NDTV Khabar

UIDAI की बड़ी पहल, अब आपके चेहरे से भी हो सकेगा आधार वेरिफिकेशन

1 जुलाई, 2018 से लोगों के रजिस्टर्ड डिवाइस पर फ्यूजन मोड में फेस ऑथेंटिकेशन की सुविधा मुहैया कराई जाएगी.

 Share
ईमेल करें
टिप्पणियां
UIDAI की बड़ी पहल, अब आपके चेहरे से भी हो सकेगा आधार वेरिफिकेशन

बायोमीट्रिक पहचान में हो रही मुश्किलों से छुटकारा दिलाने की UIDAI की पहल

खास बातें

  1. आधार वेरिफिकेशन के लिए अब एक नया तरीका जुड़ा
  2. रजिस्टर्ड डिवाइस पर फ्यूजन मोड में फेस ऑथेंटिकेशन की सुविधा
  3. यह नई सुविधा 'जरूरत के हिसाब' से उपलब्ध होगी: UIDAI
नई दिल्ली: भारतीय विशिष्ट पहचान प्राधिकार (UIDAI) ने चेहरे के जरिये आधार कार्ड के वेरिफिकेशन की अनुमति दी है. अब 1 जुलाई, 2018 से लोगों के रजिस्टर्ड डिवाइस पर फ्यूजन मोड में फेस ऑथेंटिकेशन की सुविधा मुहैया कराई जाएगी, ताकि लोगों को बायोमीट्रिक पहचान में हो रही मुश्किलों से छुटकारा मिल सके. इससे उन लोगों को भी राहत मिलेगी, जो कठिन मेहनत वाले हालात या अंगुलियों के निशान धूमिल या किसी अन्य वजह से फिंगरप्रिंट की पहचान नहीं करा पा रहे थे. अभी UIDAI पहचान के लिए दो तरीके इस्तेमाल करती है- फिंगरप्रिट और आंख की पुतली, जिससे कुछ लोगों की पहचान में परेशानी होती है. अब आधार वेरिफिकेशन के लिए एक नया तरीका और जुड़ गया है. आधिकारिक बयान में कहा गया है कि यह नई सुविधा वेरिफिकेशन के मौजूदा तरीकों के साथ उपलब्ध होगी

यह भी पढ़ें : आधार को सुरक्षित करने के लिए सरकार पेश करेगी 16 अंकों की वर्चुअल आईडी

टिप्पणियां
यह नई सुविधा 1 जुलाई, 2018 से उपयोग के लिए उपलब्ध होगी. बयान के अनुसार, 'जो लोग वृद्धावस्था, कठिन मेहनत वाले हालात या अंगुलियों के निशान धूमिल होने जैसे हालात के कारण अपने आधार का बायोमेट्रिक तरीके से सत्यापन नहीं करवा पा रहे, यह नई सुविधा उनके लिए मददगार साबित होगी.' UIDAI का कहना है कि सत्यापन की यह नई सुविधा ‘जरूरत के हिसाब’ से उपलब्ध होगी.

VIDEO : आधार के लिए दर-बदर दिल्ली
उल्लेखनीय है कि UIDAI ने पिछले सप्ताह ही व्यक्तियों को सरकारी और अन्य सेवाओं के उपयोग के लिए एक आभासी आईडी बनाने/इस्तेमाल करने की अनुमति भी दी है. (इनपुट एजेंसी से)


Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और गूगल प्लस पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करे...

Advertisement