NDTV Khabar

मध्य प्रदेश : खुले में पेशाब करने से दो पक्षों में हुई मारपीट, बीच में आए मासूम की हुई मौत

2 अक्टूबर को जब प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी देश को पूरी तरह खुले से शौच मुक्त करने के बात कर रहे थे तभी मध्यप्रदेश के सागर में खुले में शौच को लेकर दो परिवारों के बीच हुई लड़ाई में डेढ़ साल के मासूम की मौत हो गई.

 Share
ईमेल करें
टिप्पणियां
मध्य प्रदेश : खुले में पेशाब करने से दो पक्षों में हुई मारपीट, बीच में आए मासूम की हुई मौत

मासूम को सरकारी अस्पताल में मृत घोषित कर दिया गया

नई दिल्ली:

2 अक्टूबर को जब प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी देश को पूरी तरह खुले से शौच मुक्त करने के बात कर रहे थे तभी मध्यप्रदेश के सागर में खुले में शौच को लेकर दो परिवारों के बीच हुई लड़ाई में डेढ़ साल के मासूम की मौत हो गई. वहीं खंडवा में एक शख्स को खुले में पेशाब करने से रोकना पुलिस आरक्षक को भारी पड़ गया. खंडवा में ट्रैफिक पुलिस में तैनात आरक्षक सूरज यादव ने एक युवक को उस जगह पेशाब करते देखा जहां लिखा था कि यहां पेशाब करना मना है, जब उन्होंने युवक को समझने की कोशिश की तो उसने पहले बहस की और पत्थर से सिर पर वार कर भाग गया.  खंडवा जिले के एसपी शिव दयाल ने कहा, 'मामला दर्ज कर लिया गया है और जांच चल रही है.' वहीं सागर ज़िले के भानगढ़ थाना क्षेत्र के बगसपुर से दिल झकझोर कर देने वाला मामला सामने आया है. जहां गांव में घर के सामने पेशाब कर रहे राम सिंह के बेटे को मोहर सिंह आदिवासी का टोकना इतना नागवार गुजरा कि उसने कथित तौर पर अपने बेटे उमेश के साथ मिलकर मोहर सिंह पर ताबड़तोड़ लाठियां बरसा दीं. 

मध्य प्रदेश में हैवानियत: खुले में शौच के लिए गए दो दलित बच्चों की पीट-पीट कर हत्या


बीच लड़ाई में डेढ़ साल का मासूम आया तो उसे भी गंभीर चोट लग गईं और सिविल हॉस्पिटल में डॉक्टरों ने उसे मृत घोषित कर दिया.  मासूम की मां की कुछ दिनों पहले मौत हो गई थी. मोहर सिंह मजदूरी करके अपने बच्चे को पाल रहा था. बाजार से दूध खरीदकर बच्चे को पिलाकर मजदूरी करने चला जाता था. मजबूर पिता दूध पिलाकर उसे सुलाता और घर का दरवाजा बंद कर मजदूरी करने चला जाता था. दिल को झकझोर देने वाले इस मामले में पुलिस ने रामसिंह और उमेश पर हत्या का मामला दर्ज कर उन्हें गिरफ्तार कर लिया है.  

टिप्पणियां

आंध्र प्रदेश का 'खुले में शौच' मुक्त होने का दावा, लोग बोले- सरकार का दावा झूठा है

इसी तरह एक हफ्ते पहले शिवपुरी में दो दलित बच्चों, 12 साल की बच्ची और 11 साल के बच्चे को हकीम सिंह यादव और रामेश्वर यादव ने खुले में शौच करने के लिए कथित रूप से पीटा था. अस्पताल में दोनों बच्चों ने दम तोड़ दिया था.  

सिटी सेंटर: साबरमती पहुंच कर पीएम मोदी ने बापू को दी श्रद्धांजलि, कहा- जारी है स्वच्छता का सफर​



Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर लाइक और ट्विटर पर फॉलो करें.


Advertisement