NDTV Khabar

देश भर में 'आधार' से हुई करीब 500 गुमशुदा बच्चों की पहचान

पिछले कुछ महीनों के दौरान आधार के जरिये देश में करीब 500 गुमशुदा बच्चों की पहचान की गयी है.

 Share
ईमेल करें
टिप्पणियां
देश भर में 'आधार' से हुई करीब 500 गुमशुदा बच्चों की पहचान

फाइल फोटो

नई दिल्ली:

भले ही आधार को लेकर देश भर में बहस छिड़ी हुई हो, मगर इस बात में कोई संदेह नहीं है कि आधार के अपने फायदे भी हैं. पिछले कुछ महीनों के दौरान आधार के जरिये देश में करीब 500 गुमशुदा बच्चों की पहचान की गयी है. भारतीय विशिष्ट पहचान प्राधिकरण के मुख्य कार्यकारी अधिकारी (सीईओ) अजय भूषण पांडेय ने शुक्रवार को इसकी जानकारी दी.

उन्होंने ग्लोबल कांफ्रेंस ऑन साइबरस्पेस के एक सत्र को संबोधित करते हुए कहा कि पिछले कुछ महीनों के दौरान आधार के जरिये 500 से अधिक गुमशुदा बच्चों की पहचान की गयी है. उन्होंने इसे स्पष्ट करते हुए कहा कि ऐसा तब हुआ जब अनाथालय के बच्चे को आधार पंजीयन के लिए ले जाया गया और पाया गया कि उसका 12 अंकों का जैविक पहचान अंक पहले ही बन चुका है.

यह भी पढ़ें - मोबाइल नंबर को आधार से जोड़ने के नए तरीके 1 दिसंबर से होंगे लागू


पांडेय ने कहा कि इसके जरिये हम उसकी पहचान खोज सके. उन्होंने हल्के लहजे में कहा कि पुरानी बॉलीवुड फिल्मों में सगे भाई-बहन बिछड़ने के दशकों बाद एक-दूसरे से मिलते थे. अब उन्हें अपनी फिल्मों पर आधार को लेकर फिर से काम करना होगा. 'सभी के लिए डिजिटल पहचान: विश्व के श्रेष्ठ चलन' सत्र में पांडेय ने कहा कि आधार के कारण अब तक 10 अरब डॉलर से अधिक की बचत हुई है.

यह भी पढ़ें - मोबाइल और बैंक से आधार लिंक करने के sms में डेडलाइन बताई जाए : सुप्रीम कोर्ट

टिप्पणियां

विभिन्न सरकारी योजनाओं से इसे जोड़े जाने से फर्जी लाभार्थियों की पहचान में मदद मिली है. उन्होंने कहा कि जब आधार को अन्य सरकारी योजनाओं से भी जोड़ लिया जाएगा तब सालाना 10 अरब डॉलर की बचत होगी. उन्होंने आगे बताया कि देश में अभी 1.19 अरब लोगों के पास आधार है. उन्होंने कहा कि देश में 99 प्रतिशत व्यस्कों का आधार पंजीयन हो चुका है.

VIDEO: आईआरसीटीसी अकाउंट को आधार नंबर से ऐसे जोड़ें (इनपुट भाषा से)



Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर लाइक और ट्विटर पर फॉलो करें.


Advertisement