NDTV Khabar

डेरा प्रमुख को सजा सुनाए जाने के बाद सिरसा में आगजनी, कार फूंकी

गुरमीत राम रहीम सिंह को सजा सुनाए जाने के बाद कुछ अज्ञात लोगों ने सिरसा कोटली गांव में एक कार जला दी

 Share
ईमेल करें
टिप्पणियां
डेरा प्रमुख को सजा सुनाए जाने के बाद सिरसा में आगजनी, कार फूंकी

सिरसा में आज सुरक्षा चाक-चौबंद रही...

सिरसा: डेरा सच्चा सौदा प्रमुख गुरमीत राम रहीम सिंह को बलात्कार के दो मामले में दस-दस साल की जेल की सजा सुनाए जाने के बाद कुछ अज्ञात लोगों ने सिरसा कोटली गांव में एक कार जला दी. पुलिस के एक अधिकारी ने बताया कि डेरा सच्चा सौदा के मुख्यालय से 10 किलोमीटर की दूरी पर स्थित कोटली गांव के निकट कुछ अज्ञात लोगों ने एक लग्जरी कार जला दी. अधिकारी ने बताया कि ऐसा प्रतीत हो रहा है कि इसमें डेरा सच्चा सौदा के अनुयायी संलिप्त थे.

पुलिस अधिकारी ने बताया, "हम मामले की जांच कर रहे हैं. ग्राम सरपंच का बयान दर्ज किया जा रहा है. प्रथम दृष्टया ऐसा प्रतीत हो रहा है कि डेरा अनुयायियों ने आगजनी की है, जो अदालत के फैसले से आक्रोशित थे." कुछ ग्रामीणों के अनुसार कोटली गांव में कुछ लोग दो कारों में आए थे. ग्रामीणों ने बताया कि एक कार के लोग बाहर आए और उन्होंने वाहन जला दिया और दूसरे कार में बैठकर भाग निकले.

ये भी पढ़ें : रोहतक जेल में गिड़गिड़ाने लगा राम रहीम, कांपते हुए जज से कहा-मुझे माफ कर दीजिए....

इससे पहले 25 अगस्त को पंचकूला में कोर्ट द्वारा दोषी ठहराए जाने के बाद डेरा समर्थकों ने जमकर हंगामा किया था, जिसमें 38 लोगों की मौत हो गई थी. इसके चलते आज प्रशासन पूरी तरह अलर्ट था. जेल के आसपास के इलाके में कड़े सुरक्षा इंतजाम किए गए. अर्ध सैनिक बलों की कंपनियां तैनात हैं.

पढ़ें: गुरमीत राम रहीम को 10 साल की सजा : अब इन 4 कानूनी विकल्पों की शरण ले सकते हैं डेरा चीफ​

टिप्पणियां
रोहतक आने वाली सभी गाड़ियों की सघन तलाशी ली जा रही है. हर आने-जाने वाले से उसकी पहचान पूछी जा रही है. शहर के अदंर और बाहर बड़ी संख्या में सुरक्षाबल तैनात हैं. यहां धारा 144 लगी हुई है.

राम रहीम को सजा के ऐलान से पहले सिरसा में डेरा सच्चा सौदा के मुख्यालय से डेरा समर्थकों को निकालने का काम जारी रहा. हरियाणा रोडवेज़ की बसों का इंतज़ाम करके डेरा समर्थकों को उनके घरों को वापस भेजा गया. पुलिस और अर्धसैनिक बलों के अलावा सेना कैंप की हुई. रविवार को कर्फ्यू में 5 घंटों की ढील दी गई थी ताकि लोग घरों से बाहर निकल कर रोजमर्रा की जरूरत के सामान ले सकें, लेकिन आज सजा के ऐलान को देखते हुए कर्फ़्यू में कोई ढील नहीं दी गई.


Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और गूगल प्लस पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करे...

Advertisement