बैलेट पेपर से चुनाव का 70 फीसदी पार्टियों ने किया समर्थन, अलग-थलग पड़ी BJP : कांग्रेस

कांग्रेस ने कहा कि देश में मतपत्र से चुनाव की व्यवस्था की ओर फिर से लौटने और चुनावी खर्च को सीमित करने की उसकी मांग का 70 फीसदी राजनीतिक दलों ने समर्थन किया है.

बैलेट पेपर से चुनाव का 70 फीसदी पार्टियों ने किया समर्थन, अलग-थलग पड़ी BJP : कांग्रेस

प्रतीकात्मक फोटो

खास बातें

  • कांग्रेस ने कहा, बैलेट पेपर से चुनाव का 70 फीसदी पार्टियों ने किया समर्थन
  • कांग्रेस ने दावा किया कि इस मु्दे पर अलग-थलग पड़ी BJP
  • 'देश में स्वतंत्र एवं निष्पक्ष चुनाव सुनिश्चित होना चाहिए'
नई दिल्ली:

कांग्रेस ने कहा कि देश में मतपत्र से चुनाव की व्यवस्था की ओर फिर से लौटने और चुनावी खर्च को सीमित करने की उसकी मांग का 70 फीसदी राजनीतिक दलों ने समर्थन किया है. उसने यह भी दावा किया कि ईवीएम से चुनाव जारी रखने की पैरवी कर रही भाजपा और उसके कुछ सहयोगी दल चुनाव आयोग द्वारा बुलाई गई बैठक में इन दोनों मुद्दों पर अलग-थलग पड़ गए थे. चुनाव आयोग द्वारा बुलाई गई सर्वदलीय बैठक के बाद कांग्रेस प्रवक्ता अभिषेक मनु सिंघवी ने बताया कि पार्टी ने आयोग से यह भी कहा कि अगर मतपत्र से चुनाव कराना संभव नहीं हो तो विकल्प के तौर पर ईवीएम के साथ लगे वीवीपैट में कम से कम 30 फीसदी की जांच कराई जाए ताकि देश में स्वतंत्र एवं निष्पक्ष चुनाव सुनिश्चित हो सके. सिंघवी ने संवाददाताओं से कहा, ‘‘आज की बैठक में हमने चुनाव को फिर से मतपत्र के जरिए कराने की मांग की. हमने यह भी कहा कि अगर यह संभव नहीं हो रहा है तो विकल्प के तौर पर कम से कम 30 फीसदी वीवीपैट की पर्चियों का मिलान कराया जाए, ताकि स्वतंत्र एवं निष्पक्ष चुनाव सुनिश्चित हो सके.’’

यह भी पढ़ें: राहुल गांधी के बचाव में उतरे अमरिंदर, कहा- 1984 दंगों के लिए कांग्रेस नहीं सिर्फ ये 5 लोग जिम्मेदार


उन्होंने कहा, ‘‘दूसरा मुद्दा चुनाव में खर्च सीमित करने का था. आप जानते हैं कि एक पार्टी ने हालिया चुनावों में किस तरह से पैसे बहाए हैं. ऐसे में हमने मांग रखी की खर्च को सीमित किया जाना चाहिए.’’ कांग्रेस प्रवक्ता ने कहा, ‘‘हमारी इन दोनों मांगों का 70 फीसदी राजनीतिक दलों ने समर्थन किया. इसमें भाजपा एवं उसके कुछ सहयोगी दल अलग-थलग पड़ गए थे.’’ सिंघवी ने कहा कि मतदाता सूचियों में गड़बड़ी को दुरुस्त करने, महिला आरक्षण, दिव्यांगों को सुविधाएं और चुनावी बांड के मामले पर कांग्रेस ने अपना पक्ष रखा. 

यह भी पढ़ें:  NCP प्रमुख शरद पवार का बड़ा बयान, PM पद का दावा वहीं कर सकता है जो...

Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com

बैठक में शामिल हुए कांग्रेस महासचिव मुकुल वासनिक ने यहां संवाददाताओं से कहा, ‘‘ईवीएम के प्रति जनता का रुझान नकारात्मक होता जा रहा है, क्योंकि अधिकतर राज्यों में मतदान के दौरान उसमें गड़बड़ियां सामने आई है. यहां तक की कई बार देखने में मिला है कि वोट देने के लिये कोई भी बटन दबाओ तो वह एक चिन्हित राजनीतिक दल को ही जाता है.’’ उन्होंने कहा, ‘‘कांग्रेस प्रतिनिधिमंडल ने चुनाव आयोग से इस संबंध में कहा है कि इसका एक ही निवारण है कि वीवीपैट की फिर से जांच की जाए तथा कम से कम 30 प्रतिशत वीवीपैट की जांच हो ताकि चुनाव प्रक्रिया की तरफ जनता का रुझान सकारात्मक हो. इससे देश का लोकतंत्र मजबूत होगा.’’ 

VIDEO: रणनीति: बिहारी खीर, सियासी उबाल!​
वीवीपैट इलेक्ट्रानिक वोटिंग मशीन में लगी वह प्रणाली है जिससे निकलने वाली कागज की पर्ची के जरिये मतदाता द्वारा डाले गये वोट की पुष्टि होती है.