Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com
NDTV Khabar

सुप्रीम कोर्ट ने 20 हफ्ते बाद गर्भपात के लिए दिशा निर्देश पर केंद्र से मांगा जवाब

इस कानून में 20 सप्ताह के बाद गर्भपात कराने पर रोक लगाई गई है.

 Share
ईमेल करें
टिप्पणियां
सुप्रीम कोर्ट ने 20 हफ्ते बाद गर्भपात के लिए दिशा निर्देश पर केंद्र से मांगा जवाब

सुप्रीम कोर्ट ने 20 हफ्ते बाद गर्भपात के लिए दिशा निर्देश पर केंद्र से मांगा जवाब (फाइल फोटो)

नई दिल्ली:

उच्चतम न्यायालय ने कुछ विशेष मामलों में, गर्भवती महिला का 20 सप्ताह के बाद गर्भपात कराने के लिए स्थायी तंत्र बनाने के वास्ते दिशा निर्देश बनाने पर सरकार से जवाब मांगा है. प्रधान न्यायाधीश दीपक मिश्रा के नेतृत्व वाली पीठ ने स्वास्थ्य, महिला एवं बाल विकास मंत्रालय और भारतीय चिकित्सा परिषद को नोटिस जारी किया और चार सप्ताह के भीतर उनका जवाब मांग.

रेप पीड़ित बच्ची को मुआवजा न मिलने से सुप्रीम कोर्ट नाराज, केंद्र सरकार से जवाब-तलब

बहरहाल, उच्चतम न्यायालय ने मेडिकल टर्मिनेशन ऑफ प्रेग्नेंसी एक्ट 1971 में संशोधन से इनकार करते हुए कहा कि यह विधायी क्षेत्र का मामला है. इस कानून में 20 सप्ताह के बाद गर्भपात कराने पर रोक लगाई गई है.


VIDEO- गर्भपात के काले कारोबार के मामले में आरोपी डॉक्टर अरेस्ट

टिप्पणियां

शीर्ष न्यायालय कर्नाटक की अनुषा रविंद्र की याचिका पर सुनवाई कर रहा है. याचिकाकर्ता ने रेप पीड़िता और गर्भ में असामान्य भ्रूण रखने वाली महिलाओं के 20 सप्ताह से ज्यादा के भ्रूण को गिराने के लिए मेडिकल टर्मिनेशन ऑफ प्रेग्नेंसी एक्ट 1971 में संशोधन की मांग की है.

 



Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर लाइक और ट्विटर पर फॉलो करें.


 Share
(यह भी पढ़ें)... IND vs AUS: अजीबोगरीब तरह से आउट हुईं हरमनप्रीत कौर, देखकर कीपर ने पकड़ लिया सिर, देखें Video

Advertisement