Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com
NDTV Khabar

26/11 मुंबई हमला: उस काली रात को याद कर सिहर उठता है कैलाश, महज दस फीट दूर था आतंकी कसाब, बरसा रहा था अंधाधुंध गोलियां

चौकीदार कैलाश घेगडमल आज भी वो पल याद करके सिहर उठते हैं जब आतंकी कसाब और उसके साथी ने उनसे महज दस फीट की दूरी से दूसरे साथी गार्ड को गोलियों से छलनी कर दिया था.

 Share
ईमेल करें
टिप्पणियां
26/11 मुंबई हमला: उस काली रात को याद कर सिहर उठता है कैलाश, महज दस फीट दूर था आतंकी कसाब, बरसा रहा था अंधाधुंध गोलियां

आतंकियों ने छत्रपति शिवाजी महाराज टर्मिनस में 52 लोगों को मौत की नींद सुला दिया था.

खास बातें

  1. आतंकी अंधाधुंध कर रहे थे फायरिंग.
  2. अस्पताल में घुस गए थे आतंकी
  3. डर गए थे अस्पताल के कर्मचारी और मरीज
मुंबई:

मुंबई में 26 नवंबर, 2008 की काली रात को कामा और अल्बलेस अस्पताल पर हमले के समय अस्पताल में डयूटी पर तैनात चौकीदार कैलाश घेगडमल आज भी वो पल याद करके सिहर उठते हैं जब आतंकी कसाब और उसके साथी ने उनसे महज दस फीट की दूरी से दूसरे साथी गार्ड को गोलियों से छलनी कर दिया था. इन आतंकवादियों ने पास ही बने छत्रपति शिवाजी महाराज टर्मिनस में 52 लोगों को मौत की नींद सुलाने के बाद इस अस्पताल का रुख किया था. कैलाश बताते हैं कि साथी बब्बन वालू ने गोलियों की आवाज सुनने के बाद अस्पताल में लगे दरवाजों को बंद करने का काम तेजी से शुरू कर दिया. लेकिन वालू अंधाधुंध गोलियां बरसा रहे आतंकियों का निशाना बन गया. इससे वह घबरा कर एक पेड़ के पीछे छुप गए और बामुश्किल दस फीट की दूरी से उन्होंने इंसानी जिंदगियों को मौत बांट रहे कसाब को देखा. 

उन्होंने बताया कि इमारत का मेन गेट खुला हुआ था और आतंकियों ने उस तरफ दौड़ लगा दी और वहां डंडा थामे दूसरे गार्ड भानु नारकर पर तडा़तड़ गोलियां बरसा दीं. उन्होंने कहा कि पहले लगा कि यह शायद गैंगवार का नतीजा है लेकिन जब नारकर को उनके सामने कसाब ने मार डाला तो लगा मामला कुछ और है. अस्पताल परिसर में प्रवेश करने के बाद कसाब और उसके सहयोगी ने अंधाधुंध गोलीबारी शुरू कर दी, जिससे कर्मचारी, मरीज और उनके रिश्तेदार बहुत डर गये. बाद में कैलाश हिम्मत दिखाते हुये पुलिस टीम को छठी मंजिल तक ले गये, जहां उनकी आतंकवादियों के साथ मुठभेड़ हुई, जिसमें दो पुलिसकर्मी मारे गए और वह और आईपीएस अधिकारी सदानंद दाते घायल हो गए.


26/11 मुंबई हमला : आतंकियों को मार गिराने के लिए अमेरिका ने भी बनाया था खास प्लान, 10 बड़ी बातें...

नर्स मीनाक्षी मुसाले और अस्मिता चौधरी ने कहा कि उन्होंने फ्रिज, एक एक्सरे मशीन, दवा ट्रॉली और कुर्सियों का इस्तेमाल दूसरी मंजिल पर दरवाजा बंद करने के लिए किया ताकि यह सुनिश्चित किया जा सके कि आतंकवादी वहां घुस न सकें. रात्रि पर्यवेक्षक सुनंदा चव्हाण ने कहा, 'बच्चों और उनकी मां को सुरक्षित रखना हमारा कर्तव्य था. हमने बच्चों को घायल होने से बचाने के लिए दीवार के समीप सभी पालने रख दिये.'  

टिप्पणियां

अस्पताल अधीक्षक अमिता जोशी ने बताया कि अब अस्पताल में सशस्त्र गार्ड हैं और निगरानी के लिए 67 सीसीटीवी लगाए गए हैं.

आतंकी कसाब को फांसी से बचाने के लिए केस लड़ने वाले वकीलों को नहीं मिली फूटी कौड़ी, बोले- लेंगे लीगल एक्शन



Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर लाइक और ट्विटर पर फॉलो करें.


 Share
(यह भी पढ़ें)... सड़क पर घूमता दिखा सिर कटा शख्स, देखकर लोगों ने दिया ऐसा रिएक्शन, देखें Shocking Video

Advertisement