कर ही सीबीआई ने गुरुवार को नजीब का सुराग देने वाले को 10 लाख रुपये बतौर इनाम देने का ऐलान किया है.

181 Shares
ईमेल करें
टिप्पणियां
जेएनयू के लापता छात्र नजीब का सुराग देने वाले को मिलेगा 10 लाख रुपये का इनाम : सीबीआई

नजीब अहमद पिछले साल अक्टूबर से जेएनयू कैंपस से लापता हो गया था (फाइल फोटो)

खास बातें

  1. नजीब अहमद जेएनयू में एमएससी बायोटैकनॉलाजी का छात्र
  2. वह 14 अक्टूबर, 2016 से यूनिवर्सिटी कैंपस से गायब है
  3. गायब होने से पहले दिन ABVP के सदस्यों के साथ हुआ झगड़ा
नई दिल्ली: जवाहरलाल नेहरू विश्वविद्यालय के छात्र नजीब अहमद को लापता हुए लगभग 9 महीने हो चुके हैं, लेकिन नजीब का कहीं कोई सुराग हाथ नहीं लगा है. इस मामले की जांच कर ही सीबीआई ने गुरुवार को नजीब का सुराग देने वालों को 10 लाख रुपये बतौर इनाम देने का ऐलान किया है. इससे पहले जब दिल्ली पुलिस इस मामले की जांच कर रही थी तब दिल्ली पुलिस ने भी 10 लाख रुपये का इनाम रखा था.

बता दें कि एमएससी बायोटैकनॉलाजी के छात्र नजीब 14 अक्टूबर, 2016 से यूनिवर्सिटी कैंपस से गायब है. कहा जाता है कि नजीब के गायब होने से पहले उसका अखिल भारतीय विद्यार्थी परिषद के लोगों के साथ झगड़ा हुआ था. नजीब की खोज को लेकर दिल्ली में कई बार धरने-प्रदर्शन किए गए और कैंडल मार्च निकाले गए. 

पुलिस ने नजीब की खोज में दिनरात एक कर दिया. खोजी कुत्तों और 600 पुलिसकर्मियों की फौज ने जेएनयू के चप्पे की खोजबीन की लेकिन नजीब के बारे में कोई सुराग तक नहीं मिला. मामला कोर्ट में पहुंचा तो कोर्ट ने नजीब ने जुड़े व्यक्तियों का लाई डिटेक्टर टेस्ट कराए जाने का आदेश दिया. लेकिन इससे भी पुलिस कोई सफलता हाथ नहीं लगी. 

अंत में मई महीने में दिल्ली हाईकोर्ट ने नजीब अहमद की गुमशुदगी का मामला मंगलवार को केंद्रीय जांच ब्यूरो (सीबीआई) को सौंप दिया. सीबीआई भी दो महीनों के भीतर नजीब के बारे में कोई पुख्ता जानकारी नहीं जुटा पाई. आखिरकार आज गुरुवार को सीबीआई ने नजीब का सुराग देने वाले को 10 लाख रुपये का इनाम देने की घोषणा कर डाली. 
 


Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और गूगल प्लस पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करे...
181 Shares
(यह भी पढ़ें)... फोन के बिना पत्रकारिता और संसार

Advertisement