NDTV Khabar

काम कर रहे निहत्थे मछुआरों पर बोको हराम का हमला, 31 की मौत

बोको हराम ने पिछले कुछ वर्षों में इस क्षेत्र में हमले करके संचार सेवाओं को नष्ट कर दिया है, जिसके कारण हमले की खबर फैलने में देर लगी.

 Share
ईमेल करें
टिप्पणियां
काम कर रहे निहत्थे मछुआरों पर बोको हराम का हमला, 31 की मौत

बोको हराम ने मछुआरों की हत्या की

खास बातें

  1. डुगुरी और डबार वनजाम द्वीपों में घुसे थे बोको हराम के आतंकी
  2. काम कर रहे निहत्थे मछुआरों पर हमला कर दिया
  3. सेना और अधिकारियों ने हमले पर कोई टिप्पणी नहीं की
नई दिल्ली: उत्तरपूर्वी नाइजीरिया में चाड झील के द्वीपों पर चरमपंथी संगठन बोको हराम के दो अलग-अलग हमलों में कम से कम 31 मछुआरे मारे गए. हथियारों से लैस उग्रवादी शनिवार को झील में डुगुरी और डबार वनजाम द्वीपों में घुसे और वहां काम कर रहे मछुआरों पर हमला कर दिया. मैदुगुरी में जिहादियों से लड़ने वाले स्थानीय मिलीशिया के एक सदस्य बाबाकुरा कोलो ने एएफपी से कहा, बोको हराम ने डुगुरी और डबार वनजान द्वीपों पर हमला किया और 31 लोगों को मार दिया. उन्होंने डुगुरी में 14 लोगों की हत्या की और डबार वनजाम में 17 लोगों की हत्या की.

बोको हराम ने पिछले कुछ वर्षों में इस क्षेत्र में हमले करके संचार सेवाओं को नष्ट कर दिया है जिसके कारण हमले की खबर फैलने में देर लगी.

पढ़ें: नाइजीरिया में बोको हराम के हमलों में 19 लोगों की गई जान

एक मछुआरे सालाउ इनुवा ने कहा कि बोको हराम ने पहले डुगुरी द्वीप पर हमला कर 12 मछुआरों को मार डाला. हमले में घायल दो अन्य मछुआरों की बाद में मौत हो गई. इनुवा ने कहा, हमलावर दो समूहों में बंटे हुए थे. पहले समूह ने डुगुरी में हमला किया जबकि दूसरे समूह ने डबार वनजाम में हमला किया जहां वे उन लोगों का इंतजार कर रहे थे जो डुगुरी में हमला होने से भागकर आए. उन्होंने डबार वनजाम में 17 लोगों को मार डाला. सेना और नाइजीरिया के अधिकारियों ने अभी तक हमलों के बारे में कोई टिप्पणी नहीं की है.

पढ़ें: बोको हराम ने बदले की कार्रवाई में ग्रामीणों की गला काटकर हत्या की

टिप्पणियां
नाइजीरिया, नाइजर, कैमरून और चाड तक फैली इस झील में सैन्य अधिकारियों ने एक सप्ताह पहले ही मछली पकड़ने पर लगा दो साल का प्रतिबंध हटा लिया था, जिसके बाद यह हमला हुआ है. नाइजीरिया की सेना ने अपने क्षेत्र की झील में मछली पकड़ने पर पाबंदी लगा दी थी. ऐसे आरोप थे कि बोको हराम मछली पकड़कर अपने सशस्त्र अभियान के लिए फंड जुटा रहा है. नवंबर 2014 में बोको हराम ने बागा के समीप 48 मछुआरों की हत्या कर दी थी, जो मछली खरीदने के लिए चाड जा रहे थे. इस क्षेत्र में जिहादियों का यह मछुआरों पर सबसे नृशंस हमला था.

(हेडलाइन के अलावा, इस खबर को एनडीटीवी टीम ने संपादित नहीं किया है, यह सिंडीकेट फीड से सीधे प्रकाशित की गई है।)


Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और गूगल प्लस पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करे...

Advertisement