Budget
Hindi news home page

अभिनेता संजय दत्त की अर्ज़ी ख़ारिज, फिर पहुंचे येरवडा जेल

ईमेल करें
टिप्पणियां
अभिनेता संजय दत्त की अर्ज़ी ख़ारिज, फिर पहुंचे येरवडा जेल
मुंबई: फिल्म अभिनेता संजय दत्त वापस पुणे की येरवडा जेल पहुंच गए हैं, फर्लो की मियाद बढ़ाने के उनके आवेदन को जेल प्रशासन ने अपनी मंज़ूरी नहीं दी, जिसके बाद उन्होंने समपर्ण कर दिया। पुणे की येरवडा जेल से 14 दिनों के फर्लो पर संजय दत्त खराब स्वास्थ्य के नाम पर 24 दिसम्बर 2014 को घर आए थे, जिसके बाद उन्होंने फिर 14 दिनों की छुट्टी बढ़ाने के लिए अर्ज़ी दी, जिसे जेल प्रशासन ने नहीं माना।
 
संजय दत्त गुरुवार को भी पुणे पहुंच गए थे, लेकिन तभी महाराष्ट्र के गृहराज्यमंत्री राम शिंदे का बयान आया कि फर्लो बढ़ाने की अर्ज़ी पर फैसला आने तक संजय का जेल में लौटना ज़रूरी नहीं है, जिसके बाद वह वापस मुंबई लौट आए थे। लेकिन स्थानीय पुलिस की रिपोर्ट के आधार पर उनके आवेदन को जेल प्रशासन ने रद्द कर दिया। जेल जाने से पहले मुंबई में संजय दत्त ने मीडिया से कहा, मैं पिछले 22 साल से कानून का पालन करता रहा हूं, मुझे सरेंडर करने को कहा गया है और मैं सरेंडर करने जा रहा हूं। हर क़ैदी को साल में महीने भर की छुट्टी मिलती है, जो मुझे भी कानूनी तौर पर मिली, किसी ने मुझ पर उपकार नहीं किया।

मुंबई बम धमाकों के मामले में आर्म्स एक्ट के तहत दोषी संजय दत्त ने 14 मई 2013 को खुद को कोर्ट के हवाले किया था। गिरफ़्तारी के बाद से अब तक संजय दत्त तीन बार जेल से छुट्टी लेकर घर आ चुके हैं, फर्लों ख़त्म होने के बाद उन्होंने इसकी मियाद 14 दिनों के लिए बढ़ाने की अर्जी दी, तो बवाल खड़ा हो गया ... सरकार पर संजय को तरजीह देने के आरोप लगे जवाब में मुख्यमंत्री देवेन्द्र फडणवीस ने कहा, हमारी सरकार किसी का न तो पक्ष लेगी, न ही किसी के साथ भेदभाव करेगी। कानून सबके लिए बराबर है।

1993 मुंबई में हुए सिलसिलेवार बम धमाकों के मामले में संजय दत्त को आर्म्स एक्ट के तहत 5 साल की सज़ा हुई है, जिसमें डेढ़ साल वह पहले ही जेल में बिता चुके हैं। सुप्रीम कोर्ट से राहत की उम्मीद ख़त्म होने के बाद संजय ने 14 मई 2013 को खुद को कोर्ट के हवाले किया, जिसके बाद उन्हें पहले मुंबई की आर्थर रोड जेल में कुछ दिन रखने के बाद पुणे की येरवडा जेल में भेजा गया है। कानूनन हर कैदी को सालाना 29 दिनों के लिए फर्लो पर छुट्टी मिल सकती है, जो उसकी सज़ा का ही हिस्सा है।


Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और गूगल प्लस पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करे...

Advertisement

 
 

Advertisement