NDTV Khabar

पाकिस्तानी ड्रोन से पंजाब में हथियार गिराए जाने के बाद सुरक्षित सीमाओं के BSF के दावे पर उठे सवाल

पंजाब पुलिस के सूत्रों ने एनडीटीवी को बताया, 'एके-47 राइफल्स और ग्रेनेड की भारी मात्रा को ड्रोन के जरिए अमृतसर भेजा गया. ये ड्रोन पाकिस्तान से आए थे.'

 Share
ईमेल करें
टिप्पणियां
पाकिस्तानी ड्रोन से पंजाब में हथियार गिराए जाने के बाद सुरक्षित सीमाओं के BSF के दावे पर उठे सवाल

प्रतीकात्मक तस्वीर

खास बातें

  1. ड्रोन के जरिये भेजे जा रहे हथियारों के मुद्दे पर उठे सवाल
  2. IB अधिकारी ने कहा- पाक ने सीमा पर आधा दर्जन से ज्यादा बार ड्रोन भेजे
  3. गृह मंत्रालय ने सभी एजेंसियों से जवाब मांगा- IB अधिकारी
नई दिल्ली:

पंजाब सरकार ने एक बड़ा खुलासा करते हुए कहा है कि पाकिस्तान ड्रोन की मदद से हथियार और विस्फोटक भेज रहा है. इससे सीमा सुरक्षा बलों की इस धारणा को झटका लगा है कि ऑपरेशन सुदर्शन के माध्यम से अंतर्राष्ट्रीय सीमा को मजबूत किया गया था. जुलाई में आयोजित मेगा-अभ्यास का उद्देश्य झरझरा सीमा के पास कड़ी निगरानी करना था. इसके अलावा पेट्रोलिंग के साथ ही सुरक्षाबलों को यह निर्देश दिया गया था कि वह अपने वॉचटावर और पहरेदारों को और अधिक कुशलता से मजबूत करें. 

पाकिस्तान की बड़ी साजिश: J&K के लिए ड्रोन से भेज रहा हथियारों का जखीरा, 10 बार पार की सीमा, हर बार बचकर निकला

पंजाब पुलिस के सूत्रों ने एनडीटीवी को बताया, 'एके-47 राइफल्स और ग्रेनेड की भारी मात्रा को ड्रोन के जरिए अमृतसर भेजा गया. ये ड्रोन पाकिस्तान से आए थे. सूत्रों ने कहा कि इस महीने की शुरुआत में आठ उड़ानें हुईं और ये हथियार आतंकवादियों के लिए थे जो जम्मू-कश्मीर में परेशानी पैदा करने के लिए उनका इस्तेमाल कर सकते हैं. एक अधिकारी ने कहा, 'बीएसएफ दावा कर चुका है कि ऐसी छोटी उड़ानों को मॉनीटर करने की उनकी क्षमता नहीं है. ऐसी यूएवी का पता रडार के द्वारा ही लगता है, खुली आंखों से इन्हें नहीं देखा जा सकता. ऐसे ऑपरेशन रात में किए जाते हैं.' 


सीनियर बीएसएफ अधिकारी विवेक जौहरी गुरुवार को पंजाब का दौरा करने जा रहे हैं जिससे स्थिति को मॉनीटर किया जा सके. एक सीनियर अधिकारी ने कहा, 'वह टेक्नालॉजी के जरिए इस मामले को देखेंगे, हम मौजूदा अंतराल को पाट सकते हैं.' जौहरी आगे के क्षेत्रों का दौरा करेंगे जहां हवाई उल्लंघन स्पष्ट रूप से हुए थे. अपनी वापसी पर, वह केंद्रीय गृह मंत्रालय को एक रिपोर्ट सौंपेंगे. 

नेशनल टेक्निकल रिसर्च ऑर्गनाइजेशन यह जानने की कोशिश कर रहा है कि ड्रोन गतिविधि के समय अंतर्राष्ट्रीय सीमा में कितने फोन चालू थे. वे इस रिपोर्ट को एनएसए अजीत डोभाल को सौंपेंगे. 

हरसिमरत कौर पर बरसे अमरिंदर सिंह, कहा- जितना मैंने सोचा था उससे भी ज्यादा मूर्ख निकलीं आप

एक सीनियर इंटेजीलेंस अधिकारी ने एनडीटीवी से कहा, 'पंजाब के साथ अभेद्य अंतर्राष्ट्रीय सीमा को पाकिस्तान ने एक बार नहीं बल्कि ड्रोन द्वारा कई बार आधा दर्जन से अधिक बार तोड़ा है.' उन्होंने कहा, 'गृह मंत्रालय ने सभी एजेंसियों से जवाब मांगा है कि इस तरह के ड्रोन हमलों का पता क्यों नहीं लगा.'  

अधिकारी ने कहा, 'यह बीएसएफ, इंटेलिजेंस ब्यूरो और (बाहरी खुफिया एजेंसी) रिसर्च एंड एनालिसिस विंग की सामूहिक विफलता है. सभी को कमियां दूर करने के लिए मिलकर काम करने की जरूरत है.' 

टिप्पणियां

VIDEO: POK को लेकर राजनाथ सिंह का बड़ा बयान.



Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर लाइक और ट्विटर पर फॉलो करें.


 Share
(यह भी पढ़ें)... पारस छाबड़ा ने बिग बॉस 13 में सलमान खान से की बदतमीजी, भाईजान बोले- अपना मुंह बंद कर...देखें Video

Advertisement