NDTV Khabar

2019 में दोबारा सत्ता की चाबी हासिल करने के लिए बीजेपी की 'दक्षिण के किले' पर नजर, बनाई ये रणनीति

राष्ट्रीय जनतांत्रिक गठबंधन (राजग) के सांसदों की संख्या बढ़ाने के लिए भाजपा की नजर दक्षिणी भारत में गठबंधन की ओर है.

 Share
ईमेल करें
टिप्पणियां
2019 में दोबारा सत्ता की चाबी हासिल करने के लिए बीजेपी की 'दक्षिण के किले' पर नजर, बनाई ये रणनीति

2019 Elections: भाजपा की निगाह दक्षिण भारत के राज्यों पर है.

खास बातें

  1. भाजपा दक्षिण में अपना विकल्प खुला रखने के पक्ष में है
  2. ताकि 2019 में सत्ता में लौटने के जरूरी आंकड़े जुटाये जा सकें
  3. मजबूत क्षेत्रीय पार्टियों के साथ गठबंधन पर जोर
नई दिल्ली : लोकसभा चुनाव में राष्ट्रीय जनतांत्रिक गठबंधन (राजग) के सांसदों की संख्या बढ़ाने के लिए भाजपा की नजर दक्षिणी भारत में गठबंधन की ओर है. उसके नेताओं का कहना है कि पार्टी अपना विकल्प खुला रखने के पक्ष में है ताकि 2019 में सत्ता में लौटने के लिए अधिक पार्टियों से समर्थन की आवश्यकता होने की स्थिति में जरूरी आंकड़े जुटाए जा सकें. तमिलनाडु, आंध्र प्रदेश और तेलंगाना जैसे राज्यों में भाजपा यह सुनिश्चित करने के लिए काम कर रही है कि वह किसी मजबूत क्षेत्रीय पार्टी के साथ गठबंधन करे या उसके साथ अपने संबंधों को मधुर बनाए रखे ताकि आवश्यकता होने पर उसका समर्थन हासिल किया जा सके. दक्षिण के शेष दो राज्यों में, कर्नाटक में भाजपा का प्रदर्शन परंपरागत रूप से अच्छा रहा है. वहीं केरल में कांग्रेस और माकपा के नेतृत्व वाले दोनों गठबंधनों के बीच भगवा पार्टी अपनी चुनावी उपस्थिति दर्ज कराने के लिए संघर्ष कर रही है.

लोकसभा चुनाव 2019 : ये 6 जमीनी मुद्दे जो तय करेंगे हार-जीत, क्या मोदी सरकार दे पाएगी इन पर जवाब

कर्नाटक को छोड़कर इनमें से किसी भी राज्य में भाजपा प्रमुख ताकत नहीं है. ऐसे में पार्टी दक्षिण भारत में क्षेत्रीय दलों के साथ सौहार्द बनाए रखना चाहती है. एक पार्टी नेता ने तमिलनाडु का उदाहरण देते हुए कहा कि अन्नाद्रमुक के साथ मधुर संबंध होने के बाद भी भाजपा ने उसकी चिर-प्रतिद्वंद्वी पार्टी द्रमुक का तीखा विरोध करने से परहेज किया है. प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी पिछले साल बीमार द्रमुक नेता करुणानिधि को देखने गए थे. इसके साथ ही वह करूणानिधि के निधन के बाद भी पिछले महीने चेन्नई गए थे. भाजपा सूत्रों ने कहा कि वे तेलंगाना में अच्छी स्थिति में हैं और सत्तारूढ़ तेलंगाना राष्ट्रीय समिति (टीआरएस) ने संकेत दिया है कि वह भगवा पार्टी के साथ हाथ मिला सकती है. टीआरएस प्रमुख और राज्य के मुख्यमंत्री के चंद्रशेखर राव कांग्रेस की आलोचना करते रहे हैं.


लोकसभा चुनाव 2019: अगर ऐसा हुआ तो उपेंद्र कुशवाहा 'यदुवंशी के दूध और कुशवंशी के चावल' से सियासी खीर पका सकते हैं 

एन चंद्रबाबू नायडू नीत तेलुगू देशम पार्टी के राजग से अलग हो जाने के बाद आंध्र प्रदेश में राजग कमजोर हो गया था, लेकिन भाजपा नेताओं का मानना ​​है कि राज्य की मुख्य विपक्षी पार्टी वाईएसआर कांग्रेस चुनावों में अच्छा प्रदर्शन करेगी और वह भाजपा का समर्थन कर सकती है. भाजपा अध्यक्ष अमित शाह दक्षिण के राज्यों में पार्टी के आधार को बढ़ाने के लिए प्रयासरत हैं, लेकिन यह देखा जाना बाकी है कि पार्टी के प्रदर्शन में कितना सुधार होता है. भाजपा ने 2014 के चुनाव में कर्नाटक में लोकसभा की 25 में से 15 सीटें जीती थीं. आंध्र प्रदेश में 20 में से दो, तेलंगाना में 17 में से एक, तमिलनाडु में 39 में से एक सीट पर भाजपा को जीत मिली थी. जबकि केरल में उसे एक भी सीट नहीं मिली थी. 

2019 लोकसभा चुनाव: बिहार में सीट बंटवारे का ये है BJP का नया 'फॉर्मूला', जानें किसको मिलेगी कितनी सीट 

टिप्पणियां
अमेठी में राहुल गांधी पर स्मृति ईरानी का तगड़ा हमला​



(हेडलाइन के अलावा, इस खबर को एनडीटीवी टीम ने संपादित नहीं किया है, यह सिंडीकेट फीड से सीधे प्रकाशित की गई है।)


Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और गूगल प्लस पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करे...

Advertisement