NDTV Khabar

कांग्रेस-AAP गठबंधन फाइनल: दिल्ली में 3-3 सीटों पर लड़ेंगी दोनों पार्टियां, एक सीट पर शत्रुघ्न या यशवंत सिन्हा होंगे साझा उम्मीदवार

कांग्रेस-AAP गठबंधन फाइनल: दिल्ली में 3-3 सीटों पर लड़ेंगी दोनों पार्टियां, एक सीट शत्रुघ्न सिन्हा के लिए छोड़ी

 Share
ईमेल करें
टिप्पणियां

खास बातें

  1. दिल्ली में फिफ्टी-फिफ्टी फॉर्मूला पर आप और कांग्रेस.
  2. एक सीट पर साधा उम्मीदवार होंगे शत्रुघ्न सिन्हा.
  3. आप और कांग्रेस 3-3 सीटों पर लड़ेगी चुनाव.
नई दिल्ली:

लोकसभा चुनाव से ठीक पहले पिछले काफी समय से आम आदमी पार्टी और कांग्रेस के बीच गठबंधन को लेकर माथापच्ची पर विराम लग गया है. काफी सियासी उठा-पटक के बाद आखिरकार लोकसभा चुनाव (Lok Sabha Election) को लेकर दिल्ली में आम आदमी पार्टी (Aam Aadmi Party) और कांग्रेस (Congress) के बीच गठबंधन हो गया. सूत्रों की मानें तो दिल्ली में लोकसभा की सात सीटों में से तीन-तीन पर दोनों पार्टियां अपने उम्मीदवार उतारेंगी. वहीं एक सीट शत्रुघ्न सिन्हा या यशवंत सिन्हा को दी जाएगी. यानी दिल्ली में न कांग्रेस बड़ी न आम आदमी पार्टी. दोनों पार्टियां बराबर-बराबर सीटों पर ही चुनाव लड़ेगी. माना जा रहा है कि शत्रुघ्न सिन्हा या यशवंत सिन्हा में से कोई एक दोनों पार्टियों की ओर से साझा उम्मीदवार होंगे. हालांकि, शत्रुघ्न सिन्हा के नाम पर फैसला राजद के उस स्टैंड के बाद आएगा, कि अगर राजद पटना साहिब से शत्रुघ्न सिन्हा को उम्मीदवार बनाएगी. बता दें कि इससे पहले ही आम आदमी पार्टी ने 6 सीटों पर अपने उम्मीदवारों के नामों का ऐलान कर दिया था. 

दरअसल, इस बीच कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी ने मंगलवार को कांग्रेस की दिल्ली यूनिट के नेताओं के साथ गठबंधन पर चर्चा के लिए बैठक की बुलाई है. दोपहर 12 बजे से इनके घर एक बैठक होनी थी. माना जा रहा है कि इस बैठक के बाद ही गठबंधन पर आधिकारिक घोषणा हो सकती है. सूत्रों के मुताबिक कांग्रेस का केंद्रीय नेतृत्व गठबंधन के लिए तैयार था, लेकिन पार्टी की दिल्ली यूनिट इसके पक्ष में नहीं थी. यही वजह है कि कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी को बीच में आना पड़ा.


इससे पहले खबर थी कि आम आदमी पार्टी ने कांग्रेस को गठबंधन के लिए दो फॉर्मूला सुझाया है. अब अरविंद केजरीवाल की आम आदमी पार्टी सीटों का सौदा करने के मुड में है. यही वजह है कि आम आदमी पार्टी के पहले फॉर्मूला के तहत AAP चाहती है कि दिल्ली में आम आदमी पार्टी 6 सीटों पर लड़े और कांग्रेस महज एक पर. इस सूरत में आम आदमी पार्टी फिर कहीं चुनाव नहीं लड़ेगी, जहां कांग्रेस होगी. वहीं दूसरे फॉर्मूला के तहत आम आदमी पार्टी का कहना है कि अगर दिल्ली में कांग्रेस को ज्यादा सीटें चाहिए तो उसे पंजाब, हरियाणा जैसे राज्यों में सीट देकर इसकी भरपाई करनी होगी. 

कांग्रेस-AAP गठबंधन अब भी संभव: राहुल गांधी ने बुलाई बैठक, आज हो सकता है गठजोड़ पर फैसला

सूत्रों के इस दावे की पुष्टि इस बात से भी होती है क्योंकि आम आदमी पार्टी ने दिल्ली की 7 लोकसभा सीटों में से अब तक 6 पर ही अपने उम्मीदवारों के नामों का ऐलान किया है. उन्होंने अभी तक एक सीट पर अपना पत्ता नहीं खोला है. माना जा जा रहा है कि आम आदमी पार्टी अब भी यह मानती है कि अगर कांग्रेस से साथ गठबंधन हो जाए तो उसके लिए यही सातवां सीट छोड़ दिया जाए. 

दिल्ली में AAP और कांग्रेस के बीच गठबंधन की चर्चा गर्म, शीला दीक्षित के घर पर आपात बैठक: सूत्र

इधर, मंगलवार को दिल्ली में आम आदमी पार्टी के साथ कांग्रेस के गठबंधन को लेकर कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी ने बैठक बुलाई है. इस बैठक में कांग्रेस के कई नेता शामिल होंगे. माना जा रहा है कि संभव है राहुल गांधी आज बैठक के बाद दिल्ली में आम आदमी पार्टी के साथ गठबंधन पर फैसला ले लेंगे. सूत्रों के मुताबिक कांग्रेस आलाकमान दिल्ली में आम आदमी पार्टी के साथ गठबंधन चाहता है जबकि कांग्रेस की राज्य इकाई गठबंधन के पक्ष में नहीं है. 

टिप्पणियां

पिछले सप्ताह मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल की आम आदमी पार्टी(AAP) ने दिल्ली की 6 सीटों पर अपने उम्मीदवारों का ऐलान किया था. आप नेता और दिल्ली के संयोजक गोपाल राय ने लोकसभा चुनाव 2019 के लिए आम आदमी पार्टी ने अभी तक लोकसभा की 6 सीटों के लिए अपने प्रत्याशियों के नाम की घोषणा की थी, जिसके अनुसार उनके उम्मीदवार हैं:

  • चांदनी चौक लोकसभा सीट से पंकज गुप्ता
  • उत्तर पूर्वी दिल्ली से दिलीप पांडेय
  • पूर्वी दिल्ली से आतिशी
  • दक्षिणी दिल्ली से राघव चड्ढा
  • उत्तर पश्चिम दिल्ली से गुग्गन सिंह
  • नई दिल्ली से बृजेश गोयल

VIDEO: AAP से हाथ मिलाएगी कांग्रेस?



Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर लाइक और ट्विटर पर फॉलो करें.


Advertisement