8 साल का बच्चा कर रहा नेक काम, गरीब छात्रों की फीस के लिए जुटाए करीब 2 लाख रुपए

दिल्ली के बेगमपुर स्थित सरकारी स्कूल(Government School) में पढ़ने वाले 100 बच्चों की फीस भरने का जिम्मा कक्षा 3 पढ़ने वाले एक 8 साल के बच्चे ने उठाया है.

8 साल का बच्चा कर रहा नेक काम, गरीब छात्रों की फीस के लिए जुटाए करीब 2 लाख रुपए

8 साल का बच्चा कर रहा नेक काम, गरीब छात्रों की फीस के लिए जुटाए करीब 2 लाख रुपए

नई दिल्ली:

कोरोना वायरस(Coronavirus) महामारी की  वजह से आम आदमी से लेकर सरकार तक सभी आर्थिक संकट से जूझ रहे हैं. जिसकी वजह से गरीब बच्चों को स्कूल की फीस भरने में भी बहुत सी मुश्किलों का सामना करना पड़ा रहा है. ऐसे में दिल्ली के बेगमपुर स्थित सरकारी स्कूल(Government School) में पढ़ने वाले 100 बच्चों की फीस भरने का जिम्मा कक्षा 3 पढ़ने वाले एक 8 साल के बच्चे ने उठाया है. इस बच्चे का नाम अधिराज है. अधिराज को इसी स्कूल में पढ़ाने वाली अपनी मां से पता चला कि बच्चों के सामने एग्जामिनेशन फीस भरने का संकट खड़ा हो गया. पहले तो अधिराज ने अपने गुल्लक से 12500 रुपये निकालकर स्कूल के 5 बच्चों की फीस भरी और इसके बाद उसने बाकी बच्चों की फीस भरने का भी जिम्मा उठा लिया.

बता दें, कि अधिराज बाकी बच्चों की बोर्ड की फीस जमा कराने के लिए अभी तक करीब 2 लाख रुपये जुटा चुके हैं. अधिराज के पिता अभिषेक सिंह भी बेटे के उठाए कदम से बहुत खुश हैं और इस नेक काम में बेटे का साथ दे रहे हैं. अभिषेक बताते हैं कि घर से शुरू की गई ये मुहिम, मोहल्ले से दफ्तर और फिर रिश्तेदारों तक पहुंची. जिसके बाद अभी तक बेगमपुर स्कूल की 12वीं क्लास में पढ़ने वाले सभी 86 बच्चों के साथ-साथ 10वीं कक्षा के 16 बच्चों के लिए भी फीस का पैसा जुटा लिया गया है.

Newsbeep

यह भी पढ़ें- दिल्ली सरकार ने बाड़ा हिंदूराव अस्पताल को घोषित किया नॉन कोविड अस्पताल

Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com


जिन बच्चों की मदद अधिराज ने की है, वे भी काफी खुश हैं. बता दें कि 11वीं क्लास में अच्छे नम्बरों से पास हुए इन बच्चों के मां-बाप आर्थिक संकट के चलते फीस न जमा कर पाने के कारण पढ़ाई छोड़ने को कह रहे थे, क्योंकि लॉकडाउन में इन लोगों की कमाई बंद हो गई थी. लेकिन एक अनजान बच्चे से मिली  इस मदद ने इन बच्चों की हिम्मत भी बढ़ा दी है. अधिराज ने साबित कर दिया कि किसी की मदद के लिए उम्र का मोहताज नहीं होना चाहिए.