कोविड महामारी के प्रकोप के चलते 17.5 करोड़ लोगों का रोजगार छिनने की आशंका : रिपोर्ट

कोरोना वायरस महामारी के कारण बने हालात को लेकर संयुक्त राष्ट्र के वर्ल्ड फूड प्रोग्राम ने एक रिपोर्ट जारी करके आगाह किया

कोविड महामारी के प्रकोप के चलते 17.5 करोड़ लोगों का रोजगार छिनने की आशंका : रिपोर्ट

प्रतीकात्मक तस्वीर

नई दिल्ली:

संयुक्त राष्ट्र के वर्ल्ड फूड प्रोग्राम ने कोविड-19 पर अपनी ताज़ा रिपोर्ट में आगाह किया है कि इस महामारी के प्रकोप की वजह से 17.5 करोड़ लोगों की नौकरियां जा सकती हैं. "मैक्रो एनालिसिस ऑफ कोविड-19 - थ्रेट्स टू फ़ूड सिक्योरिटी एंड लाइवलीहुड इन एशिया एंड पैसिफिक" नाम की अपनी रिपोर्ट में संयुक्त राष्ट्र की एजेंसी ने कहा है कि सिर्फ एशिया में 5.2 करोड़ अतिरिक्त लोग बेहद गरीब की श्रेणी में धकेले जा सकते हैं.

Newsbeep

रिपोर्ट में कहा गया है कोविड-19 संकट की वजह से दुनिया भर में खाद्य असुरक्षा झेल रहे गरीब लोगों की संख्या बढ़कर 27 करोड़ तक पहुंच सकती है. इसमें 12.1 करोड़ ऐसे गरीब लोग हैं जो कोविड-19 संकट के दौरान खाद्य असुरक्षा झेल रहे लोगों की सूची में शामिल हुए हैं. रिपोर्ट के मुताबिक भारत उन देशों में शामिल है जहां कमाई घटने और रोज़गार खोने का संकट सबसे ज्यादा लोगों को झेलना पड़ेगा.

Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com


संयुक्त राष्ट्र की एजेंसी ने वर्ल्ड बैंक के आकलन का हवाला देते हुए कहा है कि भारत पहुंचने वाला कुल Remittance 23% तक घट जाएगा, जो 19 अरब डॉलर के बराबर होगा. वर्ल्ड फ़ूड प्रोग्राम की रिपोर्ट में टिड्डी दल के आतंक का भी जिक्र है. रिपोर्ट में कहा गया है कि टिड्डी दलों ने करीब 35000 हेक्टेयर ज़मीन पर गेंहू और सरसों जैसी फसलों को सात राज्यों में प्रभावित किया है.