NDTV Khabar

रजनीकांत, कमल हासन के बाद अब एआर रहमान भी जल्लीकट्टू के समर्थन में, रखेंगे उपवास

 Share
ईमेल करें
टिप्पणियां
रजनीकांत, कमल हासन के बाद अब एआर रहमान भी जल्लीकट्टू के समर्थन में, रखेंगे उपवास

एआर रहमान ने ट्वीट किया, "तमिलनाडु की भावना का समर्थन करते हुए मैं उपवास रखने जा रहा हूं..."

खास बातें

  1. पोंगल पर खेले जाने वाले परंपरागत खेल जल्लीकट्टू को SC ने बैन किया था
  2. सुपरस्टार रजनीकांत और कमल हासन भी खेल का समर्थन कर चुके हैं
  3. एआर रहमान ने ट्वीट किया कि वह भी तमिलनाडु की भावना का समर्थन करते हैं
नई दिल्ली:

तमिलनाडु में पोंगल के मौके पर खेले जाने वाले परंपरागत खेल जल्लीकट्टू को सुप्रीम कोर्ट द्वारा बैन कर दिए जाने के बाद से पूरे राज्य में खेल के समर्थन में प्रदर्शन हो रहे हैं, और जनसाधारण के साथ-साथ बड़े-बड़े फिल्मी सितारों ने भी इसके समर्थन में बयान दिए हैं. देश के सबसे बड़े सुपरस्टारों में शुमार किए जाने वाले रजनीकांत और कमल हासन द्वारा जल्लीकट्टू के समर्थन में बयान दिए जाने के बाद अब देश के एकमात्र ऑस्कर विजेता संगीतकार एआर रहमान भी शुक्रवार को इसके समर्थन में उपवास रखने जा रहे हैं.

गुरुवार को एआर रहमान ने माइक्रो-ब्लॉगिंग वेबसाइट ट्विटर पर लिखा, "तमिलनाडु की भावना का समर्थन करते हुए मैं कल उपवास रखने जा रहा हूं..."
 


गौरतलब है कि प्रतिबंध लगाए जाने के बाद से ही हज़ारों तमिलनाडु वासी चेन्नई के मरीना बीच समेत राज्यभर में विरोध प्रदर्शन कर खेल पर लगे प्रतिबंध को हटाने की मांग कर रहे हैं. इस संदर्भ में मुख्यमंत्री ओ. पन्नीरसेल्वम ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से भी आग्रह किया है, जिन्होंने आश्वासन दिया है कि मामला कोर्ट में होने की वजह से फिलहाल कुछ किया नहीं जा सकता, लेकिन अध्यादेश लाने पर विचार किया जाएगा.
टिप्पणियां

----- ----- ----- यह भी पढ़ें ----- ----- -----

----- ----- ----- ----- ----- ----- ----- -----

रजनीकांत और कमल हासन के अतिरिक्त रजनीकांत के दामाद व तमिल फिल्म इंडस्ट्री के युवा सितारों में सबसे ज़्यादा मशहूर धनुष और कमल हासन की बेटी श्रुति हासन ने भी जल्लीकट्टू का समर्थन कर रही तमिलनाडु की जनता से सहमति जताई है. राज्य सरकार भी इस मुद्दे पर पूरी तरह जनता के साथ नज़र आ रही है. पिछले कुछ दिनों से पूरे राज्य में जगह-जगह प्रदर्शन हो रहे हैं, और प्रतिबंध को हटाने के साथ-साथ पशु अधिकारों के लिए काम करने वाली संस्था पीपल फॉर एथिकल ट्रीटमेंट ऑफ एनिमल्स (पेटा) पर भी पाबंदी लगाए जाने की मांग की जा रही है.



Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर लाइक और ट्विटर पर फॉलो करें.


Advertisement