NDTV Khabar

मुम्बई रेलवे की तर्ज पर बेंगलुरू के लिए उपनगरीय रेल नेटवर्क पर हो रहा है विचार : रेल मंत्री पीयूष गोयल

पीयूष गोयल ने हरित पहल एवं रेलवे विद्युतीकरण पर अंतरराष्ट्रीय सम्मेलन में कहा, ‘हवाई अड्डे को शहर में कार्यस्थलों से जोड़ने के लिए रेललाइन के ऊपर सड़क बनाने की संभावन भी है.’

 Share
ईमेल करें
टिप्पणियां
मुम्बई रेलवे की तर्ज पर बेंगलुरू के लिए उपनगरीय रेल नेटवर्क पर हो रहा है विचार : रेल मंत्री पीयूष गोयल

रेल मंत्री पीयूष गोयल (फाइल फोटो)

नई दिल्ली: रेल मंत्री पीयूष गोयल ने शुक्रवार को कहा कि बेंगलुरु में भीड़भाड़ कम करने तथा उसे हवाई अड्डे से जोड़ने के लिए मुम्बई रेलवे की तर्ज पर उसके लिए भी उपनगरीय रेल नेटवर्क तैयार करने के प्रस्ताव पर काम कर रहा है. गोयल ने कहा कि उनके रेल मंत्री बनने से पहले ही वरिष्ठ भाजपा नेता अनंत कुमार ने उन्हें यह सुझाव दिया था. कुमार ने उनसे कहा था कि वह 1996 से ही इस भारतीय आईटी राजधानी के लिए उपनगरीय रेल सेवा पर जोर दे रहे हैं.

उन्होंने कहा कि 18 सितंबर को दक्षिण पश्चिम रेलवे की समीक्षा बैठक में उन्होंने अधिकारियों से रेल नेटवर्क के लिए शहर का अध्ययन करने और प्राथमिक परियोजना रिपोर्ट लेकर आने को कहा है.

यह भी पढ़ें : मुंबई में नए साल से शुरू होगी पहली लोकल AC ट्रेन, रोजाना लगाएगी 7 फेरे

पीयूष गोयल ने हरित पहल एवं रेलवे विद्युतीकरण पर अंतरराष्ट्रीय सम्मेलन में कहा, ‘हवाई अड्डे को शहर में कार्यस्थलों से जोड़ने के लिए रेललाइन के ऊपर सड़क बनाने की संभावन भी है.’ मंत्री ने कहा कि उन्होंने दक्षिण पश्चिम रेलवे को इस योजना के लिए 30 दिन का वक्त दिया था लेकिन 20सितंबर को जब वह फिर बेंगलुरू में थे तब उन्हें इस परियोजना पर 28 दिनों के अंदर लागू करने योग्य शुरुआती कार्ययोजना से संबंधित एक दस्तावेज सौंपा गया.

VIDEO : मुंबई के सभी रेलवे पुलों की सुरक्षा की समीक्षा के आदेश​


गोयल ने कहा कि दक्षिण पश्चिम रेलवे की निर्माण शाखा ने इस प्रस्ताव के धारणा संबंधी नियोजन और अध्ययन के लिए भारत सरकार की रेल इंडिया टेक्निकल एंड इकोनोमिक सर्विसेज को परामर्श कार्य सौंपा. एक अक्तूबर को उन्हें वाणिज्यिक उपयोग के लिए जमीन की उपलब्धता पर एक मोटा आकलन पेश किया गया. उन्होंने कहा, ‘उन्होंने उन जगहों को ढूंढने और योजना तैयार करने के लिए गूगल का इस्तेमाल किया जहां जमीन उपलब्ध है क्योंकि योजना स्ववित्तपोषण से होनी है. तब उन्होंने उन खंडों की पहचान की जहां मार्ग ऊपर उठाना होगा और यह भी बताया कि कहां जमीन के नीचे ले जाना होगा. ’
 

(हेडलाइन के अलावा, इस खबर को एनडीटीवी टीम ने संपादित नहीं किया है, यह सिंडीकेट फीड से सीधे प्रकाशित की गई है।)


Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और गूगल प्लस पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करे...

Advertisement