गणेश विसर्जन : मनचलों को पकड़ने के लिए मुंबई पुलिस ने बनाए 92 दस्ते

गणेश विसर्जन : मनचलों को पकड़ने के लिए मुंबई पुलिस ने बनाए 92 दस्ते

मुंबई में गणेश विसर्जन की फाइल फोटो।

मुंबई:

मुंबई सहित समूचे महाराष्ट्र का सबसे बड़ा पर्व गणेशोत्सव समाप्ति को ओर है, लेकिन मुंबई पुलिस के सामने अनंत चतुर्दशी पर प्रतिमाओं का शांति के साथ विसर्जन कराने की चुनौती बरकरार है।

सादे कपड़ों में तैनात रहेंगे पुलिस कर्मी
गणेश प्रतिमाओं का विसर्जन रविवार, 27 सितबंर को होगा। इस दिन मुंबई शहर की सड़कों पर जनसैलाब उमड़ेगा। चारों तरफ ढोल, तासे और गणेश मूर्तियां के साथ लोगों का हुजूम होगा। इन सबके बीच सादे कपड़ों में खास पुलिस वाले रहेंगे, जो सिर्फ मनचलों पर नजर रखेंगे। मुंबई पुलिस ने कुल 92 दस्ते बनाए हैं।

सीसीटीवी के साथ ड्रोन कैमरे भी रखेंगे नजर
मुंबई पुलिस के प्रवक्ता धनंजय कुलकर्णी ने बताया कि एक दस्ते में एक महिला और पुरुष अफसर सहित 5 पुलिस कर्मी होंगे। उनके पास वीडियो कैमरा और स्पाई कैम भी होगा। वे सादे कपड़ों में भीड़ के बीच में घुसकर मनचलों की खबर लेंगे। सबसे ज्यादा भीड़ लाल बाग के राजा के दर्शन के लिए होती है। वहां भीड़ को नियंत्रित करना बहुत ही मुश्किल होता है। मुंबई पुलिस इस बार भीड़ पर नजर रखने के लिए सीसीटीवी के साथ 5 ड्रोन कैमरों का भी सहारा लेगी। सभी पुलिस कर्मियों की छुट्टी रद्द कर दी गई है। मुंबई पुलिस के 35 हजार कर्मियों के साथ एसआरपी और आईटीबीपी के जवान भी तैनात किए जाएंगे।

दमकल कर्मियों ने भी कसी कमर
पुलिस के अलावा बीएमसी और दमकल कर्मी भी आखिरी दिन के विसर्जन के लिए कमर कस चुके हैं। समंदर में मूर्तियों को विसर्जित करते समय कोई हादसा न हो इसके लिए मॉकड्रिल हो चुकी है और सुरक्षा के पुख्ता इंतजाम किए जा रहे हैं। मुंबई में कुल मिलाकर 120 विसर्जन स्थल हैं। आखिरी दिन साढ़े चार हजार बड़ी और 30 हजार के करीब छोटी गणेश मूर्तियों का विसर्जन होगा।

Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com


अनंत चतुर्थी के दिन विसर्जन स्थल की तरफ जाने वाली सभी सड़कों पर जन सैलाब होगा। ऐसे में भीड़ को नियंत्रित करना और शांति के साथ यह उत्सव संपन्न कराना मुंबई पुलिस के लिए हर साल चुनौती भरा होता है।