कोरोना वायरस: ट्रेनों के बाद अब उड़ाने भी हुईं प्रभावित, इस कंपनी ने अपने कर्मचारियों को बिना सैलेरी भेजा छुट्टी पर

घरेलू विमानन कंपनी गोएयर ने कोरोना वायरस संकट के मद्देनजर मंगलवार से अपनी अंतरराष्ट्रीय उड़ानें निलंबित करने की घोषणा की है.

कोरोना वायरस: ट्रेनों के बाद अब उड़ाने भी हुईं प्रभावित, इस कंपनी ने अपने कर्मचारियों को बिना सैलेरी भेजा छुट्टी पर

प्रतीकात्मक

नई दिल्ली:

घरेलू विमानन कंपनी गोएयर ने कोरोना वायरस संकट के मद्देनजर मंगलवार से अपनी अंतरराष्ट्रीय उड़ानें निलंबित करने की घोषणा की है. उड़ानों की संख्या में कमी के चलते कंपनी क्रमिक आधार पर अपने कर्मचारियों को बिना वेतन के छुट्टी पर भेजेगी. सूत्रों ने जानकारी दी कि कंपनी किस्तों में कर्मचारियों के वेतन में 20 प्रतिशत कटौती करने की भी योजना बना रही है. कंपनी ने समाचार एजेंसी को दिए बयान में कहा कि कोरोना वायरस संकट की सबसे ज्यादा मार विमानन उद्योग पर पड़ी है. क्योंकि कई सरकारों ने यात्रा प्रतिबंध लगाए हैं. लोगों को यात्रा टालने या कम करने के परामर्श जारी किए हैं. कंपनियों ने भी अपने कर्मचारियों के यात्रा को सीमित किया है. विशेष समारोहों की तारीखें भी खिसकायी जा रही हैं. 

कोरोना वायरस के चलते इन ट्रेनों को किया गया कैंसिल, यात्रा करने से पहले लिस्ट चेक करें

कंपनी ने कहा कि मौजूदा समय में हवाई यातायात में आ रही तेज कमी का उसने पहले कभी अनुभव नहीं किया था. इसे देखते हुए उसने 17 मार्च से 15 अप्रैल तक अपनी सभी अंतरराष्ट्रीय उड़ानें निलंबित करने की घोषणा की है. गोएयर कुल 35 शहरों के बीच उड़ान सेवा देती है. इसमें आठ विदेशी स्थल भी शामिल हैं. कंपनी ने अपनी फुकेट, माले, मस्कट, अबू धाबी, दुबई, बैंकॉक, कुवैत और दम्माम की अंतरराष्ट्रीय उड़ानें 15 अप्रैल तक निलंबित कर दी हैं. इन उड़ानों को रद्द करने के बाद कंपनी की दैनिक उड़ानों की संख्या 325 से घटकर 280 रह गयी है. 

CAA का विरोध कर रहे प्रदर्शनकारियों से कमल हासन ने की अपील, कहा- स्वस्थ रहेंगे तो ही...

बयान के अनुसार कंपनी ने कर्मचारियों को क्रमिक आधार पर अवकाश पर भेजने का फैसला किया है। इन छुट्टियों की अवधि का वेतन नहीं दिया जाएगा। क्रमिक रूप से एक समय कुछ कर्मचारियों को कार्यस्थल से दूर रखा जाएगा। इससे कंपनी को उड़ानों की संख्या में कटौती के असर से निपटने में मदद मिलेगी.' कंपनी ने कहा कि वह जानती है कि इससे प्रभावित कर्मचारियों पर वित्तीय बोझ बढ़ेगा. लेकिन उसने इस निर्णय पर पहुंचने के लिए अन्य देशों में कंपनियों द्वारा अपनायी जा रही प्रक्रियाओं का अध्ययन किया है.  इसलिए इसे हल्के में नहीं लिया जाना चाहिए. सूत्रों के अनुसार अभी कंपनी की योजना अपने कार्यबल के 35 प्रतिशत को एक महीने के लिए बिना वेतन की छुट्टी पर भेजने की है. इसमें विदेशी हवाईअड्डों पर काम करने वाले कर्मचारी भी शामिल हैं. 

Newsbeep

कोरोना का कहर: सभी मंत्रालयों और सरकारी विभागों में विजिटर्स पास पर रोक लगाने के दिए निर्देश

Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com


सूत्रों के मुताबिक हवाई यातायात के सामान्य स्तर पर लौटने तक कंपनी को चलाए रखने के लिए गोएयर का किस्तों में कर्मचारियों के वेतन में 20 प्रतिशत की कटौती करने का भी प्रस्ताव है। इसके अलावा कंपनी जल्द ही विदेशी पायलटों की सेवा जारी रखने के बारे में भी फैसला करेगी क्योंकि अधिकतर उड़ानें रद्द होने से उनके पास काम नहीं होगा. इस संबंध में गोएयर के प्रवक्ता को भेजे गए सवालों का जवाब नहीं मिला है. इस बीच मुंबई से मिली खबर के मुताबिक दुबई की विमानन कंपनी ‘फ्लाईदुबई' ने यात्रा और वीजा प्रतिबंधों के चलते अपनी भारत की उड़ानों को अस्थायी तौर पर निलंबित कर दिया है. कंपनी 17 मार्च से 31 मार्च तक अपनी भारत की उड़ानों को रद्द रखेगी. वहीं इथोपियन एयरलाइंस ने अप्रैल 2020 में चेन्नई से शुरू होने वाली अपनी नयी उड़ान की शुरुआत को अगली सूचना तक के लिए टाल दिया है.