दुर्घटना, आत्महत्या के कारण 2014 से 2018 के बीच CAPF के 2,200 कर्मियों की मौत

राष्ट्रीय अपराध रिकॉर्ड ब्यूरो (NRCB) के आंकड़ों के अनुसार 2018 में हादसों में CAPF के 104 जवानों की मौत हुई, जबकि 28 लोगों ने आत्महत्या कर ली. इस साल कुल 132 लोगों की मौत हुई. ब्यूरो ने 2014 में पहली बार CAPF संबंधी यह आंकड़ा एकत्र किया था.

दुर्घटना, आत्महत्या के कारण 2014 से 2018 के बीच CAPF के 2,200 कर्मियों की मौत

प्रतीकात्मक तस्वीर

खास बातें

  • 2014 से 2018 के बीच पांच वर्ष में हुई करीब 2,200 जवानों की मौत
  • NRCB के आंकड़ों के अनुसार 2018 में हादसों में CAPF के 104 जवानों की मौत
  • ब्यूरो ने 2014 में पहली बार CAPF संबंधी यह आंकड़ा एकत्र किया था
नई दिल्ली:

देश में 2014 से 2018 के बीच पांच वर्ष में आत्महत्या और दुर्घटनाओं के कारण केंद्रीय सशस्त्र पुलिस बल (CAPF) के करीब 2,200 जवानों की मौत हुई है. राष्ट्रीय अपराध रिकॉर्ड ब्यूरो (NRCB) के आंकड़ों के अनुसार 2018 में हादसों में CAPF के 104 जवानों की मौत हुई, जबकि 28 लोगों ने आत्महत्या कर ली. इस साल कुल 132 लोगों की मौत हुई. ब्यूरो ने 2014 में पहली बार CAPF संबंधी यह आंकड़ा एकत्र किया था. उस साल दुर्घटना के कारण 1,232 जवानों की मौत हुई थी और 175 लोगों ने आत्महत्या की थी.

ब्यूरो ने बताया कि दुर्घटना के कारण 2015, 2016 और 2017 में क्रमश: 193, 260 और 113 कर्मियों की मौत हुई, जबकि 2015 में 60, 2016 में 74 और 2017 में 60 लोगों ने आत्महत्या की. आंकड़ों के अनुसार 2014 से 2018 के बीच हादसों में 1,902 और आत्महत्या के कारण 397 जवानों की मौत हुई, यानि कुल 2,199 जवान मारे गए. NRCB ने सीमा सुरक्षा बल, केंद्रीय रिजर्व पुलिस बल, केंद्रीय औद्योगिक सुरक्षा बल, भारत-तिब्बत सीमा पुलिस, सशस्त्र सीमा बल के अलावा असम राइफल्स और राष्ट्रीय सुरक्षा गार्ड के आंकड़ों को शामिल किया है.

जम्मू-कश्मीर प्रशासन ने 4 नजरबंद नेताओं को किया रिहा, अब तक हुई कुल 9 नेताओं की रिहाई

NRCB की ताजा रिपोर्ट के अनुसार एक जनवरी 2018 को CAPF के जवानों की वास्तविक संख्या 9,29,289 थी. NCRB के अनुसार CAPF के जवानों की हादसे में हुई मौत के कारणों का यदि विश्लेषण किया जाए, तो पता चलता है कि 2018 में 31.7 प्रतिशत (104 में से 33 लोगों की) मौत ‘अभियान या मुठभेड़ या कार्रवाई के दौरान हुईं'. इसके बाद 21.2 प्रतिशत (22 जवानों) की मौत ‘अन्य कारणों से हुई'. सड़क और रेल हादसों के कारण इनमें से 20.2 प्रतिशत जवानों की जान गई. 



(इस खबर को एनडीटीवी टीम ने संपादित नहीं किया है. यह सिंडीकेट फीड से सीधे प्रकाशित की गई है।)
 
Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com