TMC छोड़ने के सस्पेंस के बाद पार्टी सांसद शताब्दी रॉय को मिली अहम जिम्मेदारी

तृणमूल कांग्रेस (Trinamool Congress) नाराज चल रहीं शताब्दी रॉय को पार्टी मनाने में कामयाब रही. शताब्दी 2019 के लोकसभा चुनाव में बीरभूम की सीट बचाने में सफल रही थीं, जबकि निकटवर्ती सीटों पर पार्टी के उम्मीदवार बीजेपी से बड़े अंतर से हार गए थे.

कोलकाता:

तृणमूल कांग्रेस की तीन बार की सांसद शताब्दी रॉय (TMC MP Shatabdi Roy)  को पार्टी की बंगाल इकाई का उपाध्यक्ष नियुक्त किया गया है. तृणमूल कांग्रेस (Trinamool Congress) की ओर से यह घोषणा दो दिन पहले के नाटकीय घटनाक्रम के बाद की गई, जब ऐसी चर्चा थी कि अन्य नेताओं की तरह शताब्दी रॉय भी BJP का दामन थाम सकती हैं. बंगाल में अप्रैल-मई में विधानसभा चुनाव होने हैं.

यह भी पढ़ें- "मैं तृणमूल कांग्रेस के साथ हूं," TMC सांसद शताब्दी रॉय ने खत्म किया सस्पेंस


रॉय ने कहा कि हम इस निर्णय का स्वागत करती हैं और वह अगले चुनाव में बीजेपी की हार सुनिश्चित करने के लिए कड़ी मेहनत करेंगी. अभिनय से राजनीति की दुनिया में आईं शताब्दी (Shatabdi Roy) ने यह भी कहा कि अगर कोई शीर्ष नेतृत्व के समक्ष अपनी समस्याएं रखता है तो उसका समाधान निकाला जाता है. इस घटनाक्रम ने यह साबित किया है. शताब्दी रॉय ने कुछ दिनों पहले ट्वीट करके TMC छोड़ने के संकेत दिए थे. नई दिल्ली रवाना होने के ठीक एक दिन पहले पार्टी नेता अभिषेक बनर्जी ने उनसे मुलाकात की थी और उन्होंने सुर बदलते हुए ऐलान किया था कि वह टीएमसी में ही बनी रहेंगी.

Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com


शताब्दी का कहना है कि वह मानसिक तौर पर बेहद व्यथित थीं, क्योंकि पार्टी के कार्यक्रमों में उन्हें आमंत्रित नहीं किया जा रहा था. ऐसी अटकलें थीं कि शनिवार को नई दिल्ली में गृह मंत्री अमित शाह से मुलाकात करके वह बीजेपी में जाने की घोषणा कर सकती हैं. लेकिन ममता बनर्जी (Mamata Banerjee) के भतीजे और पार्टी सांसद अभिषेक बनर्जी से मिलने के बाद उन्होंने कहा, तृणमूल ने उनके अभिमान का ख्याल रखा है. मैं राजनीति में ममता बनर्जी के लिए आई थीं और उनके साथ रहूंगी.