2019 में नरेंद्र मोदी को सत्ता से दूर रखने के लिए गुजरात के पूर्व CM शंकर सिंह वाघेला ने बनाया यह 'प्लान'

गुजरात के पूर्व मुख्यमंत्री शंकर सिंह वाघेला (Shankar Singh Vaghela) ने मोदी सरकार (Modi Govt) पर चुनाव पूर्व किए गए वादे पूरी नहीं करने का आरोप लगाया.

2019 में नरेंद्र मोदी को सत्ता से दूर रखने के लिए गुजरात के पूर्व CM शंकर सिंह वाघेला ने बनाया यह 'प्लान'

गुजरात के पूर्व मुख्यमंत्री शंकर सिंह वाघेला ने मोदी सरकार के खिलाफ खोला मोर्चा. (फाइल फोटो)

खास बातें

  • भाजपा विरोधी दलों का बिना शर्त समर्थन करेंगे वाघेला
  • कहा- मैं किसी एक दल से नहीं, मैं सिर्फ भाजपा विरोधी
  • समय आने पर खुद चुनाव लड़ने के बारे में करेंगे फैसला
नई दिल्ली:

गुजरात के पूर्व मुख्यमंत्री शंकर सिंह वाघेला (Shankar Singh Vaghela) ने मोदी सरकार (Modi Govt) पर चुनाव पूर्व किए गए वादे पूरी नहीं करने का आरोप लगाया. उन्होंने कहा कि वह अगले चुनाव में इस सरकार को दुबारा सत्ता में आने से रोकने के लिए भाजपा विरोधी सभी दलों का बिना शर्त समर्थन करेंगे. वाघेला ने बुधवार को कहा, 'मैं किसी एक दल से नहीं हूं, अब मैं सिर्फ भाजपा विरोधी हूं. मैं अगले चुनाव के दौरान सभी दलों में अपने संबंधों का इस्तेमाल मोदी सरकार को सत्ता से हटाने में करूंगा.'

यह भी पढ़ें : शंकर सिंह वाघेला ने जय शाह के कारोबारी सौदों की जांच की मांग की

उन्होंने कहा कि चार साल पहले भाजपा 100 स्मार्ट सिटी, हर खेत को पानी, हर साल दो करोड़ नौकरी देने जैसे बड़े बड़े वादे करके सत्ता में आई थी, लेकिन साढ़े चार साल में इस सरकार ने सिवाय नोटबंदी के कोई काम नहीं किया. वाघेला ने कहा, 'मैं गुजरात मॉडल को कीचड़ मॉडल कहता हूं, जिससे निकला कमल सत्ता के रूप मे भाजपा के पास आ जाता है और कीचड़ जनता के पास रह जाता है. यही मॉडल इस सरकार ने पूरे देश मे पेश कर जनता को बदहाल कर दिया है.'

यह भी पढ़ें : शंकर सिंह वाघेला ने कहा, गुजरात में कांग्रेस जीत सकती थी लेकिन...

उन्होंने मोदी सरकार पर राफेल सौदे मे रिलायंस जैसी दिवालिया कंपनी को साझेदार बनाने का आरोप लगाते हुए कहा, 'जिस तरह बोफोर्स से मिला कुछ नहीं था, सिर्फ एक चेहरा निकला था वीपी सिंह का, जिसे सबका समर्थन मिला था. वैसे ही इस बार देखना होगा कि राफेल से क्या निकलता है.' अपनी चुनावी रणनीति के सवाल पर वाघेला ने कहा, 'मेरा सभी दलों से आह्वान है कि देश के व्यापक हित में ऐसी समझदारी से चुनाव लड़े जिससे जनता मौजूदा सरकार को नकार दे. इसके लिए स्थायी सरकार दे सकने वाले संयुक्त गठबंधन की पहल होनी चाहिए.'

VIDEO : अमित शाह और शंकरसिंह वाघेला ने की चाय पर चर्चा

Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com

खुद चुनाव लड़ने के सवाल पर उन्होंने कहा कि अभी कुछ भी कहना जल्दबाजी होगी, समय आने पर वह इस बारे मे कोई फैसला करेंगे. वाघेला ने कहा, 'मेरा संदेश साफ है कि लोकसभा का चुनाव राज्यों की स्थानीय परिस्थिति के मुताबिक लड़ा जाए जिससे आपसी खींचतान मे एक भी मतदाता का वोट खराब न जाए और इसका लाभ भाजपा न उठा सके.'

(इनपुट : भाषा)