अभिनेत्री उर्मिला मातोंडकर ने कंगना रनौत पर बोला हमला, कहा -बॉलीवुड को बदनाम किया जा रहा है

बॉलीवुड एक्टर सुशांत सिंह राजपूत (Sushant Singh Rajput) की मौत से शुरू हुई नेपोटिज्म की बहस अब ड्रग्स तक आ पहुंची है. ड्रग्स मामले में एक के बाद एक गिरफ्तारी भी मुंबई में हो रही है. 

नई दिल्ली:

बॉलीवुड एक्टर सुशांत सिंह राजपूत (Sushant Singh Rajput) की मौत से शुरू हुई नेपोटिज्म की बहस अब ड्रग्स तक आ पहुंची है. ड्रग्स मामले में एक के बाद एक गिरफ्तारी भी मुंबई में हो रही है.  एक तरफ जहां कंगना रनौत शिवसेना के निशाने पर है तो वहीं अब जया बच्चन (Jaya Bachchan ) पर भी लोग हमलावर हो गये हैं. इन्हीं तमाम मुद्दों पर बॉलीवुड अभिनेत्री उर्मिला मातोंडकर ने NDTV के साथ बात की है. उर्मिला मातोंडकर ने कहा कि बॉलीवुड को बदनाम किया जा रहा है. साथ ही उन्होंने कंगना रनौैत के बयानों पर भी जमकर हमला बोला. 

उन्होंने ड्रग्स के मुद्दे पर कहा कि अगर बॉलीवुड नशेड़ियों का अड्डा रहा है तो उसने देश और दुनिया में इतना नाम कैसे कमाया है. उन्होंने कहा कि हाथ जोड़कर कहना चाहता हूं कि प्रधानमंत्री ने भी बॉलीवुड के कलाकारों को गांधी जी के विचारों को जन-जन तक पहुंचाने के लिए बुलाया था. मुझे नहीं लगता है प्रधानमंत्री गलत लोगों को अपने साथ बुलाना चाहेंगे. बॉलीवुड ने देश को एक से एक कलाकार दिया है. एक नशेड़ी इंडस्ट्र्री कैसे इतना आगे बढ़ सकती है?


कंगना रनौत के ट्वीट पर उर्मिला मातोंडकर ने कहा कि कंगना रनौत की कई बातों को अभद्र बताया जा सकता है. कंगना जी के जन्म से पहले ही जया बच्चन जी ने कई महिला अधिकारों से जुड़े फिल्मों में काम किया है. वो हमेशा औरतों और समाज के लिए आवाज उठाया है. उनपर कुछ कहना दुखद है. मैं कंगना जी से पूछना चाहती हूं कि जया जी और बॉलीवुड के किसी ने भी उनपर कोई व्यक्तिगत बयान दिया है?

Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com


उर्मिला मातोंडकर ने सवाल उठाते हुए कहा कि बॉलीवुड को क्यों टार्गेट किया जा रहा है? उन्होंने कहा कि जिन लोगों को टार्गेट किया जा रहा है उनके पीछे करोड़ों रुपये लगे होते हैं ऐसे में वो कुछ भी खुलकर बोलने से बचना चाहते हैं. कंगना के पास अगर कोई जानकारी है तो जांच जरूर होनी चाहिए. साथ ही उन्होंने कहा कि कुछ शब्द जिसका प्रयोग कंगना के खिलाफ हुआ उस बात की मैं निंदा करती हूं. लेकिन जब वो राज्यपाल जी से मिलने गयी थी तब उन्हें नॉरकॉटिक्स विभाग के पास जाना चाहिए था.  अभी महाराष्ट्र अपने कठिन समय से गुजर रहा है. अभी सबको मिलकर कोविड के खिलाफ लड़ाई लड़नी चाहिए.