कोरोना के बाद शहरों में पैदल चलने और साइकिल चलाने की ओर रुझान बढ़ेगा : पुरी 

हरदीप सिंह पुरी ने कहा, शहरों में उनकी आबादी के आधार पर 16 से 57 प्रतिशत लोग पैदल चलते हैं. करीब 30-40 प्रतिशत साइकिल का इस्तेमाल करते हैं.

कोरोना के बाद शहरों में पैदल चलने और साइकिल चलाने की ओर रुझान बढ़ेगा : पुरी 

केंद्रीय मंत्री ने कहा, कोरोना काल के बाद निजी यात्री सेवाओं को और बढ़ावा मिलेगा.

नई दिल्ली:

कोरोना काल (Corona Cases) के दौरान देश में शहरों में भी लोगों के परिवहन और आवाजाही संबंधी व्यवहार में बदलाव आ रहा है. केंद्रीय आवास और शहरी कार्य (Housing and Urban Development) मंत्री हरदीप सिंह पुरी ने सोमवार को एक सम्मेलन में यह प्रतिक्रिया दी. शहरों में उनकी आबादी के आधार पर 16 से 57 प्रतिशत लोग पैदल चलते हैं. करीब 30-40 प्रतिशत साइकिल का इस्तेमाल करते हैं.

Newsbeep

केंद्रीय मंत्री ने ‘13वें अर्बन मोबिलिटी इंडिया सम्मेलन' को संबोधित किया. हरदीप सिंह पुरी (Hardeep singh Puri) ने कहा कि भविष्य में पर्यावरण के अनुकूल, इंटीग्रेटेड, स्वचालित और निजी यात्रा सेवा की मांग बढ़ेगी. केंद्रीय मंत्री ने कहा कि परिवहन व्यवस्था में बेहतरी और यातायात प्रबंधन को लेकर उपायों से बड़े शहरों में आवागमन बेहतर होगा. कोविड-19 महामारी के बाद शहरों में आवाजाही के संबंध में व्यवहार में बदलाव नजर आने के संकेत हैं. उन्होंने कहा कि बुनियादी ढांचे में निवेश से लोगों के निवास स्थानों में भी बदलाव होगा. सामानों की आवाजाही से आर्थिक गतिविधियां बढ़ेंगी. वर्तमान में इससे रोजगार का सृजन होगा और भविष्य में विकास और उत्पादकता बढ़ेगी.

Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com


केंद्रीय मंत्री का कहना है कि सार्वजनिक परिवहन व्यवस्था की बेहतरी, तकनीकी समावेश और शहरी परिवहन व्यवस्था में एनएमटी सिस्टम को शामिल करने पर जोर दिया जा रहा है. मंत्रालय ने कहा कि यात्रियों की सुविधाओं और सेवाओं को प्राथमिकता दी जानी चाहिए. यात्रियों को निजी वाहनों का सुरक्षित, स्वच्छ और बेहतर विकल्प मुहैया कराने की जरूरत है. इसे परिवहन के अन्य संसाधनों के साथ जोड़ना होगा.



(इस खबर को एनडीटीवी टीम ने संपादित नहीं किया है. यह सिंडीकेट फीड से सीधे प्रकाशित की गई है।)